पर्यटक स्थल घोषित कर सुध लेना भूल गई सरकार

AmbedkarNagar Updated Thu, 27 Sep 2012 12:00 PM IST
अंबेडकरनगर। जिले के कई प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों को पर्यटक स्थल घोषित करने के बाद से सरकार ने उससे मुंह फेर लिया है। इनमें पवित्र श्रवणक्षेत्र, शिवबाबा, गोविन्द साहब व शहजादपुर शिवालय घाट मुख्य रूप से शामिल हैं। श्रद्धालु यहां कठिनाइयों से जूझ रहे हैं, लेकिन शासन-प्रशासन इस ओर उदासीन है। आवागमन से लेकर साफ-सफाई और पेयजल से लेकर ठहरने तक की सुविधा का कोई पुरसाहाल नहीं है। उपेक्षा सिर्फ अधिकारियों के स्तर तक ही सीमित नहीं है, जनप्रतिनिधि भी पर्यटक स्थलों की अनदेखी कर रहे हैं।
गुरुवार को पर्यटन दिवस है। जिले में कई पर्यटक स्थल हैं, लेकिन उन सभी की दशा बद से बदतर है। राजा दशरथ के बाण से अपने प्राण गवाने वाले मातृ पितृ भक्ति के प्रतीक श्रवणकुमार की याद में बने पवित्र श्रवणधाम को लगभग डेढ़ दशक पूर्व पर्यटक स्थल घोषित किया गया था। उस समय प्रदेश सरकार में मंत्री रहे भाजपा नेता अनिल तिवारी ने अपनी निधि से 5 लाख 63 हजार रुपये देकर समाधि स्थल व खड़ंजे का निर्माण कराया था। इसके बाद एमएलसी कोकब हमीद ने 2 लाख 63 हजार रुपये देकर चहारदीवारी बनवाई। ये दोनों प्रयास निजी तौर पर थे। इसके अलावा शासन स्तर पर इस पर्यटक स्थल के लिए कोई प्रयास नहीं हुआ। यहां वर्ष में दो बार मड़हा व बिसुही नदी के संगम तट पर बड़ा मेला लगता है। हजारों लोग यहां जुटते हैं। नदी में स्नान करने की परंपरा है, लेकिन एक फैक्ट्री के कारण बढ़े प्रदूषण से लोग स्नान करने से कतराने लगे हैं। प्रदूषण को दूर कराने की कोई कोशिश अब तक नहीं हो सकी है। यहां क्षतिग्रस्त हो गए घाट का फिर से निर्माण कराने, स्नान गृह का निर्माण कराने, शौचालय का निर्माण कराने की मांग लगभग एक दशक से चली आ रही है, लेकिन इस ओर सरकार का ध्यान नहीं जा सका है। श्रद्धालुओं को यहां लगातार मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।
अकबरपुर तहसील क्षेत्र के पवित्र शिवबाबा को भी वर्ष 1996 में पर्यटक स्थल का दर्जा दिया गया। तत्कालीन पर्यटन मंत्री लल्लू सिंह ने 5 लाख 65 हजार रुपये दिये थे, जिससे सिर्फ एक विशाल चबूतरा व एक टीन शेड का निर्माण हो सका। बाद में एमएलसी कोकब हमीद ने अपने फंड से 11 लाख 73 हजार रुपये दिये, जिससे चहारदीवारी का निर्माण हुआ था। शासन ने यहां भी किसी प्रकार के पैकेज का क्रियान्वयन अब तक नहीं कराया। उपेक्षा का हाल यह कि वर्ष 2008 में पंचायत राज विभाग से श्रद्धालुओं के लिए शौचालय निर्माण की अनुमति दी गई, लेकिन अब तक काम नहीं हो पाया। प्रत्येक सोमवार व शुक्रवार को यहां हजारों श्रद्धालु एकत्र होते हैं। उनके लिए लगे अधिकतर हैंडपंपों के सामान चोरी हो गये हैं। श्रद्धालुओं को पेयजल के साथ ही उठने बैठने व ठहरने तक के संकट का सामना करना पड़ता है।
पूर्वांचल में गोविन्द साहब का पर्यटक स्थल प्रसिद्ध है। यहां हर साल गोविन्द दशमी के समय एक माह का मेला लगता है। जिला पंचायत द्वारा विभिन्न प्रकार की अस्थायी व्यवस्था की जाती है, जो अपर्याप्त साबित होती है। यहां स्थायी रैन बसेेरे व अतिरिक्त शौचालय निर्माण के साथ ही पिच मार्ग निर्माण की जरूरत है, लेकिन ध्यान नहीं दिया जा सका है। गोविन्द साहब स्थित मठ व सरोवर के मरम्मत व सौन्दर्यीकरण की तरफ भी ध्यान नहीं जा रहा है। अकबरपुर नगर स्थित शहजादपुर शिवालय घाट भी पर्यटक स्थल घोषित है, लेकिन यह भी उपेक्षा का शिकार है।

Spotlight

Most Read

National

पाकिस्तान की तबाही के दो वीडियो जारी, तेल डिपो समेत हथियार भंडार नेस्तनाबूद

सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने पाकिस्तानी गोलाबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया है। भारत के जवाबी हमले में पाकिस्तान की कई फायरिंग पोजिशन, आयुध भंडार और फ्यूल डिपो को बीएसएफ ने उड़ा दिया है।

23 जनवरी 2018

Related Videos

जब रात में CM योगी के आवास के बाहर किसानों ने फेंके आलू

लखनऊ में आलू किसानों को जबरदस्त प्रदर्शन देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए किसानों ने लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया। देखिए आखिर क्यों भड़क उठा आलू किसानों का गुस्सा।

6 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper