विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नएवर्ष में कराएं महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का एक माह तक जलाभिषेक, होगी परिवारजनों के अच्छे स्वास्थ्य की प्राप्ति
Astrology Services

नएवर्ष में कराएं महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का एक माह तक जलाभिषेक, होगी परिवारजनों के अच्छे स्वास्थ्य की प्राप्ति

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

अलीगढ़ की तीन वन रेंज में करोड़ों का पौधरोपण घोटाला, विभागीय जांच पूरी 

अलीगढ़ की तीन वन रेंज में हुए पौधरोपण में बड़ा घोटाला सामने आया है।

15 दिसंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

अम्बेडकरनगर

रविवार, 15 दिसंबर 2019

छात्र-छात्राओं को मुहैया कराया जाएगा खेल का सामान

अंबेडकरनगर। जिले के 1873 परिषदीय विद्यालयों में करीब सवा करोड़ की लागत से छात्र-छात्राओं को खेल के उपकरण उपलब्ध कराए जाएंगे। इसका लाभ इन विद्यालयों में पढ़ने वाले दो लाख 11 हजार छात्र-छात्राओं को मिलेेगा। न सिर्फ इंडोर बल्कि आउट डोर खेल का आनंद बच्चे उठा सकेंगे। साथ ही महापुरुषों के जीवन पर प्रकाश डालने वाली पुस्तकों समेत अन्य ज्ञानवर्धक किताबें भी पढ़ने के लिए उन्हें विद्यालय में उपलब्ध करायी जाएंगी। इस बीच खेल सामग्रियों के लिए एक करोड़ 19 लाख 65 हजार रुपये की राशि बीएसए कार्यालय को मिली है। इसे विद्यालय प्रबंध समिति के खाते में भेजने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।
परिषदीय विद्यालयों की तरफ छात्र-छात्राओं व उनके अभिभावकों की रुचि बनी रहे, इसके लिए केंद्र व प्रदेश सरकारों द्वारा विभिन्न प्रकार की योजनाओं का संचालन किया जा रहा है। इसमें दोपहर का भोजन देने के साथ ही पुस्तकें, जूता मोजा, स्वेटर, स्कूली बैग भी निशुल्क उपलब्ध कराया जा रहा है। इन सबके बीच अब शासन ने छात्र-छात्राओं को विद्यालय परिसर में ही खेल का आनंद लेने के लिए जरूरी खेल सामग्री उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है। साथ ही विद्यालय में ही पुस्तकालय की भी स्थापना किए जाने का निर्णय लिया, जिसमें न सिर्फ महापुरुषों के जीवन पर प्रकाश डालती पुस्तकें होंगी, बल्कि संगीत व प्रतियोगी परीक्षाओं की भी महत्वपूर्ण पुस्तकें शामिल होंगी। बताते चलें कि जिले के विभिन्न क्षेत्रों में कुल 1873 परिषदीय विद्यालय संचालित हैं, जिसमें दो लाख 11 हजार छात्र-छात्राएं शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं।
बीएसए कार्यालय के वरिष्ठ लिपिक देवेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि खेलकूद सामग्री के लिए गत दिवस ही शासन से 1 करोड़ 19 लाख 65 हजार रुपये की राशि उपलब्ध हो चुकी है। इसमें 520 उच्च प्राथमिक विद्यालयों में 10 हजार रुपये प्रति विद्यालय की दर से 52 लाख, जबकि 1353 प्राथमिक विद्यालयों में 5 हजार रुपये की दर से 67 लाख 65 हजार रुपये भेजे जाएंगे। जिला समन्वयक डॉ. हरिश्चंद्र शुक्ला ने बताया कि विद्यालय प्रबंध समिति के खाते में राशि भेजे जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। प्रबंध समिति को निर्देशित किया गया है कि विद्यालय में खेल मैदान को देखते हुए ही खेल सामग्रियों की खरीददारी की जाए।
वरिष्ठ लिपिक डीपी सिंह ने बताया कि जिले में संचालित सभी 1873 परिषदीय विद्यालयों में पुस्तकालय की भी व्यवस्था की जाएगी। इसके लिए भी शासन से 1 करोड़ 19 लाख 65 हजार रुपये की राशि शीघ्र ही शासन से उपलब्ध हो जाएगी। बताया कि पुस्तकालय में महापुरुषों के जीवन पर प्रकाश डालती पुस्तकों के साथ ही संगीत संबंधित पुस्तकें भी उपलब्ध होंगी। इसके अलावा बाल कहानियां व प्रतियोगी परीक्षाओं से संबंधित पुस्तकें भी लाइब्रेरी में उपलब्ध रहेंगी। पुस्तकों की खरीददारी भी विद्यालय प्रबंध समिति द्वारा किया जाएगा।
खेल सामग्रियों की खरीददारी के लिए शासन से 1 करोड़ 19 लाख 65 हजार रुपये की राशि प्राप्त हो गई है। खेल सामग्रियों की खरीददारी की जा सके, इसके लिए शीघ्र ही विद्यालय प्रबंध समिति के खाते में राशि भेज दी जाएगी। इसके अलावा पुस्तकालय के लिए भी शीघ्र ही शासन से राशि उपलब्ध हो जाएगी।
- अतुल कुमार सिंह, बीएसए
... और पढ़ें

बरवा बैरमपुर उपकेंद्र से जुड़े उपभोक्ताओं की बढ़ीं मुश्किलें

अंबेडकरनगर। विद्युत उपकेंद्र बैरमपुर बरवां से जुड़े उपभोक्ताओं को पर्याप्त बिजली नहीं मिल पा रही है। इससे उनमें गुस्सा है। उनका कहना है कि निर्धारित 20 घंटे के रोस्टर के बजाए 14 घंटे ही बिजली मिल रही है। इसके चलते पेयजल समस्या के साथ तमाम तरह की दिक्कतें हो रही हैं।
विद्युत उपकेंद्र बरवा बैरमपुर से जुड़े उपभोक्ताओं को पिछले कुछ दिनों से सुचारु विद्युत आपूर्ति नहीं मिल पा रही। उपभोक्ताओं की मानें तो भोर में ही बिजली काट दी जाती है। इसके बाद सुबह आठ बजे आपूर्ति की जाती है। करीब दस बजे दोबारा कटौती कर ली जाती है। इसी तरह से दिन में कई चक्र में बिजली की कटौती होती रहती है। नतीजा यह होता है कि जहां पेयजल के लिए लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ता है, वहीं बिजली से होने वाले कई अन्य कार्य भी प्रभावित होते रहते हैं। पॉवर कार्पोरेशन के अधिकारियों व कर्मचारियों की लापरवाही का खामियाजा दर्जनों गांवों के उपभोक्ताओं को भुगतना पड़ता है।
उपभोक्ताओं का कहना है कि दिन के समय में होने वाले कटौती से कई कार्य प्रभावित होते हैं। इसके अलावा खेती से भी जुड़े कई कार्य समय से नहीं हो पाते। वहीं सरकार आये दिन बिजली की दरों में बढ़ोत्तरी करती रहती है, लेकिन अनियमित कटौती को दूर करने को लेकर कोई कदम नहीं उठाया जाता। उपभोक्ताओं ने पॉवर कार्पोरेशन के अधिकारियों से बिजली आपूर्ति सुचारु करने की मांग की है। उधर अधिशाषी अभियंता वीके पटेल ने बताया कि कई बार तकनीकी गड़बड़ी या मरम्मत कार्यों के चलते आपूर्ति प्रभावित होती है, लेकिन जानकारी मिलते ही तत्परतापूर्वक उसे दूर कराया जाता है।
... और पढ़ें

अगहन पूर्णिमा स्नान के साथ श्रवणक्षेत्र का मेला शुरू

श्रवणक्षेत्र। माता-पिता की भक्ति के प्रतीक श्रवण कुमार की तपोस्थली गुरुवार को आस्था की गवाह बनी। ठंड के बावजूद भोर से ही श्रद्धालु मड़हा व बिसुही नदी के संगम तट पर अगहन पूर्णिमा स्नान के लिए पहुंचने लगे। स्नान के बाद श्रद्धालुओं ने पूरी आस्था के साथ श्रवण कुमार की प्रतिमा के समक्ष पूजन-अर्चन किया। श्रद्धालुओं ने मंदिर की परिक्रमा भी की। स्नान-पूजन के साथ ही पांच दिवसीय श्रवणक्षेत्र मेले का शुभारंभ भी हो गया। मेले में बड़ी संख्या में मेलार्थी पहुंचे। मेले में कई तरह की दुकानें भी सज चुकी हैं। युवाओं ने मनोरंजन के साथ ही सामानों की खरीददारी भी की। वहीं, प्रशासनिक उपेक्षा के चलते श्रद्धालुओं को कई मुश्किलों का सामना करना पड़ा।
श्रवणक्षेत्र धाम में स्थित मड़हा व बिसुही नदी के संगम तट पर गुरुवार को अगहन पूर्णिमा स्नान के लिए श्रद्धालुओं की भारी भीड़ जुटी। श्रद्धालु भोर से ही पहुंचने लगे थे। अंबेडकरनगर के अलावा सुल्तानपुर व अयोध्या जिले से भी काफी संख्या में श्रद्धालु ने यहां पहुंचकर संगम तट पर डुबकी लगायी। इसके बाद विधि विधान से माता-पिता केकीभक्ति के प्रतीक श्रवण कुमार की प्रतिमा के समक्ष पूजन-अर्चन कर दुआ मांगी। ठंड व अव्यवस्था होने के बावजूद बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौके पर पहुंचकर पूजन अर्चन किया। मेले में दोपहर बाद मेलार्थियों की भी भीड़ पहुंची। देर शाम तक मेले में मेलार्थियों की आमद बनी रही।
इससे दुकानदारों के भी चेहरे खिले नजर आए। मेले में बड़ी संख्या में खाद्यान्न सामानों के अलावा मनोरंजन के लिए भी प्रतिष्ठान सजे हुए हैं। झूला, सर्कस, जादूगर, मौत का कुआं आदि का युवा खूब आनंद उठा रहे हैं। प्रशासन के असहयोग के चलते मेले में पहुंचे श्रद्धालुओं को मुश्किलों का सामना करना पड़ा। न तो कई अलाव की व्यवस्था की गई, और न ही पर्याप्त प्रकाश की। इससे भोर में पहुंचे श्रद्धालुओं को स्नान के बाद ठंड का सामना करना पड़ा। मार्ग की बदहाली के चलते भी श्रद्घालुओं को मुश्किल हुई। इस बीच गुरुवार पूर्वाह्न करीब एसडीएम सदर अभिषेक पाठक व सीओ सदर धर्मेंद्र सचान श्रवणक्षेत्र पहुंचे। अधिकारियों ने फीता काटकर मेले का शुभारंभ किया। एसडीएम ने श्रद्धालुओं व दुकानदारों को भरोसा दिलाया कि समुचित व्यवस्थाएं मुकम्मल की गई हैं। सीओ ने बताया कि श्रद्धालुओं व दुकानदारों की सुरक्षा के लिए पर्याप्त पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है। मेलार्थियों को किसी प्रकार की दिक्कत नहीं होने पाएगी।
... और पढ़ें

बारिश थमने के बाद श्रवणक्षेत्र मेले में लौटी रौनक

श्रवणक्षेत्र (अंबेडकरनगर)। बारिश के बाद शनिवार सुबह निकली कड़ी धूप के साथ श्रवणक्षेत्र धाम में चल रहे मेले की भी रौनक लौट आई। न सिर्फ बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने श्रवण कुमार का पूजन अर्चन किया, बल्कि घरेलू सामानों के साथ साथ कई अन्य जरूरी सामानों की खरीददारी भी की। वहीं बच्चों ने झूलों आदि का लुत्फ उठाया तो युवाओं ने मौत के कुएं का आनंद लिया।
श्रवणक्षेत्र धाम में चला रहा मेला शुक्रवार को बारिश की भेंट चढ़ गया था। मेला परिसर के कई स्थानों पर न सिर्फ जलभराव व कीचड़ हो गया था, वरन श्रद्धालु भी नाम मात्र की संख्या में पहुंचे। दुकानदारों को भी बारिश के चलते कई मुसीबतों का सामना करना पड़ा। कई दुकानदारों के पास बारिश से बचने के पर्याप्त संसाधन न होने के चलते उनके तमाम सामान भीग गए। हालांकि शनिवार को निकली कड़ी धूप के साथ एक बार फिर से मेला परिसर में रौनक छा गयी। सुबह से ही श्रद्धालु मेला परिसर पहुंचने लगे, जो शाम तक अनवरत जारी रहा।
मेले के तीसरे दिन एक तरफ जहां बच्चों ने झूलों आदि का लुत्फ उठाया तो युवाओं ने मौत के कुएं का आनन्द लिया। मेले में बिक रही खझला मिठाई की दुकान परभीड़ दिखी तो जलेबी, पेठा व गट्टे का मेलार्थियों ने खूब लुत्फ उठाया। ठंड के बावजूद शाम तक श्रद्धालुओं ने मेला परिसर पहुंचकर मेले का आनन्द उठाया। व्यवस्थापक ओमप्रकाश गोस्वामी ने बताया कि शुक्रवार को हुई बारिश के चलते दुकानदार मायूस हो गए थे, लेकिन शनिवार को धूप निकलने के साथ एक बार फिर से दुकानदारों के चेहरे खिल उठे। शनिवार को श्रद्धालुओं की भीड़ को नियंत्रित करने में पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी।
... और पढ़ें
अंबेडकरनगर के श्रवणक्षेत्र मेले में खरीददारी करतीं महिलाएं अंबेडकरनगर के श्रवणक्षेत्र मेले में खरीददारी करतीं महिलाएं

जिले में जल्द बनना शुरू होंगी आठ सड़कें

अंबेडकरनगर। पंडित दीनदयाल उपाध्याय संपर्क मार्ग योजना के तहत जिले के विभिन्न क्षेत्रों में 8 संपर्क मार्ग का निर्माण होगा। 3 करोड़ 85 लाख 56 हजार रुपये से निर्मित होने वाली सड़कों के निर्माण की जिम्मेदारी कार्यदायी संस्था प्रांतीय खंड लोक निर्माण विभाग को सौंपी है। निर्माण कार्य में किसी प्रकार की आर्थिक बाधा न उत्पन्न हो, इसके लिए प्रथम किस्त के रूप से लगभग पौने दो करोड़ रुपये की राशि भी कार्यदायी संस्था को उपलब्ध करा दी गई है। संबंधित सड़कों के निर्माण से करीब 80 हजार की आबादी को सुचारु आवागमन में लाभ मिलेगा।
नागरिकों को सुचारु आवागमन में किसी भी प्रकार की मुश्किल न हो, इसके लिए केंद्र व प्रदेश सरकारों द्वारा विभिन्न प्रकार की योजनाओं के तहत सड़क व संपर्क मार्गों का निर्माण कराया जा रहा है। इसके अलावा क्षतिग्रस्त सड़कों का नवीनीकरण भी किया जा रहा है। इसका नागरिकों को व्यापक लाभ भी मिल रहा है। इसी क्रम में पंडित दीनदयाल उपाध्याय संपर्क मार्ग योजना के तहत बीते दिनों 8 सड़कों के निर्माण के लिए शासन को पत्र भेजा गया था। विशेष सचिव पीडब्ल्यूडी गिरिजेश कुमार त्यागी ने बताया कि शासन ने संबंधित सड़कों के निर्माण को हरी झण्डी प्रदान कर दी।
विभाग के अवर अभियंता हरेकृष्ण के अनुसार योजना के तहत 3 सड़कों का निर्माण होना है। 3 करोड़ 85 लाख 56 हजार रुपये की लागत से निर्मित होने वाली सड़कों के निर्माण की जिम्मेदारी विभाग को सौंपी गई है। निर्माण के लिए प्रथम किस्त के रूप में लगभग पौने दो करोड़ रुपये की राशि कार्यदायी संस्था को उपलब्ध करा दी गई है। जरूरी प्रक्रिया पूर्ण करने के बाद शीघ्र ही संबंधित सड़कों के निर्माण कार्य प्रारंभ कर दिया जाएगा। इन सड़कों के निर्माण से लगभग 80 हजार की आबादी को सुचारु आवागमन में लाभ होगा।
प्रांतीय खंड लोक निर्माण विभाग के अवर अभियंता हरेकृष्ण ने बताया कि जिन 8 सड़कों का निर्माण होना है। उनमें बेहरोजपुर से मुस्तफाबाद तक के मार्ग के लिए के लिए स्वीकृत 44 लाख 63 हजार के सापेक्ष 17 लाख 85 हजार रुपये, दहिावर से गोपालपुर संपर्क के लिए 57 लाख 47 हजार के सापेक्ष 22 लाख 99 हजार रुपये, फूलपुर हरिजन बस्ती मार्ग निर्माण के लिए 57 लाख 30 हजार के सापेक्ष 22 लाख 92 हजार रुपये, दहियावर गंजा मार्ग निर्माण के लिए 55 लाख 34 हजार के सापेक्ष 22 लाख 92 हजार रुपये से निर्माण होना है।
एकडल्ला संपर्क मार्ग के लिए 76 लाख 95 हजार के सापेक्ष 30 लाख 78 हजार रुपये, अजमेरी बादशपुर केशवपुर मार्ग के लिए 29 लाख 2 हजार के सापेक्ष 11 लाख 61 हजार रुपये, जल्लापुर साबुकपुर बसहिया मार्ग निर्माण के लिए 40 लाख 47 हजार के सापेक्ष 16 लाख 19 हजार व आसोपुर दक्षिण संपर्क मार्ग के लिए 24 लाख 38 हजार रुपये के सापेक्ष 9 लाख 75 हजार रुपये की राशि प्रथम किस्त के रूप में प्राप्त हो गई है।
पंडित दीनदयाल उपाध्याय संपर्क मार्ग योजना के तहत 8 मार्गों का निर्माण होना है। इसके लिए प्रथम किस्त के रूप में राशि भी शासन से प्राप्त हो गई है। शीघ्र ही सभी जरूरी प्रक्रियाएं पूर्ण कर निर्माण मार्ग प्रारंभ कर दिया जाएगा।
शंकर्षणलाल, अधिशाषी अभियंता पीडब्ल्यूडी
... और पढ़ें

371 ग्राम प्रधानों व सचिवों पर लटकी तलवार

अंबेडकरनगर। जिले की 371 ग्राम पंचायत के सचिवों व ग्राम प्रधान पर कार्रवाई की तलवार लटक गई है। दरअसल, इन लोगों ने विकास कार्यों के लिए 2018-19 में मिली राशि का उपभोग प्रमाणपत्र अब तक नहीं दिया है। बार-बार पत्र भेजे जाने के बाद भी जब उपभोग प्रमाणपत्र नहीं दिया गया तो अब पंचायतराज अधिकारी कार्यालय से संबंधित सचिवों व प्रधानों को नोटिस जारी करते हुए चेतावनी दी गई है कि जल्द ही उपभोग प्रमाणपत्र नहीं दिया गया तो कार्रवाई की जाएगी।
ग्राम पंचायतों में विकास कार्यों के लिए राज्य वित्त व 14वें वित्त के तहत राशि ग्राम पंचायत निधि के खाते में भेजी जाती है। इसी क्रम में वर्ष 2018-19 में जिले की 927 ग्राम पंचायतों में 27 करोड़ रुपये 14वें वित्त व राज्य वित्त के तहत भेजे गए थे। 556 ग्राम पंचायतों ने बीते माह उपभोग प्रमाणपत्र पंचायतराज कार्यालय को भेज दिया था, लेकिन 371 ग्राम पंचायतों ने अब तक संबंधित राशि का उपभोग प्रमाणपत्र नहीं दिया है। इसके लिए पंचायतीराज कार्यालय द्वारा संबंधित ग्राम पंचायत के सचिवों व ग्राम प्रधानों को कई बार पत्र जारी कर उपभोग प्रमाणपत्र उपलब्ध कराने को कहा गया, लेकिन इसे लेकर गंभीरता नहीं दिखाई गई।
डीपीआरओ कार्यालय के वरिष्ठ लिपिक रईस अहमद ने बताया कि रामनगर, जलालपुर, जहांगीरगंज व बसखारी विकास खंड की ज्यादातर ग्राम पंचायतों ने उपभोग प्रमाणपत्र उपलब्ध करा दिया गया है। वहीं, अकबरपुर, भीटी, टांडा, कटेहरी व भियांव विकास खंड की ज्यादातर ग्राम पंचायतों द्वारा कई बार पत्र भेजे जाने के बाद भी अब तक उपभोग प्रमाणपत्र नहीं उपलब्ध कराया गया है। इसे अनुशासनहीनता मानते हुए नोटिस जारी किया गया है। संबंधित ग्राम पंचायत के सचिवों व ग्राम प्रधानें को चेतावनी दी गई है कि जल्द ही उपभोग प्रमाणपत्र नहीं उपलब्ध कराया गया तो उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।
जिन 371 ग्राम पंचायतों से उपभोग प्रमाणपत्र नहीं मिला है, उनके ग्राम प्रधानों व सचिवों को नोटिस जारी किया गया है। चेतावनी दी गई कि यदि जल्द ही उपभोग प्रमाणपत्र नहीं दिया गया तो विधिक कार्रवाई की जाएगी।
- रामअशीष चौधरी, डीपीआरओ
... और पढ़ें

अमड़ी टोल प्लाजा पर फास्टैग के लिए तैयारियां पूरी

आलापुर। अंबेडकरनगर-आजमगढ़ फोरलेन पर अमड़ी गांव के पास टोल प्लाजा पर फास्टैग सिस्टम रविवार सुबह आठ बजे से लागू हो जाएगा। ऑनलाइन टोल फीस जमा करने के बाद इस टैग से बगैर रुके आना-जाना हो सकेगा। लोगों को मुश्किल न हो, इसके लिए जरूरी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। यहां चार में से तीन लेन में फास्ट टैग की सुविधा दी गई है।
आलापुर तहसील क्षेत्र के अमड़ी गांव के पास टोल प्लाजा है। इस टोल से होकर गुजरने वालों को पर्ची कटवाने में किसी प्रकार की दिक्कत न हो, इसके लिए चार काउंटर कार्य कर रहे हैं। हर दिन इस प्लाजा से होकर छोटे-बड़े करीब चार हजार वाहन गुजरते हैं। लोगों की सुविधा के लिए टैग देने पर काम शुरू हुआ था।
इस टैग के जरिए लोगों को बिना रुके गुजरने का मौका देने का प्रावधान है। जिन्होंने ऑन लाइन टोल फीस जमा कर दी। टोल प्लाजा प्रबंधक रंजन ने बताया कि फास्टैग की सुविधा से जुड़ा काम पूरा कर लिया गया है। रविवार से इस टैग से वाहनों की आवाजाही शुरू हो गई। बताया कि जिस प्रकार मोबाइल रिचार्ज कराया जाता है, उसी तरह टोल फीस ऑनलाइन जमा करनी होगी। इस सुविधा के लिए वाहन मालिक को वाहन की आरसी, अपनी दो फोटो समेत वाहन संबंधी अन्य सभी जरूरी कागजात जमा करने होंगे।
जब तक रिचार्ज की राशि रहेगी तब तक फास्टैग से होकर गुजरने की छूट रहेगी। इसके बाद दोबारा रिचार्ज कराना होगा। बताया कि फास्ट टैग पर रविवार से सुचारु आवागमन हो सके, इसके लिए सभी जरूरी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।
... और पढ़ें

मौसम साफ होने से मिली राहत

अंबेडकरनगर के इस टोल प्लाजा पर आज से लागू हो रही अनिवार्य फास्टैग सुविधा
अंबेडकरनगर। शुक्रवार को बारिश व ठंड के बाद शनिवार को सुबह से ही मौसम साफ रहा। सुबह से ही धूप निकली। मौसम साफ होने से शुक्रवार को अस्तव्यस्त हुआ आम जनजीवन शनिवार को पटरी पर लौट आया। जिला मुख्यालय के अलावा अन्य छोटी बड़ी बाजारें लगभग पूरे दिन उपभोक्ताओं से गुलजार रहीं। मौसम के फिर से खराब होने की संभावना को देखते हुए लोगों ने संबंधित बाजारों में पहुंचकर जरूरत के सामानों की बढ़ चढ़कर खरीददारी की। उधर मौसम साफ होने से किसानों ने भी राहत की सांस ली है।
गुरुवार रात अचानक मौसम खराब हो गया। तेज हवा के साथ बारिश का दौर शुरू हो गया। यह सिलसिला शुक्रवार को भी लगभग पूरे दिन जारी रहा था। बारिश के चलते तापमान में भी गिरावट आई थी। ठंड के बढ़ने व बारिश के होने से आम जनजीवन पूरी तरह अस्त व्यस्त हो गया था। उम्मीद थी कि शनिवार को भी बारिश का सिलसिला जारी रहेगा, लेकिन अनुमान के विपरीत रहा। सुबह से ही मौसम साफ रहा। सुबह से ही धूप निकल आई। इससे ठंड से ठिठुर रहे लोगों को जहां राहत मिली, वहीं शुक्रवार को बेपटरी हुआ आम जनजीवन शनिवार को सामान्य रहा।
उधर मौसम सामान्य होने से किसानों ने भी राहत की सांस ली। अकबरपुर के किसान संजय वर्मा व सजीवन जायसवाल ने कहा कि शुक्रवार को हुई बारिश से गेहूं की बुआई दो तीन दिन विलंब हो गई। यदि धूप अच्छी निकली तो, सोमवार तक बुआई कर दी जाएगी। भीटी के किसान सुनील कुमार व प्रदीप कुमार ने कहा कि बारिश ने उन्हें चिंतित कर दिया था। अब जबकि बारिश का दौर नहीं है और धूप भी निकल आई है, तो इससे दो तीन दिन में गेहूं की बुआई की जा सकेगी।
... और पढ़ें

लेखपालों ने प्रदर्शनकर जताया विरोध

अंबेडकरनगर। पुरानी पेंशन बहाली, पदोन्नति, अतिरिक्त कार्य न लिए जाने समेत विभिन्न मांगों को लेकर शुक्रवार को उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ के तत्वावधान में सभी तहसीलों के लेखपालों ने कलेक्ट्रेट के पास धरना दिया। कहा कि उनकी समस्याओं को लेकर जिम्मेदार लोगों की ओर से गंभीरता नहीं दिखाई जा रही है। चेतावनी दी गई कि यदि 15 दिसंबर तक मांगों का निस्तारण नहीं हुआ तो लखनऊ में धरना-प्रदर्शन किया जाएगा।
बीते 10 से 12 दिसंबर तक हर तहसील मुख्यालय पर लेखपालों ने हड़ताल कर प्रदर्शन किया था। मांगें पूरी न होने पर पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार, शुक्रवार 13 दिसंबर से कलेक्ट्रेट के पास सभी तहसीलों के लेखपालों ने पहुंचकर धरना-प्रदर्शन किया। 15 दिसंबर तक कलेक्ट्रेट के पास चलने वाले प्रदर्शन के पहले दिन जिलाध्यक्ष रामचरन दुबे ने कहा कि बीते तीन दिनों तक तहसील मुख्यालयों पर धरना-प्रदर्शन के बावजूद जिम्मेदार लोगों ने किसी भी प्रकार की गंभीरता नहीं दिखाई।
ऐसे में मजबूर होकर कलेक्ट्रेट के पास धरना देना पड़ रहा है। 15 दिसंबर तक यहां धरना दिया जाएगा। यदि इसके बाद भी मांगों का निस्तारण नहीं किया गया तो लखनऊ में धरना प्रदर्शन किया जाएगा। वक्ताओं ने कहा कि पुरानी पेंशन बहाली की मांग लंबे समय से की जा रही है, लेकिन इसे लेकर जिम्मेदार लोगों द्वारा तनिक भी गंभीरता नहीं दिखाई जा रही है। अतिरिक्त कार्य न लिए जाने की मांग को भी नजरअंदाज किया जा रहा है।
इस प्रकार की उपेक्षा अब बर्दाश्त नहीं की जाएगी। जायज मांगों को लेकर जो संघर्ष छेड़ा गया है उसे अब अंजाम तक पहुंचाया जाएगा। इस दौरान रामशेष, उमापति उपाध्याय, अमजद अली, अजय कुमार, गरिमा, अमित, सत्यम आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

बारिश से बढ़ी ठंड, स्कूल बंद

अंबेडकरनगर। बढ़ती ठंड व गलन के बीच गुरुवार रात से अचानक शुरू हुई बारिश ने ठिठुरने और बढ़ा दी। बारिश शुक्रवार को भी पूरे दिन जारी रही। इससे जिले में जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया। गरज-चमक के साथ हुई बारिश व सर्द हवाओं से लोग ठिठुर उठे। खराब मौसम के चलते जिला मुख्यालय से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों की बाजारों में करीब-करीब पूरे दिन सन्नाटा रहा।
इस बीच तेज हवा के साथ हुई बारिश से जिले की बिजली आपूर्ति भी छिन्न-भिन्न हो गई। कहीं जर्जर तार व खंभे टूटकर गिर पड़े तो कहीं ट्रांसफार्मर फुंक गया। इससे उपभोक्ताओं को पूरे दिन मुश्किलों का सामना करना पड़ा। उधर, बारिश से एक तरफ जहां दलहनी फसले बोने वाले किसानों के चेहरे खिल उठे, वहीं जिन किसानों ने अब तक गेहूं की बोआई नहीं की है, उनके चेहरे पर चिंता की लकीरें दिखने लगीं। बारिश के चलते अब गेहूं की बोआई पिछड़ने की आशंका है।
गुरुवार सुबह से काले बादलों का उमड़ना शुरू हो गया था। पूरे दिन धूप छांव का खेल चलता रहा। बादल देख लोगों को अनुमान था कि रात तक बारिश जरूर होगी। हुआ भी ऐसा ही। देर रात तेज हवा के साथ बारिश का दौर शुरू हो गया। यह सिलसिला शुक्रवार को भी लगभग पूरे दिन चलता रहा। कभी तेज, तो कभी हल्की बारिश होने व सर्द हवा चलने से लोग ठंड से ठिठुर उठे।
ठंड से बचने के लिए लोगों को अलाव का सहारा लेने को मजबूर होना पड़ा। ठंड व खराब मौसम का नतीजा रहा कि जिला मुख्यालय से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों की बाजारों में आमतौर पर सन्नाटा पसरा रहा। दरअसल बारिश के चलते ग्रामीण क्षेत्र के लोगों ने बाजारों का रुख लगभग नही किया। जो लोग जरूरी काम से निकले भी, वह जल्द से जल्द काम निपटाकर घर वापस हो लिए। खराब मौसम का असर सरकारी व निजी कार्यालयों में भी देखने को मिला। लोग विलंब से कार्यालय पहुंचे।
जिला मुख्यालय पर जलभराव समस्या दूर होने का नाम नहीं ले रही। बारिश के चलते अकबरपुर अयोध्या मार्ग पर शीतला आश्रम से बनगांव रोड के निकट तक, शहजादपुर चौक, सब्जी मंडी, कृषि भवन के निकट, कोतवाली के निकट, बस स्टेशन क्षेत्र व कलेक्ट्रेट के निकट शुक्रवार को जगह जगह जलभराव उत्पन्न हो गया। नाले व नालियों का गंदा पानी सड़कों पर बहने लगा।
इससे लोगों को आवागमन में मुश्किलों का सामना करना पड़ा। सबसे अधिक मुश्किल दो पहिया व पैदल चलने वालों को हुई। जलभराव समस्या से जूझ रहे लोगों का कहना था कि जब तक इसे लेकर ठोस कार्य योजना नहीं तैयार की जाएगी, तब तक जलभराव समस्या दूर होने वाली नहीं है।
बारिश होने से दलहनी फसल मटर, चना, सरसों जैसी फसल को लाभ मिला है। बारिश से इन पर पाला पड़ने की आशंका फिलहाल नहीं है। किसान दिलीप कुमार व जगदंबा सिंह ने कहा कि मौजूदा समय में इन फसलों के लिए बारिश की सख्त जरूरत भी थी। इससे बेहतर फसल होने की संभावना है। उधर जिन किसानों ने गेहूं की बोआई अब तक नहीं की है, उनके चेहरे पर चिंता की लकीरें हैं।
अकबरपुर के किसान रामअजोर व भीटी के संजीव सिंह ने चिंता जाहिर करते हुए कहा कि बारिश से गेहूं की बोआई कम से कम चार दिन पिछड़ गई। यदि आगे भी बारिश का सिलसिला जारी रहा तो इससे गेहूं की बोआई काफी पिछड़ जाएगी। यदि ऐसा होता है तो इसका गेहूं की उपज पर प्रतिकूल असर पड़ेगा।
गुरुवार रात से शुरू हुई का दौर शुक्रवार को भी जारी रहने का असर विद्यालयों में छात्र-छात्राओं की उपस्थिति पर भी देखने को मिला। विद्यालय जाने के समय ही बारिश होने से परिषदीय विद्यालयों में छात्र-छात्राओं की उपस्थिति काफी कम रही तो निजी विद्यालयों में छात्र-छात्राएं ठिठुरते व पानी में भीगते हुए पहुंचे। अभिभावकों ने प्रशासन से मांग करते हुए कहा कि मौसम के मिजाज व छात्र-छात्राओं के स्वास्थ्य के हित को देखते हुए या तो विद्यालयों में अवकाश घोषित किया जाए या फिर स्कूल का समय सुबह 10 बजे से अपराह्न 2 बजे तक किया जाए। अभिभावक दीप कुमार गुप्ता, अवनीश तिवारी, राजेश सिंह व रजा अनवर ने कहा कि मौसम को देखते हुए प्रशासन उचित कदम उठाना चाहिए।
गुरुवार रात तेज हवा के साथ हुई बारिश का जिले की बिजली आपूर्ति पर प्रतिकूल असर पड़ा। ग्रामीण क्षेत्र की बात दूर जिला मुख्यालय के उपभोक्ताओं को ही 20 घंटे से अधिक समय तक बिजली नहीं मिल सकी। दरअसल गुरुवार रात बारिश से पहले तेज हवा के चलते कोटवा महमदपुर से अकबरपुर आने वाली विद्युत आपूर्ति कोटवा गांव के पास डिस्क पंक्चर होने के चलते आपूर्ति पूरी तरह ठप हो गई। रात एक बजे के बाद गड़बड़ी दूर कर आपूर्ति बहाल की गई। इससे अकबरपुर उपकेंद्र के सभी सात फीडर से जुड़ी करीब एक लाख की आबादी को लगभग पांच घंटे अंधेरे में रहना पड़ा।
एक बजे के बाद आपूर्ति तो बहाल हुई, लेकिन फीडरों में गड़बड़ी शुरू हो गई। एक-एक कर फीडर जवाब देते रहे। नतीजा यह रहा कि शुक्रवार को दोपहर तक सभी फीडर से विद्युत आपूर्ति पूरी तरह बहाल नहीं हो सकी। दोपहर 12 बजे तक पटेलनगर, स्पेयर व कम्पोजिट फीडर से ही विद्युत आपूर्ति बहाल हो सकी। टाउन फीडर की आपूर्ति अपराह्न तीन बजे के बाद बहाल हुई, तो वीआईपी फीडर से आपूर्ति अपराह्न साढ़े तीन बजे के बाद गड़बड़ी दूर कर आपूर्ति बहाल हो सकी।
देर शाम साउथ वेस्ट व कुर्की फीडर में आई गड़बड़ी को दूर कर आपूर्ति बहाल नहीं की जा सकी। इससे संबंधित फीडर से जुड़े उपभोक्ताओं को विभिन्न प्रकार की मुश्किल उठानी पड़ी। सबसे अधिक मुश्किल शुक्रवार सुबह पेयजल को लेकर हुई। एक एक बाल्टी पानी के लिए उन्हें इधर उधर भटकने को मजबूर होना पड़ा। इसी प्रकार ग्रामीण क्षेत्रों में भी कहीं डाल गिरने, तो पेड़ गिरने से जर्जर तार व विद्युत खंभे क्षतिग्रस्त हो गए।
इससे राजेसुल्तानपुर, जहांगीरगंज, रामनगर, जलालपुर, भीटी, टांडा आदि क्षेत्रों में शुक्रवार देर शाम तक आपूर्ति बहाल की जा सकी। अधिशाषी अभियंता विद्युत अकबरपुर वीके पटेल ने बताया कि जैसे जैसे गड़बड़ी दूर हो रही है, वैसे वैसे संबंधित क्षेत्र की आपूर्ति बहाल की जा रही है। शुक्रवार देर शाम तक सभी फीडर से आपूर्ति बहाल कर दी गई।
अंबेडकरनगर। बारिश के बीच बढ़ी ठंड को देखते हुए जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्र ने सभी माध्यमों के इंटरमीडिएट तक के स्कूलों में शनिवार का अवकाश घोषित कर दिया है। सोमवार को स्कूल पूर्व निर्धारित समय पर खुलेंगे। डीआईओएस विनोद सिंह ने कहा कि खराब मौसम को देखते हुए शनिवार को हिंदी व इंग्लिश मीडिएम के इंटरमीडिएट तक के सभी स्कूल बंद रहेंगे। जांच के दौरान कोई विद्यालय खुला मिला तो कड़ी कार्रवाई होगी।
... और पढ़ें

जलभराव से मुश्किल, बैंक शाखा व दुकानों में घुसा पानी

भीटी। विकास खंड भीटी क्षेत्र के चनहा चौराहे से ब्लॉक तिराहे तक निर्मित टू लेन सड़क के दोनों किनारे पर बारिश के चलते जलभराव हो जाने से आम लोगों को शुक्रवार को आवागमन में मुश्किलों का सामना करना पड़ा। बैंक ऑफ बड़ौदा शाखा के अलावा कई दुकानों में भी पानी पहुंच गया। इससे स्थानीय नागरिकों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा।
बता दें कि भीटी विकासखंड क्षेत्र के चनहा चौराहे से ब्लॉक तिराहे तक सांसद निधि से टू लेन सड़क का निर्माण हुआ है। इससे आवागमन में लोगों को राहत तो मिल गई, लेकिन सड़क के दोनों किनारों पर जल निकासी का कोई समुचित प्रबंध नहीं किया गया। इस बीच कुछ दिनों पहले नाली का निर्माण शुरू करा दिया गया है। इस बीच गुरुवार रात हुई बारिश के चलते समुचित जल निकासी न होने से जहां आसपास के दुकानों में पानी घुस गया वहीं बाजार स्थित बैंक ऑफ बड़ौदा शाखा में पानी भर गया।
गेट के अंदर तक पानी जमा हो जाने से शुक्रवार सुबह बैंक आए उपभोक्ताओं को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा तो आसपास के दुकानदारों को काफी दिक्कत हुई। स्थानीय दुकानदारों का कहना है कि सड़क निर्माण के साथ ही यदि नाली का निर्माण हुआ होता तो ऐसी समस्या न उत्पन्न होती है, लेकिन जिम्मेदरों ने इस तरफ कोई ध्यान नहीं दिया। नाली का निर्माण शुरू कराया गया है लेकिन वह भी सुस्त रफ्तारी का शिकार है। ऐसे में दुकानदारों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा है।
... और पढ़ें

छापामारी कर लिए पनीर, दूध व छेना के पांच नमूने

अंबेडकरनगर। मिलावटी खाद्य पदार्थों की बिक्री पर अंकुश लगाने के लिए खाद्य सुरक्षा व औषधि प्रशासन की टीम ने सघन जांच अभियान चलाकर दूध, पनीर व छेना के पांच नमूने लिए। बाद में सभी नमूनों को जांच के लिए भेज दिया गया। दुकानदारों को मिलावटी खाद्य पदार्थों की बिक्री न करने की चेतावनी दी गई।
डीएम के निर्देश पर शुक्रवार को भी सघन जांच अभियान जारी रहा। शुक्रवार को अभिहित अधिकारी राजवंश श्रीवास्तव व मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी केके उपाध्याय के नेतृत्व में टीम ने सघन जांच अभियान चलाया। टीम ने बसखारी रोड पर दुग्ध विक्रेता मंतराम, रामलाल व वेदप्रकाश से दूध का नमूना लिया। टीम ने इसके बाद कुर्की बाजार स्थित शंकर मिष्ठान भंडार का जायजा लिया।
मिलावट के संदेह में छेने का नमूना लिया। बसखारी बाजार स्थित गौरव डेयरी का निरीक्षण किया। यहां से मिलावट के संदेह में पनीर का नमूना लिया। बाद में सभी नमूनों को जांच के लिए भेज दिया गया। अभिहित अधिकारी ने कहा कि मिलावटी खाद्य पदार्थों की बिक्री पर अंकुश लगाने के लिए जांच अभियान लगातार जारी रहेगा। बताया कि दुकानदारों को आगाह किया गया कि वे कतई मिलावटी व नकली खाद्य पदार्थों की बिक्री न करें।
... और पढ़ें

बाइक सवार को बचाने में पेड़ से टकरायी स्कूल बस

राजेसुल्तानपुर (अंबेडकरनगर)। बाइक सवार को बचाने के प्रयास में शुक्रवार सुबह बेकाबू होकर स्कूली बस पेड़ से टकरा गई। गनीमत रही कि उस समय बस में बच्चे सवार नहीं थे। घटना में चालक व परिचालक को चोटें आईं हैं। सूचना के बावजूद विलंब से एंबुलेंस के पहुंचने पर लोगों ने कड़ी नाराजगी जाहिर की। इसके बाद दोनों घायलों को निजी वाहन से आजमगढ़ अस्पताल पहुंचाया। जानकारी मिलने पर राजेसुल्तानपुर पुलिस भी मौके पर पहुंची। नाराज लोगों को समझा बुझाकर शांत कराया।
शुक्रवार को राजेसुल्तानपुर थाना क्षेत्र के बांसगांव सेंट जेवियर्स स्कूल की बस सुबह बच्चों के लेने के लिए विद्यालय से सिंघलपट्टी रोड पर जा रही थी। अचानक कस्तूरीपुर मोड़ के निकट एक बाइक सवार आ गया। उसे बचाने के चक्कर में बेकाबू होकर सड़क के किनारे पेड़ से टकरा गई। इसमें बस चालक मोहम्मद रफीक (25) निवासी राजेपुर व सहायक साजिद (20) निवासी राजेपुर थाना राजेसुल्तानपुर घायल हो गए।
घायल चालक व सहायक दोनों को ग्रामीणों ने बाहर निकाला। गनीमत रही कि घटना के समय बस में बच्चे नहीं बैठे थे। ग्रामीणों का आरोप था कि सूचना देने के काफी देर तक एंबुलेंस नहीं पहुंची। इस पर सामाजिक कार्यकर्ता मित्रसेन यादव ने अपने निजी वाहन से दोनों घायलों को आजमगढ़ जिला अस्पताल पहुंचाया। बाद में एंबुलेंस पहुंची तो ग्रामीणों ने कड़ी नाराजगी जाहिर की। इस बीच एसओ राजेसुल्तानपुर रामलखन पटेल मौके पर पहुंचे, और ग्रामीणों को समझा बुझाकर शांत कराया।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us