कदम-कदम पर अनहोनी को दावत दे रहे एटीएम

AmbedkarNagar Updated Fri, 22 Nov 2013 05:42 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
अंबेडकरनगर। जिले में विभिन्न बैंकों के कुल 64 एटीएम पर उपभोक्ताओं की सुरक्षा भगवान भरोसे है। लगभग सभी एटीएम पर एक निहत्थे सुरक्षा कर्मी की तैनाती तो है, लेकिन बंदूकधारी सुरक्षा गार्ड की तैनाती जिले के एक भी एटीएम पर नहीं है। नतीजतन कई बार बैंक एटीएम में ग्राहकों के बीच हंगामे से लेकर बदमाशों द्वारा एटीएम आए लोगों का पीछा कर उनसे नकदी छीनने की घटना हो चुकी है। सुरक्षा गार्ड न होने का ही नतीजा है कि आमतौर पर ज्यादातर एटीएम के शटर देर रात गिर जाते हैं। इसके बाद तैनात सुरक्षाकर्र्मी भी नदारद हो जाते हैं। दिन के समय में एटीएम पर तैनात सुरक्षाकर्मी भी कभी-कभी ही नजर आते हैं।
विज्ञापन

पूरे देश को हिला देने वाली घटना भले ही बंगलूरू शहर में हुई हो, लेकिन घटना की परिस्थितियां यहां भी कदम-कदम पर मौजूद हैं। जिले में विभिन्न बैंक शाखाओं के कुल 64 एटीएम शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में स्थापित हैं। इनमें सर्वाधिक 32 एटीएम बैंक ऑफ बड़ौदा के हैं। 16 एटीएम स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के एवं अन्य बैंक शाखाओं के कुल 16 एटीएम अलग-अलग क्षेत्रों में खुले हुए हैं। इन सभी एटीएम की सुरक्षा की कोई पुख्ता व्यवस्था नहीं है। सीसीटीवी कैमरे जरूर लगाए गए हैं, लेकिन ये भी कई एटीएम में अक्सर खराब पड़े रहते हैं। सुरक्षा के नाम पर कागजों में तो सभी एटीएम पर निहत्थे सुरक्षाकर्मी की तैनाती है, लेकिन हकीकत इससे दूर है। जिला मुख्यालय के एटीएम पर तो यह सुरक्षाकर्मी दिन में नजर आते हैं, लेकिन शाम होते ही वे नदारद हो जाते हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में तो अक्सर दिन में भी यह सुरक्षाकर्मी नहीं रहते। इनके पास कोई शस्त्र नहीं ले-देकर एक डंडा ही होता है। जिसके सहारे वे एटीएम व उपभोक्ताओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी निभाते नजर आते हैं। अब ऐसे में वे अपनी जिम्मेदारी किस हद तक निभा पाते हैं, इसका सहज अंदाजा लगाया जा सकता है।
ऐसा इसलिए है क्योंकि जिले में स्थापित सभी एटीएम के रखरखाव की जिम्मेदारी अलग-अलग निजी एजेंसियों पर है। इन्हीं एजेंसियों द्वारा एटीएम में रकम डालने, मशीनों की मरम्मत करने व सुरक्षा की जिम्मेदारी है। असलहाधारी गार्ड रखने की बजाए ऐसे में तीन से चार हजार रुपये थमाकर निहत्थे सुरक्षाकर्मी रख दिए गए हैं। इसका खामियाजा अक्सर उपभोक्ताओं को उठाना पड़ता है। कई बार एटीएम से निकले लोगों के साथ छिनैती की घटना हो चुकी है। लगभग छह माह पूर्व स्टेट बैंक के अकबरपुर एटीएम से रकम निकालकर जा रहे एक सेवानिवृत्त शिक्षक से पांच हजार रुपये मालीपुर में लूट लिए गए थे। बैंक ऑफ बड़ौदा के अकबरपुर एटीएम में दो उपभोक्ता एक वर्ष पूर्व इस तरह भिड़ गए थे कि उससे लगभग आधे घंटे तक लेनदेन का कार्य ठप पड़ा रहा। ऐसी घटनाएं अक्सर होते रहने के बावजूद सुरक्षा को लेकर बैंक प्रबंधन गंभीर नहीं हो पा रहा। मौजूदा परिस्थितियों के चलते कई बार आधी रात करीब एटीएम के शटर गिरा दिए जाते हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us