सौ के पार हुए एचआईवी पाजििटव

Auraiya Updated Sat, 01 Dec 2012 12:00 PM IST
औरैया। प्रचार-प्रसार का अभाव कहें या अज्ञानता, सात वर्ष पहले जिले में शुरू हुआ एकीकृत परामर्श एवं परीक्षण केंद्र के शुरू होने से लेकर अब तक गुजरे एचआईवी पाजिटिव की संख्या बढ़ती जा रही है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़े को माना जाए तो अब जिले में इन रोगियों की संख्या सौ का ग्राफ पार कर 101 तक पहुंच चुकी है। स्वास्थ्य अधिकारियों की राय में अब भी चेते तो कहीं देर न हो जाए की तर्ज पर इस रोग से निपटने के लिए संयुक्त प्रसाय सार्थक परिणाम निकालने में सहायक साबित हो सकते हैं।
एड्स जैसे जानलेवा रोग से बचाव के लिए मई 2006 में जिला अस्पताल में एकीकृत परामर्श एवं परीक्षण केंद्र को मिशन के रूप में लेकर शुरुआत की गई। जिले में परामर्श केंद्र के खुलने के बाद से ही एचआईवी पाजिटिव रोगी प्रकाश में आने शुरू हो गए। इस वर्ष केंद्र ने सात माह में तीन रोगी एचआईवी संक्रमण के चिंहित किए हैं। केंद्र शुरू होने के दूसरे वर्ष 2007 में जिले में 15 रोगी सामने आए तो वर्ष 2009 में अब तक के सर्वाधिक 19 रोगियों की चिह्नित किया गया।
वर्ष 2011 में एक बार फिर एचआईवी संक्रमित रोगियों की संख्या में दहाई का आंकड़ा पार किया। इस वर्ष नौ पुरुषों और सात महिला रोगियों की शिनाख्त की गई। जिला अस्पताल में संचालित एकीकृत परामर्श एवं परीक्षण केंद्र अब तक जिले में 101 एड्स रोगियों की शिनाख्त कर चुका है। इनमें 46 पुरुष और 40 महिलाएं एचआईवी पाजिटिव हैं।
इनसेट
जिले में एचआईवी पाजिटिव रोगियों की संख्या
वर्ष पुरुष महिला योग
2006 01 02 03
2007 06 09 15
2008 07 04 11
2009 12 07 19
2010 03 06 09
2011 09 07 16
2012 07 05 12
-------------------------------
योग 46 40 85
-------------------------------
जिले में एचआई संक्रमण अब तक 11 एचआईवी पाजिटिव के बच्चों को जन्म लेने से पहले ही रोग विरासत में मिला तथा पांच गर्भवती महिलाओं को एचआईवी संक्रमित चिह्नित किया जा चुका है। एड्स रोग से बचाव के लिए संयुक्त प्रयास आवश्यक है। -प्रभारी जिला क्षय रोग नियंत्रण अधिकारी डा. श्याम सूरी
इनसेट
एड्स से दूरी बनाएं
रोगी से नहीं
dlअमर उजाला ब्यूरो
औरैया। एक दिसंबर विश्व एड्स दिवस की पूर्व संध्या पर शुक्रवार को जिला स्वास्थ्य महकमे की ओर से कैंडिल मार्च निकाला गया। इसमें लोगों को सावधानी ही उपाय है बताकर जागरूक किया। साथ ही एड्स से दूरी तो एड्स रोगियों से नहीं।
जिला क्षय रोग नियंत्रण अस्पताल से शुरू हुए कैंडिल मार्च को मुख्य चिकित्साधिकारी डा. नरेंद्र कुमार सिंह यादव ने रवाना किया। इस मौके पर सीएमओ सिंह ने कहा कि एड्स लाइलाज है। सावधानी और बचाव ही उसका एकमात्र इलाज है। उन्होंने कहा कि एचआई संक्रमण छूने से नहीं फैलता है। जिला अस्पताल से शुरू हुए कैंडिल मार्च में शामिल लोग चेहरे ज्ञान का दीपक जलाना है, एड्स को जड़ से मिटाना है का संदेश दे रहा थे।
इस दौरान प्रभारी जिला क्षय रोग नियंत्रण अधिकारी डा. श्याम सूरी, एसीएमओ डा. प्रवीन राजायदा, सीएसएमडी डा. आरएन त्रिपाठी, डा. अरुण तिवारी, डा. सुधीर मोहन, संजय दीक्षित, चंद्र शेखर संजीव कुमार, सर्वेश कुमार, गिरजेश कुमार, अर्चना सिंह, आशीष मिश्रा के अलावा रेडक्रास सोसाइटी के चेयरमैन डा. सर्वेश आर्य, वाइस चेयरमैन विनय अग्रवाल, कोषाध्यक्ष आंनद पोरवाल, कुलदीप सिंह यादव, डा. एसपी सिंह, विकास सक्सेना, डा. देवेंद्र त्रिपाठी, डा. एसपी बाजपेई, राघवेंद्र पोरवाल एवं विपिन मित्तल आदि मौजूद रहे।

Spotlight

Most Read

Chandigarh

हरियाणाः यमुनानगर में 12वीं के छात्र ने लेडी प्रिंसिपल को मारी तीन गोलियां, मौत

हरियाणा के यमुनानगर में आज स्कूल में घुसकर प्रिंसिपल की गोली मारकर हत्या कर दी गई। मामले में 12वीं के एक छात्र को गिरफ्तार किया गया है।

20 जनवरी 2018

Related Videos

ट्रक लूटकर भाग रहे थे बदमाश, पुलिस ने दबोचा

औरेया में पुलिस को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है। पुलिस ने ट्रक लूट कर भाग रहे तीन शातिर बदमाशों को मुठभेड़ के बाद धर दबोचा। पुलिस ने बदमाशों के पास से तमंचा, कारतूस और चाकू बरामद की है।

19 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper