सावधान! केले के साथ शरीर में पहुंच रहा जहर

AmbedkarNagar Updated Mon, 08 Oct 2012 12:00 PM IST
अंबेडकरनगर। सावधान, केले के साथ आप के शरीर में पहुंच रहा है घातक जहर। केले में मुनाफे को लेकर असल में होड़ कुछ ऐसी मची है कि प्रतिबंधित दवाओं का प्रयोग धड़ल्ले से बढ़-चढ़कर किया जा रहा है। सब कुछ जानते व देखते हुए भी जिले का प्रशासन मौन है। ऐसे में लोग जहरीला केला खाने को विवश हैं। दवाओं का प्रयोग इतना अधिक किया जा रहा है कि केला घरों में लाए जाने के बाद दो दिन तक टिक नहीं पा रहा है। काला पड़ने के साथ ही उसमें सड़न होने लगती है। ऐसे में उसे फेंकने को विवश होना पड़ता है।
केले के रूप में इन दिनों हर कोई घातक रासायनिक पदार्थों का शिकार हो रहा है। कारण यह है कि जिले में अचानक केले की आमद पिछले कुछ समय से तेज बनी हुई है। बड़ी मात्रा में कच्चा केला जिले की विभिन्न मंडियों में पहुंच रहा है। यहां थोक आढ़ती उसे कच्चे व अधपके रूप में बेचते हैं। खास बात यह कि केलों को यहां पकाने के लिए उन घातक केमिकल्स का प्रयोग किया जाता है, जो शरीर के लिए अत्यंत हानिकारक होते हैं।
यह कार्य यूं तो जिले में वर्षों से चला आ रहा है, लेकिन इस वर्ष स्थिति कुछ ज्यादा भयानक हो गई है। कारण अधिक मात्रा में बाहरी मंडियों से कच्चा केला आने के चलते उसका भरपूर लाभ उठाने की होड़ मच गई है। इसी के चलते एक दूसरे से ज्यादा मुनाफा कमाने के लिए थोक व्यापारियों से लेकर फुटकर विक्रेताओं तक में एक दूसरे को पिछाड़ने की मुहिम चल पड़ी है। इसका सीधा खामियाजा आम आदमियों को भुगतना पड़ रहा है। केलों को पकाने के काले कारनामे का सच सबके सामने लाने के लिए ‘अमर उजाला की टीम’ रविवार को शहजादपुर स्थित जिले की सबसे बड़ी फलों की आढ़त पर पहुंची। यहां एक-एक कर टीम के कई सदस्यों के पहुंचने के बाद वहां हड़कंप मच गया। बड़ी संख्या में आढ़तियों व अन्य लोगों ने टीम को घेरकर यह बताना शुरू कर दिया कि यहां से तो सिर्फ कच्चे केले की आपूर्ति होती है। उन्हें पकाने का काम फुटकर विक्रेताओं द्वारा अपने घरों में किया जाता है। इसी बीच टीम के कुछ दूसरे सदस्य पीछे के रास्ते से उन आढ़तों पर पहुंच गए, जहां पर चोरी चुपके केलों को घातक रसायनिक पदार्थों में डुबोने का अभियान चल रहा था। इसकी भनक लगते ही अन्य आढ़ती भी वहां पहुंचे और हंगामा करने लगे। बताते चलें कि लगभग दो वर्ष पूर्व खाद्य विभाग की टीम ने इस आढ़त पर छापा मारा था, तो एकजुट हुए आढ़तियों ने उन्हें यहां से खदेड़ दिया था।
इसे लेकर खूब हंगामा भी मचा था। उसी तर्ज पर इस बार भी आढ़ती हंगामा करने लगे, लेकिन टीम केले को लेकर चल रहे खेल को सामने लाने के लिए दृढ़ संकल्पित होकर पहुंची थी। इसके बाद टीम ने वहां मौजूद दृश्यों को अपने कैमरे में कैद करना शुरू किया। नतीजतन टीम के कड़े इरादों को देख वहां छोटे आढ़तियों व मजदूरों में भगदड़ मच गई। केलों को जहरीले रासायनिक पदार्थों में डुबो रहे मजदूर व अन्य कर्मचारी अपना-अपना काम छोड़कर भाग निकले। लगभग आधे घंटे तक टीम ने आढ़त में चल रहे काले धंधे के आंखों देखे हाल को कैमरे में कैद किया।

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

16 जनवरी 2018

Related Videos

जब रात में CM योगी के आवास के बाहर किसानों ने फेंके आलू

लखनऊ में आलू किसानों को जबरदस्त प्रदर्शन देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए किसानों ने लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया। देखिए आखिर क्यों भड़क उठा आलू किसानों का गुस्सा।

6 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper