खुद को जलाकर दूसरों को रोशन करता है शिक्षक

Auraiya Updated Thu, 06 Sep 2012 12:00 PM IST
फफूंद (औरैया)। श्रीराम कुमार भारतीय ज्ञान देवी महाविद्यालय में छात्र-छात्राओं ने रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए। मुख्य अतिथि व जनता महाविद्यालय के पूर्व प्राचार्य डा. हरसहाय पाठक ने कहा कि टीचर्स के अथक प्रयास से विद्यार्थियों को तराशता और निखारा जाता है। टीचर छात्रों के भविष्य निर्माण में अहम योगदान करता है। विद्यालय के प्रबंधक मुकेश भारतीय ने कहा कि टीचर ही समाज का दर्पण होता है। विद्यार्थियों को भी अपने गुरुओं का सम्मान करना चाहिए। समारोह में एहसान अली, सुल्तान अहमद, राकेश भारतीय, डा. ओपी सिंह आदि ने भी विचार प्रकट किए। प्रो. रवि शंकर दुबे, कल्पना अवस्थी, चंद्रप्रभा पाल, स्वाती पाल, रेखा, अनुपम सिंह आदि को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता राधा बल्लभ इंटर कालेज के
पूर्व प्रधानाचार्य रामसेवक चतुर्वेदी ने तथा संचालन हेमलता वर्मा ने किया।
इसके अलावा आरके देवी महाविद्यालय टीकमपुर में भी टीचर सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। प्रबंधक डा. जयगोपाल पांडेय ने टीचर्स को सम्मानित किया। कार्यक्रम में डा. कल्पना द्विवेदी, निधि दुबे, उपेंद्र, मुकुंदमणि दीक्षित, प्रो. पवन दुबे, रामकिशोर तिवारी, विष्णु देव उपाध्याय और कृष्ण सिंह आदि ने भाग लिया।
मुरादगंज प्रतिनिधि के अनुसार शिवइंटर कालेज हैदरपुर में टीचर्स डे मनाया गया। वरिष्ठ शिक्षक रामजीवन सविता ने भारत के राष्ट्रपति डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का उदाहरण प्रस्तुत करते हुए कहा कि उन्होंने एक शिक्षक के रूप में आदर्श प्रस्तुत किया। उसके बाद देश के सर्वोच्च पद को सुशोभित करते हुए शिक्षकों का सम्मान बढ़ाया । प्रधानाचार्य गजेंद्र नाथ पांडेय ने कहा कि भौतिकवादी युग में गुरु की गरिमा बनाए रखने की जरूरत है। कार्यक्रम में रवींद्र बाबू, अविनाश मिश्रा, दिनेश दुबे, गंगाराम राजपूत, सोनेलाल मिश्रा, यतेद्र दुबे, आलोक कुमार, देवेंद्र कुमार सक्सेना, श्याम प्रकाश चौधरी, सुरेश बाबू , अजीत प्रताप सिंह, राजेंद्र बाबू, रमेश बाबू और विपिन बिहारी द्विवेदी ने भी गुरू की महिमा का बखान किया।
बिधूना प्रतिनिधि के अनुसार पब्लिक डिग्री कालेज में पूर्व राष्ट्रपति डा. राधाकृष्णन का जन्मदिन शिक्षक दिवस के रूप में मनाया गया। कालेज की प्रबंधक प्रो. रचना सिंह ने कहा कि आज जब शिक्षा की गुणात्मकता का ह्रास होता जा रहा है ऐसे में डा. राधाकृष्णन का स्मरण एक बार फिर से नई चेतना पैदा कर सकता है। उन्होंने कहा कि शिक्षक उस मोमबत्ती की तरह है जो खुद को जलाकर दूसरों को रोशन करता है। भारतीय
संस्कृति में गुरु को ईश्वर से भी श्रेष्ठ माना गया है। प्राचार्य मनोज कुमार सिंह चौहान ने कहा कि शिक्षक समाज का निर्माता होता है। शिक्षकोें को अपनी गरिमा को समझना चाहिए।
इस मौके पर डा. अपरबल सिंह भदौरिया, डा. अश्वनी कुमार सिंह, महेश सिंह, राजीव कुमार आर्य, नितिन सेंगर, धीरेंद्र सेंगर, डा. निधि शर्मा, गौरी गुप्ता, प्रतिभा चौहान, नरेश सिंह, देवेंद्र सिंह, अनुराग भदौरिया, संजय सेंगर, अशोक सेंगर दिलीप सिंह ने भी विचार रखे। प्रबंधक प्यारेलाल द्विवेदी, प्राचार्य डा. धीरेंद्र सेंगर, निर्भय कुमार भी उपस्थित रहे।

Spotlight

Most Read

Madhya Pradesh

मध्यप्रदेश: कांग्रेस ने लहराया परचम, 24 में से 20 वॉर्ड पर कब्जा

मध्यप्रदेश के राघोगढ़ में हुए नगर पालिका चुनाव में कांग्रेस को 20 वार्डों में जीत हासिल हुई है।

20 जनवरी 2018

Related Videos

ट्रक लूटकर भाग रहे थे बदमाश, पुलिस ने दबोचा

औरेया में पुलिस को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है। पुलिस ने ट्रक लूट कर भाग रहे तीन शातिर बदमाशों को मुठभेड़ के बाद धर दबोचा। पुलिस ने बदमाशों के पास से तमंचा, कारतूस और चाकू बरामद की है।

19 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper