विज्ञापन
विज्ञापन
आज ही बनवाएं फ्री जन्म कुंडली और पाएं समस्त परेशानियों के ज्योतिष्य समाधान
Kundali

आज ही बनवाएं फ्री जन्म कुंडली और पाएं समस्त परेशानियों के ज्योतिष्य समाधान

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

Prayagraj Corona News: पांच दिन के सर्वे का कार्य पूरा, 281 मिले फ्लू से संक्रमित

कोरोना की चेन तोड़ने के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से पांच दिन के लिए शहर के विभिन्न मोहल्लों में चलाए गए सर्वे अभियान में 281 लोग फ्लू से संक्रमित मिले हैं। इनमें से 191 लोगों की कोरोना की जांच कराई जा चुकी है। जिसमें 19 में पॉजिटिव मिले हैं। बाकी लोगों की जांच शनिवार और रविवार को कराई जाएगी।

अगस्त के पहले सप्ताह में दो चरणों में फ्लू से संक्रमित लोगों के लिए अभियान चलाया गया। पहले चरण में दो अगस्त से लेकर पांच अगस्त तक और दूसरे चरण में छह और सात अगस्त को चला। पहले चरण के अभियान में शहर के 12 ऐसे मोहल्लों दारागंज, अल्लापुर, मुट्ठीगंज, कीडगंज, नयापुरवा, अतरसुइया, करेली, करेलाबाग, राजापुर, ममर्फोडगंज, ओल्ड कटरा में चलाया गया। इसमें 167 लोगों में फ्लू के लक्षण मिले हैं। इनमें बुखार के सबसे अधिक 108, खांसी के 50 और बाकी सांस लेने मेें तकलीफ वाले हैं। जबकि दूसरे चरण के अभियान में शहर के 23 और मोहल्लों सर्वे कराया गया।

इनमें कुछ पुराने मोहल्ले भी शामिल किए गए जबकि कुछ नए रहे। एसीएमओ डॉ. सत्येंद्र राय ने बताया कि दूसरे चरण में फाफामउ, दारागंज पीएचसी के अंतर्गत अल्लापुर, पूरे दलेल, बाघंबरी गद्दी, बक्शी खुर्द, बक्शी कला, राजापुर, मम्फोर्डगंज, मिंटो रोड, नेवादा, कल्याणी देवी, अतरसुइया, बलुआघाट, चौखंडी, खलासी लाइन, मुट्ठीगंज, मधवापुर, मीरापुर, नेहरूनगर, तुलसीपुर, गौसनगर, सुल्तानपुर भावा डी ब्लॉक, सी ब्लॉक और नया पुरवा शामिल किया गया था।

इसके लिए 145 टीमों को लगाया गया था। टीमों ने 11 हजार से अधिक घरों के करीब 45 हजार लोगों की स्क्रीनिंग की। इनमें से कुल 281 लोग फ्लू की चपेट में मिले। 191 की जांच कराई जा चुकी है। जिसमें 19 पॉजिटिव आए हैं। बाकी लोगों की भी जांच एक-दो दिन में कराई जाएगी। डॉ. सत्येंद्र राय के मुताबिक शहर के इन इलाकों में कंटेनमेंट और कलस्टर जोन की संख्या भी सबसे अधिक है। रोजाना पॉजिटिव आ रहे कोरोना के नए मरीजों में ज्यादातर संख्या इन्हीं इलाकों से आ रही है। संख्या को देखते हुए यहां सर्वे का कार्य कराया गया। 
... और पढ़ें

माफिया धनंजय सिंह की जमानत पर सुनवाई टली

Prayagraj News: कोरोना टेस्ट न होने पर जेल प्रशासन ने लौटाया, सेक्स रैकेट के आरोपियों की थाने में बीती रात

दारागंज में एक दिन पहले पकड़े गए सेक्स रैकेट के सदस्यों को जेल से बैरंग लौटना पड़ा। कोरोना जांच न होने पर जेल प्रशासन ने उन्हें जेल में रखने से इंकार कर दिया। जिसके बाद आरोपियों को थाने में ही रात बिताना पड़ा। शुक्रवार सुबह कोरोना जांच के बाद उन्हें जेल में दाखिल कराया गया।

दारागंज पुलिस ने 6 अगस्त को सेक्स रैकेट के आठ सदस्यों को गिरफ्तार किया था। जिनमें पांच महिलाएं भी शामिल थीं। रिमांड मंजूर होने के बाद इन सभी को लेकर बृहस्पतिवार शाम दारागंज पुलिस नैनी जेल पहुंची। हालांकि जेल प्रशासन ने आरोपियों को जेल के भीतर रखने से इंकार कर दिया। उसका कहना था कि बिना कोरोना जांच के वह किसी भी बंदी को जेल में दाखिल नहीं करेंगे। जिसके बाद दारागंज पुलिस आरोपियों को लेकर थाने आई और फिर रात भर उन्हें थाने मेें ही रखा गया।

शुक्रवार सुबह कोरोना जांच होने के बाद आरोपियों को जेल में ले जाकर दाखिल कराया गया। मामले में गिरफ्तार की गईं दो नाबालिगों को जेल में नहीं रखा गया है। उन्हें बाराबंकी स्थित सुधार गृह ले जाया जाएगा। इंस्पेक्टर धाकेश्वर सिंह ने बताया कि कोरोना जांच रिपोर्ट न होने पर जेल प्रशासन की ओर से आरेापियों को जेल में रखने से इंकार किया गया था। जिसके बाद उन्हें रात में थाने में ही रखना पड़ा।

सुबह जांच के बाद उन्हें जेल में दाखिल करा दिया गया। उधर इस मामले में जब वरिष्ठ जेल अधीक्षक पीएन पांडेय से बात की गई तो उन्होंने बताया कि अस्वस्थ होने की वजह से वह बृहस्पतिवार को कार्यालय नहीं जा सके थे। ऐसे में उन्हें मामले की जानकारी नहीं है। कहा कि मातहतों से जानकारी करने के बाद ही कुछ बता सकूंगा।
... और पढ़ें

रास्ते में जानवर बांधने का विरोध करने पर दो भाइयों पर हमला, एक की मौत

थाना क्षेत्र के टकटैया गांव में रास्तेपर जानवर बांधने से मना करने पर पड़ोसी ने अपने परिजनों के साथ मिलकर दो सगे भाइयों पर लोहे की राड, चाकू व धारदार हथियार से हमला कर दिया। जिसमें एक भाई की मौत हो गई, जबकि दूसरा गंभीर रूप से घायल हो गया। घटना शुक्रवार रात की है। 

करछना थाना क्षेत्र के टकटैयागांव निवासी भगवत गुप्ता अपने पशुओं को गांव के आम रास्ते पर बांधते हैं। जिससे आने-जाने वाले पड़ोसियों को दिक्कत होती थी। जिसको लेकर पड़ोसी बाबादीन पटेल के लड़के संजय कुमार और अनिल कुमार ने कई बार रास्ते पर जानवर बांधने से मना कर चुके थे और इसकी शिकायत भी पुलिस से की थी।

इसी बात को लेकर दोनों के बीच तनाव की स्थिति पहले से चली आ रही थी ।शुक्रवार को रात 8 बजे के दौरान दोनों परिवार के बच्चों के बीच किसी बात को लेकर कहासुनी हो गई। जिसे लेकर भगवत गुप्ता, उसकी पत्नी, लड़का ओम प्रकाश और बेटी शांती देवी ने अपने घर से लोहे की राड, चाकू व धारदार हथियार से बाबादीन के सात पुत्रों में दूसरे नंबर के बेटे संजय कुमार पटेल (28)  व पांचवें नंबर के बेटे अनिल कुमार पटेल (22) पर हमला कर दिया। दोनों के सिर पर लोहे की राड से कई बार वार किया गया। जिसमें दोनों गंभीर रूप से घायल होकर वहीं गिर गए।

उसके बाद हमलावर पक्ष की महिलाओं ने जमीन पर पड़े दोनों भाइयों को चाकू से गोदना शुरू कर दिया। वह दोनों भाई चीखते रहे और दोनों महिलाएं उन्हें गोदती रहीं। जब उनके घरवाले दौड़े तो हमलावरों ने उन्हें छोड़ा। दोनों भाइयों को घायलावस्था में परिवार के लोग अस्पताल लेकर भागे लेकिन रास्ते में छोटे भाई अनिल की मौत हो गई।

संजय की हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है। सूचना के बाद पहुंची पुलिस ने मौके से तीन लोगों को हिरासत में ले लिया था। पिता बाबा दीन की तहरीर पर पुलिस ने भगवत गुप्ता, उकसे बेटे ओम प्रकाश, उसकी पत्नी एवं बेटी शांति देवी पर हत्या, हत्या के प्रयास समेत विभिन्न धाराओं में एफआईआर पंजीकृत किया है। गांव में तनाव व्याप्त है। 
... और पढ़ें
रास्ते के विवाद में गई महिला की जान रास्ते के विवाद में गई महिला की जान

शव रखकर सड़क जाम कर रहे परिजनों पर पुलिस ने बरसाईं लाठियां, जबरन शव का कराया अंतिम संस्कार

शनिवार को पोस्टमार्टम के बाद अनिल के शव को अपने गांव टकटैया लेकर परिजन गांव जा रहे थे। इसी बीच मिर्जापुर हाइवे मार्ग बेंदो गांव के सामने परिजन शव रख कर जाम लगा दिए। परिजनों का आरोप था कि अनिल कुमार की हत्या में गांव के प्रधान का हाथ है। उसी के इशारे पर अनिल की हत्या हुई है।

पिता बाबादीन के मुताबिक गांव के विकास कार्यों में हुए भ्रष्टाचार के खिलाफ उसने कुछ दिन पहले शिकायत करके जांच कराई थी, जिसके बाद प्रधान ने धमकी दी थी। नाराज परिजन प्रधान का नाम भी एफआईआर में जोड़ने की जिद पर अड़े थे। घंटो बीत गए लेकिन परिजन मानने को तैयार नहीं हुए। जिससे बौखलाए पुलिस वालों ने कई थाने की फोर्स बुला ली। मौके पर एसपी यमुनापार व सीओ करछना पहुंचे थे। अधिकारियों की मौजूदगी में पुलिस वालों ने जाम लगाकर बैठे लोगों पर लाठी चार्ज कर दिया।

पुलिस की पिटाई से दो दर्जन से ज्यादा लोग चुटहिल हो गए। उसके बाद पुलिस ने परिजनों से शव छीन लिया और स्वयं ले जाकर डीहा गंगा घाट पर देर रात अंतिम संस्कार करा दिया। दुखद ये है कि पुलिस ने बर्बरता की हद पार करते हुए मारे गए अनिल कुमार के बेटे बाबा दीन को पीटा है, जिससे वह घायल है। पुलिस  की इस बर्बरता से लोगों में आक्रोश है। 
... और पढ़ें

प्रमुख सचिव को अवमानना नोटिसः हाईकोर्ट ने कहा- महामारी के नाम पर संविधानिक आदेश को नहीं टाल सकते

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा है कि महामारी के नाम पर संविधानिक आदेश की अनदेखी नहीं की जा सकती है। इस दौर में किसी आदेश के पालन में देरी होने पर कुछ रियायत दी जा सकती है मगर ऐसा संभव नहीं है कि अदालत के आदेश की अनदेखी होने दी जाए।

कानून का राज हर हाल में कायम रखना होगा महामारी के दौर में भी कानून और अदालतें मूक दर्शक नहीं बन सकती हैं। कोर्ट ने आदेश का पालन नहीं करने पर प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा को चेतावनी दी है कि यदि उन्होंने आदेश का पालन नहीं किया तो अदालत उनको तलब करेगी। 

अभिषेक भारद्वाज की अवमानना याचिका पर न्यायमूर्ति एमसी त्रिपाठी सुनवाई कर रहे हैं। याची का कहना है कि हाईकोर्ट ने छह दिसंबर 2019 को याची के प्रत्यावेदन का निस्तारण करने का प्रमुख सचिव को आदेश दिया था। मगर इस आदेश का पालन नहीं किया गया।

कोर्ट ने सरकार से इस मामले में जवाब मांगा था मगर कोई जवाब दाखिल नहीं किया गया। सरकारी वकील का कहना था कि कोविड 19 संक्रमण के कारण निर्देश भेजने में विलंब हुआ है। इस पर कोर्ट ने प्रमुख सचिव को एक और अवसर देते हुए कहा है कि इसके बाद भी यदि आदेश का पालन नहीं हुआ तो अदालत उपस्थित होने का आदेश देगी।
... और पढ़ें

69 हजार सहायक अध्यापक भर्ती का परिणाम रद्द करने के लिए हाईकोर्ट में याचिका, कहा- भारी पैमाने पर हुई है धांधली

69 हजार सहायक अध्यापकों की भर्ती के लिए आयोजित शिक्षक पात्रता परीक्षा में बड़े पैमाने पर धांधली का आरोप लगाते हुए इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की गई है। याचिका पर सुनवाई कर रहे न्यायमूर्ति एमसी त्रिपाठी ने प्रदेश सरकार और अन्य पक्षकारों से जवाब मांगा है। 

उमेश कुमार और दर्जनों अन्य अभ्यर्थियों की ओर से दाखिल याचिका पर बहस कर रहे अधिवक्ता सीमांत सिंह का कहना था कि शिक्षक पात्रता परीक्षा का आयोजन छह जनवरी 2019 को किया गया था। परीक्षा में व्यापक पैमाने पर धांधली की शिकायतें आई हैं। पुलिस ने कई जगह छापा मार कर लोगों को गिरफ्तार किया है। पैसे भी बरामद हुए हैं। कई सेंटर में परीक्षा दे रहे छात्रों के 150 में से 143 अंक तक आए हैं। जबकि उनके एकेडमिक रिकार्ड काफी खराब हैं। स्पष्ट है कि धांधली हुई है। 

याचिका में कहा गया है कि मामले की जांच एसटीएफ कर रही है। एसटीएफ को निर्देश दिया जाए कि वह समय सीमा के भीतर जांच पूरी करे या इस मामले की जांच किसी स्वतंत्र जांच एजेंसी को सौंपी जाए। 

उल्लेखनीय है कि 69 हजार सहायक अध्यापक भर्ती का मामला शुरु से ही विवादों में रहा है। इसे लेकर सुप्रीमकोर्ट में भी याचिकाएं दाखिल हैं। सुप्रीमकोर्ट ने शिक्षामित्रों के लिए लगभग 37 हजार पदों को छोड़कर शेष पर भर्ती प्रक्रिया जारी रखने का निर्देश दिया है। इस क्रम में प्रदेश सरकार ने भर्ती प्रक्रिया जारी रखी हुई है। हालांकि अभ्यर्थियों को सुप्रीमकोर्ट के अंतिम फैसले का भी इंतजार है।
... और पढ़ें

पूर्व सांसद अतीक अहमद गैंग के सदस्य की जमानत पर जानकारी तलब

court
व्यापारी का अपहरण कर देवरिया जेल ले जाकर पिटाई करने के मामले में आरोपी अतीक अहमद गैंग के सदस्य इमरान की अग्रिम जमानत पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने प्रदेश सरकार से जानकारी है। कोर्ट ने पूछा है कि क्या याची के देवरिया जेल जाने के बारे में जेलर ने गलत जानकारी दी है। यदि ऐसा है तो जेलर पर क्या कार्रवाई की गई। कोर्ट ने इस दौरान याची इमरान के विरुद्ध उत्पीड़नात्मक कार्रवाई नहीं करने का निर्देश दिया है। इमरान की अग्रिम जमानत अर्जी पर न्यायमूर्ति सिद्धार्थ वर्मा सुनवाई कर रहे हैं। 

याची का कहना है कि उस पर व्यापारी जैद खालिद का अपहरण कर उनको देवरिया जेल अतीक अहमद के पास ले जाने और जेल में मारने पीटने का गलत आरोप लगाया गया है। वास्तविकता यह है कि घटना के दिन वह इलाहाबाद में ही एक विवाह समारोह में मौजूद था। वह कभी देवरिया जेल नहीं गया।

जेल के मुलाकातियों के रजिस्टर में भी उसका नाम दर्ज नहीं है। देवरिया के जेलर में उसके जेल में मौजूद होने के बारे में गलत जानकारी दी है। इस मामले को एक अन्य अभियुक्त को जमानत मिल चुकी है। कोर्ट ने याची की दलीलों को सुनने के बाद सरकारी वकील को हलफनामा दाखिल कर बताने को कहा है कि क्या देवरिया जेल के जेलर ने गलत जानकारी दी है। यदि ऐसा है तो उसके विरुद्ध क्या कार्रवाई की गई। 

कोर्ट ने कहा है कि यदि वादी मुकदमा जैद खालिद ने याची के इस घटना में शामिल होने के बारे में गलत जानकारी दी है तो वादी के विरुद्ध क्या कार्रवाई की गई। कोर्ट ने घटना की तारीख का जेल की सीसीटीवी रिकार्डिंग भी अभियोजन को देखने का निर्देश दिया है कि क्या याची द्वारा कही जा रही बात सही है अथवा नहीं। याची इमरान पर आरोप है कि वह उसने जैद खाजिद का धूमनगंज क्षेत्र से अपहरण कर लिया और उससे लूटपाट की तथा इसके बाद उसे देवरिया जेल ले जाया गया, जहां अतीक अहमद की मौजूदगी में उसकी पिटाई गई और जान से मारने की धमकी दी गई।
... और पढ़ें

Prayagraj Corona News: कोरोना जांच के भय से व्यापारी ने तीसरे मंजिल से लगाई छलांग, हालत गंभीर

फाफामऊ में एक व्यापारी ने कोरोना जांच और क्वारंटीन के भय से छत के तीसरे मंजिल से छलांग लगा दी। हाईटेंशन तारों से टकराता हुआ बर्तन व्यापारी सड़क पर जा गिरा। इससे मुहल्ले में हड़कंप मच गया है। लोगों ने आनन फानन में उसे एक निजी चिकित्सालय में भर्ती कराया है, जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है।

फाफामऊ बाजार निवासी अंशू बर्तन व्यवसायी है। चार अगस्त को कोरोना की जांच कराने की सलाह पर वह फाफामऊ चौकी इंचार्ज से उलझ गया था। जिस पर पुलिस उसे पकड़कर थाने ले गई और उसका शांतिभंग में चालान कर दिया। इसी क्रम में शनिवार को दोपहर में चौकी का एक सिपाही कोई नोटिस लेकर उसके घर गया था। जिस पर वह फिर पुलिस के ऊपर बिफर गया।

परिवार के लोग अभी अंशू के समझा ही रहे थे कि वह इसी बीच अपने मकाने के तीसरे मंजिल पर पहुंच गया और वहीं से छलांग लगा दी। हाईटेंशन तारों से टकराता हुआ व्यापारी सड़क पर आ गिरा। इससे मुहल्ले में हड़कंप मच। घटना की जानकारी होने पर बड़ी संख्या में लोग पहुंच गए। आनन फानन में उसे उपचार के लिए एक निजी चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है, जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है। 

बताया जाता है कि कस्बे के दुकानदारों को पुलिस और प्रशासन ने महामारी से बचाव के लिए कोरोना जांच का निर्देश जारी किया है। प्रशासन ने चेतावनी भी दी है कि जो दुकानदार कोरोना की जांच नहीं कराएगा उसकी दुकान नहीं खुलने दी जाएगी। 
... और पढ़ें

24 घंटे के अंदर महाराष्ट्र से प्रयागराज आ जाएगा प्याज, अंगूर और केला

कोरोना काल में देश में एक छोर से दूसरे छोर तक फल, सब्जी, फूल एवं अन्य खाद्य पदार्थ पहुंचाने के लिए देश की पहली किसान रेल शनिवार की सुबह प्रयागराज छिवकी रेलवे स्टेशन पहुंच रही है। इस ट्रेन से महाराष्ट्र की प्याज, केला आदि कई अन्य फल एवं सब्जियां आ रही हैं। यह ट्रेन बिहार के दानापुर तक जाएगी। इस ट्रेन की खास बात यह है कि इसके माध्यम से एक राज्य से दूसरे राज्य तक पहुंचने में सब्जी-फल जल्दी तो पहुंचेंगे ही, साथ ही ट्रेन में कोल्ड स्टोरेज की सुविधा होने से बीच रास्ते फल-सब्जी आदि में खराबी भी नहीं आएगी।

इस ट्रेन का सबसे ज्यादा फायदा छोटे किसानों एवं छोटे व्यापारियों को होगा। इसके माध्यम से किसान एवं व्यापारी छोटे से छोटा पार्सल भी बुक करके भिजवा सकते हैं। अभी सड़क मार्ग से नासिक आदि से प्याज आने में चार से पांच दिन का वक्त लगता है, लेकिन यह ट्रेन 24 घंटे के भीतर ही महाराष्ट्र की प्याज, केला, अंगूर एवं अन्य प्रमुख सब्जी और फल लेकर यहां आ जाएगी।

इसी तरह से प्रयागराज के अमरूद, प्रतापगढ़ का आंवला आदि भी महाराष्ट्र एवं अन्य राज्यों की मंडी में जल्द से जल्द पहुंच जाएगा। भारतीय रेल और कृषि मंत्रालय के संयुक्त प्रयास के बाद स्पेशल किसान ट्रेन की शुरूआत महाराष्ट्र के देवलाली स्टेशन से शुक्रवार को हुई।  यह स्पेशल ट्रेन पार्सल ट्रेन की ही तरह है। इसमें किसान और व्यापारी इच्छा के अनुरूप माल की लदान कर सकते हैं।

इसका भाड़ा भी रियायती होगा। मंडी कानून का झंझट न होने से किसान, आढ़तियों  को अपनी उपज को बिना किसी रोक टोक के एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाने में मदद मिलेगी। एनसीआर प्रयागराज मंडल के पीआरओ केशव त्रिपाठी ने बताया कि देवलाली से दानापुर के बीच यह ट्रेन प्रत्येक शनिवार की सुबह 10.40-11.00 बजे प्रयागराज छिवकी आएगी। इसी तरह दानापुर से देवलाली जाने के दौरान किसान रेल प्रत्येक रविवार शाम 7.45-8.05 बजे  प्रयागराज छिवकी पहुंच जाएगी। 

रेलवे ने चार पार्सल ट्रेनों का किया एलान

प्रयागराज। रेलवे द्वारा चार अन्य पार्सल ट्रेनों के संचालन का एलान किया गया है। इन चार में से दो ट्रेन नई दिल्ली-गुवाहाटी एवं अमृतसर-हावड़ा के बीच चलने वाली पार्सल ट्रेन प्रयागराज जंक्शन से होकर गुजरेगी। नई दिल्ली-गुवाहाटी पार्सल ट्रेन मंगलवार, बृहस्पतिवार को सुबह 11.30-11.40 बजे एवं अमृतसर-हावड़ा प्रत्येक मंगलवार दिन में 2.40-2.50 बजे प्रयागराज जंक्शन आएगी।
... और पढ़ें

सेंट्रल जेल नैनी के वरिष्ठ जेल अधीक्षक की पत्नी समेत पांच कोरोना संक्रमित

केंद्रीय कारागार नैनी के लिए शुक्रवार का दिन बड़ा चौंकाने वाला रहा। अभी तक अमूमन कोरोना संक्रमण से दूर रहे जेल के अधिकारियों एवं उनके परिवार वाले भी इस भयावह बीमारी की जद में आने लगे हैं। शुक्रवार को वरिष्ठ जेल अधीक्षक की पत्नी, जेल अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक व पुरानी महिला बैरक में क्वारंटीन किए गए तीन विचाराधीन बंदियों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव पाई गई। जिससे हड़कंप मच गया है।

वरिष्ठ जेल अधीक्षक की पत्नी और उनकी दोनों बेटियां रक्षाबंधन के दिन उनसे मिलने लखनऊ से नैनी सेंट्रल जेल स्थित उनके आवास पर आईं थी। जहां एहतियातन स्वरूपरानी नेहरू चिकित्सालय में वरिष्ठ जेल अधीक्षक, उनकी पत्नी एवं दोनों बेटियों ने कोरोना चेकअप कराया था। जिसमें वरिष्ठ जेल अधीक्षक और दोनों बेटियों की रिपोर्ट तो निगेटिव आ गई लेकिन उनकी पत्नी की रिपोर्ट पाजिटिव आ गई है।

इसी क्रम में जेल अस्पताल के एक चिकित्साधिकारी भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। उनके अलावा पुरानी महिला बैरक में रखे गए तीन विचाराधीन बंदियों की रिपोर्ट भी पाजिटिव आई है। हालांकि ये तीनों कैदी हाल ही में पुलिस के जरिए जेल भेजे गए थे, जिन्हें क्वारंटीन सेंटर में रखा गया था।  
... और पढ़ें
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us