हाईटेक पोस्टमार्टम हाउस का निर्माण अधर में

AmbedkarNagar Updated Mon, 03 Dec 2012 05:30 AM IST
अंबेडकरनगर। घोटाले के चलते जांच में फंसी लैकफेड एजेंसी द्वारा कराया जा रहा अत्याधुनिक पोस्टमार्टम हाउस का निर्माण कार्य पूरी तरह ठप हो गया है। इससे शव व बिसरा आदि के बेहतर रखरखाव की सुविधा जल्द से जल्द मुहैया होने की उम्मीदों को करारा झटका लगा है।
सूबे में सपा सरकार बनने के बाद जिले को स्वास्थ्य मंत्री के रूप में जहां एमएलसी अहमद हसन मिले, वहीं स्वास्थ्य राज्यमंत्री कटेहरी विधायक शंखलाल मांझी को बनाया गया। लोगों को उम्मीद बंधी कि कम से कम स्वास्थ्य सेवाएं अब चुस्त-दुरुस्त हो जाएंगी। मगर ऐसा नहीं हो सका। जुलाई की शुरुआत में प्रदेश सरकार ने जनपद मुख्यालय पर हाईटेक पोस्टमार्टम हाउस का निर्माण कराने की स्वीकृत दी। पूर्ण रूप से वातानुकूलित इस पोस्टमार्टम हाउस में मेडिकल अफसर कक्ष, बिसरा कक्ष व वहां तैनात कर्मचारियों के लिए आवश्यक व्यवस्था के साथ तीन शवों के एक साथ पोस्टमार्टम किए जाने की सुविधा होगी। इसके अलावा आठ शव एक साथ पीएम हाउस में रखा जा सकेंगे। पुरानी तहसील तिराहे के निकट स्थित पुराने पीएम हाउस को तोड़कर वहां पर नया भवन बनाने का निर्णय लिया गया। इसके निर्माण की जिम्मेदारी कार्यदायी संस्था लैकफेड को सौंपी गई। इसके लिए 47 लाख 84 हजार रुपये भी शासनस्तर से संस्था को उपलब्ध करा दिए गए। कार्यदायी संस्था ने अगस्त के प्रथम सप्ताह से निर्माण कार्य भी प्रारंभ कर दिया। इसके लिए पुराने पोस्टमार्टम हाउस का कुछ हिस्सा तोड़ दिया गया। निर्माण कार्य के दौरान ही लैकफेड संस्था घोटाले में फंस गई। जांच शुरू हुई, तो उसके कई अधिकारी जेल पहुंच गए। नतीजतन निर्माण कार्य रुक गया। निर्माण कार्य में लगे ठेकेदार ने बताया कि संस्था द्वारा जितने धन का भुगतान किया गया था, उसमें निर्माण कार्य कराया गया है। भुगतान न होने से कार्य रोकना पड़ा। जब भुगतान मिलेगा, तो निर्माण कार्य फिर से शुरू कर दिया जाएगा।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

जब रात में CM योगी के आवास के बाहर किसानों ने फेंके आलू

लखनऊ में आलू किसानों को जबरदस्त प्रदर्शन देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए किसानों ने लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया। देखिए आखिर क्यों भड़क उठा आलू किसानों का गुस्सा।

6 जनवरी 2018