बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

बहन की हत्या कर भूमि में गाड़ दिया शव

Updated Mon, 15 Jan 2018 10:00 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
जहांगीरगंज (अंबेडकरनगर)। प्रेम प्रसंग में युवती की परिवारीजनों ने ही गोली मारकर हत्या कर दी। इसके बाद शव को गांव के बाहर जमीन में गाड़ दिया। पुलिस ने रविवार को शव बरामद करने के साथ ही हत्या के आरोपी भाई को गिरफ्तार कर लिया। मामले में चौकीदार की तहरीर पर भाई के अलावा पिता के विरुद्ध केस दर्ज किया गया है। इससे पहले एसपी व एएसपी ने घटनास्थल का जायजा लिया।
विज्ञापन

गौरतलब है कि गुरुवार को आलापुर थाना क्षेत्र के लखनीपट्टी निवासी विद्यालय प्रबंधक के पुत्र दिनेश प्रजापति की हत्या कर दी गई थी। पुलिस इस मामले की जांच पड़ताल में जुटी थी। इसी बीच पुलिस को खबर मिली कि पड़ोसी गांव बसहिया गंगासागर की एक युवती भी दो दिनों से लापता है। पुलिस ने इस मामले की भी छानबीन शुरू की। इस बीच चौकीदार प्रदीप कुमार पाल को किसी ने खबर दी कि गांव के बाहर एक शव गाड़ा गया है। इसके बाद चौकीदार की तहरीर पर पुलिस हत्या व हत्या का साक्ष्य मिटाने की धाराओं में केस दर्ज कर मामले के खुलासे में जुट गई। इसी बीच लापता युवती दीपांजलि (18) के भाई विकास सिंह को रविवार की शाम हिरासत में ले लिया गया। पुलिस के अनुसार विकास ने स्वीकार किया कि उसकी बहन कुछ माह पूर्व कहीं भाग गई थी। बाद में वापस आ गई थी। इसी से नाराज होकर ही उसने तीन दिन पहले अपनी बहन की हत्या पिता की जानकारी में कर दी। बताया कि बहन को गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया। इसके बाद शव को जमीन में गाड़ दिया।

इस बीच पुलिस ने विकास की निशानदेही पर सोमवार को जमीन खोदवाकर शव बरामद कर लिया। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजकर पुलिस ने मामले में विकास सिंह व उसके पिता लाखन सिंह को भी नामजद कर दिया। सोमवार शाम वारदात का खुलासा करते हुए एसपी संतोष कुमार मिश्र ने बताया कि युवक ने अपनी बहन की हत्या कर शव छिपा दिया था। उसे बरामद किया गया है। आरोपी पिता की तलाश की जा रही है। आरोपी विकास के कब्जे से तमंचा तथा एक कारतूस भी बरामद किया गया है। घटना का खुलासा करने वाली पुलिस टीम में एसओ जहांगीरगंज बेचूसिंह यादव व स्वाट टीम प्रभारी संजय सिंह के अलावा कई पुलिसकर्मी भी शामिल रहे।

एक ही स्कूल में पढ़ते दिनेश व दीपांजलि
दो दिन पहले जिस दिनेश का शव लखनीपट्टी गांव के बाहर मिला था, उसके पिता सतीराम के ही स्कूल में दीपांजलि भी पढ़ती थी। दिनेश भी उसी विद्यालय का छात्र था। एसपी संतोष मिश्र ने बताया कि फिलहाल यह महज संयोग भर है। अभी तक की जांच में ऐसा कोई सुराग नहीं मिला है, जिससे दिनेश या दीपांजलि के बीच किसी तरह के संबंध का प्रमाण मिलता हो। युवती के पूर्व के एक कृत्य से क्षुब्ध होकर ही घटना को अंजाम दिया गया है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X