विकास भवन में जड़ा ताला, बंद रहे अफसर

AmbedkarNagar Updated Tue, 18 Dec 2012 05:30 AM IST
अंबेडकरनगर। प्रमोशन में आरक्षण का विरोध सोमवार को और तेज हो गया। विकास भवन में कर्मचारियों ने मुख्य गेट पर ताला जड़ दिया और वहीं धरने पर बैठ गए। इससे लगभग तीन घंटे तक कई अधिकारी भवन में ही बंद रहे। इसके अलावा परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों के भी आंदोलन में कूदने से अधिकांश विद्यालयों में पठन-पाठन का कार्य बाधित रहा। शिक्षकों ने प्रदर्शन के साथ ही बीएसए व डीआईओएस कार्यालय भी कुछ देर के लिए बंद करा दिया। कर्मचारियों ने कहा कि प्रमोशन में आरक्षण को कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। केंद्र सरकार को इससे अपना कदम पीछे हटाना ही होगा। कहा कि यदि यह अधिनियम लागू हो गया, तो इसका प्रभाव न सिर्फ उन पर, वरन उनके बच्चों पर भी पड़ेगा।
रविवार के अवकाश के बाद सोमवार को एक बार फिर से प्रमोशन में आरक्षण के विरोध में छेड़ी गई जंग तेज हो गई। कर्मचारियों ने एकजुटता दिखाते हुए एक स्वर में इसे लागू न करने की मांग की। इसके साथ ही विभिन्न कार्यालयों में कामकाज भी नहीं होने दिया। सोमवार को भी कर्मचारी कार्यालयों में पहुंचे, लेकिन हाजिरी लगाने के बाद आंदोलन शुरू कर दिया। राज्य कर्मचारी संयुक्त संघ के अध्यक्ष सूर्यभान सिंह के नेतृत्व में कर्मचारियों ने एकजुट होकर पहले विकास भवन में प्रदर्शन किया, फिर एसपी सिंह की अगुवाई में मुख्य गेट पर पहुंच कर गेट पर ताला जड़ दिया और वहीं बाहर धरने पर बैठ गए। ताला बंद होने से जो अधिकारी भवन के अंदर थे, वे वहीं रह गए।
यह सिलसिला लगभग तीन घंटे तक चलता रहा। इस दौरान उर्मिला उपाध्याय, रीता सिंह, शैलेंद्र सिंह, रईस अहमद, मनोज श्रीवास्तव, अशोक यादव, सिराजुद्दीन, संजय वर्मा, सत्येंद्र श्रीवास्तव, रामजी उपाध्याय आदि मौजूद रहे। वक्ताओं ने केंद्र सरकार के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए कहा कि समाज को बांटने वाला यह निर्णय बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने प्रमोशन में आरक्षण का समर्थन कर रहे अन्य राजनीतिक दलों के विरुद्ध भी जमकर भड़ास निकाली।
उधर आरक्षण विरोधी संघर्ष समिति के तत्वावधान में परिषदीय विद्यालयों के शिक्षक भी सोमवार को आरक्षण विरोधी आंदोलन में कूद पड़े। संरक्षक नरेंद्र कुमार पाण्डेय वअध्यक्ष सुरेंद्र वर्मा के नेतृत्व में सभी शिक्षक प्राथमिक विद्यालय अकबरपुर परिसर में एकत्र हुए। यहां बैठक कर आरक्षण का विरोध करने का निर्णय लिया गया। कहा कि प्रमोशन में आरक्षण से समाज दो भागों में बंट जाएगा। कहा कि इसे किसी कीमत पर लागू नहीं होने दिया जाएगा।
इस दौरान राकेश पाण्डेय, अनिल कुमार पाण्डेय, यशवंत सिंह, राघवेंद्र शुक्ल, संदीप वर्मा, शीतला प्रसाद, दिनेश वर्मा, रामपलट सिंह, अरविंद मिश्र आदि मौजूद रहे। बाद में शिक्षकों ने बीएसए कार्यालय व डीआईओएस कार्यालय पहुंचकर कुछ देर के लिए कार्यालय बंद करा दिया। शिक्षकों के आंदोलन में कूदने से अधिकांश विद्यालयों में पढ़ाई बाधित रही। इसके अलावा पीडब्ल्यूडी कार्यालय में राजेंद्र त्रिपाठी, मनीराम वर्मा, प्रमोद सिंह, एसएन सिंह, आरके मौर्या आदि कर्मचारियों ने प्रदर्शन किया। आरक्षण विरोधी नारे लगाते हुए न सिर्फ केंद्र सरकार, वरन आरक्षण का समर्थन करने वाली अन्य पार्टियों के विरुद्ध भी नारेबाजी की। उधर भीटी प्रतिनिधि के अनुसार प्रोन्नति में आरक्षण बहाली का विरोध चौथे दिन भी सरकारी कर्मचारियों ने जारी रखा। तहसील, ब्लॉक सहित क्षेत्र के विद्यालयों तक आरक्षण विरोध की गूंज रही। आरक्षण विरोधी शिक्षक विद्यालय तो पहुंचे, लेकिन उन्होंने पठन पाठन कार्य नहीं किया। तहसील व ब्लॉक में कर्मचारी व फरियादी तो जुटे, लेकिन कार्य कम ही होता दिखा। विनोद कुमार दुबे, अरुण कुमार, अशोक सिंह, रमाकांत पाण्डेय व हैदर फरीद सिद्दीकी ने आरक्षण का विरोध सड़क से सदन तक करने का ऐलान किया। कहा कि प्रमोशन में आरक्षण प्रतिभाओं को दबाना है। ऐसे में वे इस नियम को कतई लागू नहीं होने देंगे।

Spotlight

Most Read

National

पुरुष के वेश में करती थी लूटपाट, गिरफ्तारी के बाद सुलझे नौ मामले

महिला लड़कों के ड्रेस में लूटपाट को अंजाम देती थी। अपने चेहरे को ढंकने के लिए वह मुंह पर कपड़ा बांधती थी और फिर गॉगल्स लगा लेती थी।

20 जनवरी 2018

Related Videos

जब रात में CM योगी के आवास के बाहर किसानों ने फेंके आलू

लखनऊ में आलू किसानों को जबरदस्त प्रदर्शन देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए किसानों ने लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया। देखिए आखिर क्यों भड़क उठा आलू किसानों का गुस्सा।

6 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper