पैसे दो, प्रेक्टिकल में अच्छे नंबर लो

Auraiya Updated Sat, 25 Jan 2014 05:48 AM IST
औरैया। यदि आपका बच्चा स्व वित्त पोषित महाविद्यालय में पढ़ रहा है तो आप अपनी जेब ढीली करने को तैयार हो जाएं। सेल्फ फाइनेंस महाविद्यालयों ने प्रेक्टिकल के नाम पर धन उगाही की फुल प्रूफ योजना तैयार कर छात्र-छात्राओं पर फरमान के तौर पर लागू कर दी है। उक्त कालेजों ने अपनी-अपनी व्यवसायिक क्षमता के अनुसार प्रेक्टिकल के रेट निर्धारित कर दिए हैं और छात्रों से वसूली अभियान शुरू कर दिया गया है।
जिले में तकरीबन 35 सेल्फ फाइनेंस महाविद्यालय संचालित है, इनमें कुल छात्रों में से 70 फीसदी छात्र इन महाविद्यालयों में सीटों के अभाव में मजबूरीवश अध्ययनरत हैं। यहां प्रवेश के साथ ही छात्रों से धन उगाही की प्रक्रिया शुरू हो जाती है और परीक्षाफल आने के बाद भी जारी रहती है।
अब स्व वित्त पोषित विद्यालयों में प्रेक्टिकल सहालग के तौर पर आए हैं। बीए और बीएससी के छात्र-छात्राएं इन कालेजोें के शिकार हैं। इन महाविद्यालयों में प्रेक्टिकल के रेट निर्धारित कर रखे हैं। कीमत न देने की सूरत में छात्र-छात्राओं पर कम नंबर देने और उनके प्रयोगात्मक फाइल में कमी निकाली जा रही है। उक्त कालेजों में प्रेक्टिकल के नाम पर प्रति विषय 300 से लेकर 800 रुपये तक वसूली की जा रही है।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाला: चाईबासा कोषागार मामले में कोर्ट ने सुनाया फैसला, तीसरे केस में लालू दोषी करार

रांची स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने चारा घोटाले के तीसरे मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। साथ ही पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को भी दोषी ठहराया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

बगैर जांच के नौकर रखने वाले सावधान, औरैया में लूट की फिराक में धरे गए पांच बदमाश

दुकानों या घरों में नौकर रखने वाले जरा सावधान हो जाएं। बिना जांच पड़ताल के रखे गए नौकर आपकी जान के दुश्मन बनकर आपकी संपत्ति भी लूट सकते हैं। औरैया पुलिस ने एक ऐसे ही मामले का खुलासा कर एक व्यापारी के नौकर के चेहरे का नकाब उतार फेंका है।

22 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls