विज्ञापन
विज्ञापन

बाला जी और अवंतिका अस्पताल में इलाज पर रोक, पंजीकरण निरस्त

अमर उजाला ब्यूरो, इलाहाबाद Updated Sat, 08 Sep 2018 01:54 AM IST
mahant indresh hospital
mahant indresh hospital
ख़बर सुनें
पार्क रोड स्थित एक ही भवन में चल रहे दो अस्पतालों के संचालन पर सीएमओ ने रोक लगा दी गई है। बाला जी और अवंतिका अस्पताल का पंजीकरण निलंबित करते हुए मरीजों के इलाज पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। छात्र नेताओं की शिकायत पर कराई गई जांच के दौरान इन दोनों अस्पतालों में कई खामियां मिली हैं। इस संबंध में शासन को भी रिपोर्ट भेजी गई है।  सीएमओ मेजर डॉ. जीएस बाजपेयी के मुताबिक इविवि के छात्र नेता अजीत यादव आदि ने बाला जी और अवंतिका अस्पताल (किडनी केयर सेंटर) में अनियमितताओं की शिकायत की थी। इसकी जांच के लिए टीम गठित की गई थी। कई आरोप पड़ताल में प्रथम दृष्टया पुष्ट हुए हैं। बाला जी और अवंतिका अस्पताल एक ही बिल्डिंग में संचालित मिले। इन अस्पतालों की फाइलों (बीएसटी) के कॉलम खाली मिले। डॉक्टरों के हस्ताक्षर भी नहीं थे। आरोप है कि इन अस्पतालों में मरीजों की जान से खिलवाड़ किया जाता है। सीएमओ के मुताबिक मरीजों के बयान भी कार्रवाई के आधार बने। दोनों अस्पतालों का पंजीकरण निरस्त कर नोटिस जारी किया गया है। समय पर सही जवाब न मिला तो पंजीकरण निरस्त किया जा सकता है।   
विज्ञापन
विज्ञापन
मरीजों ने जांच टीम को बताया कि परामर्श, परीक्षण मेडिकल कॉलेज के डॉ. दिलीप चौरसिया और डॉ. अरविंद गुप्ता करते हैं। डायलिसिस भी इन्हीं डॉक्टरों की देखरेख में की जाती है। डॉ.दिलीप चौरसिया के मुताबिक बाला जी चिकित्सालय उनकी पत्नी विदुला दिलीप के नाम है, जबकि अवंतिका की संचालिका डॉ. रचना हैं। उन्होंने बताया कि अस्पताल के पंजीकरण के निलंबन संबंधी पत्र या नोटिस अभी नहीं मिला है। बता दें कि दोनों अस्पतालों के खिलाफ जांच में ढिलाई और जानबूझ कर कार्रवाई न करने का आरोप लगाकर बुधवार को शिकायत करने वाले छात्र नेताओं ने सीएमओ दफ्तर पर नारेबाजी की थी। यहां से छात्र नेताओं ने कलक्ट्रेट पहुंचकर प्रमुख सचिव की वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान हंगामा किया था। वहीं सीएमओ का घेराव कर प्राइवेट प्रैक्टिस कर रहे मेडिकल कॉलेज के डॉ. दिलीप चौरसिया ,डॉ. अरविंद गुप्ता और अस्पतालों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग दोहराते हुए उग्र आंदोलन की चेतावनी भी दी थी। विरोध करने वालों में अवनीश यादव, विवेकानंद पाठक, अखिलेश गुप्ता, अरविंद सरोज, रवि सिंह, धीरज यादव, चौधरी संदीप यादव, अविनाश विद्यार्थी, राहुल पटेल समेत बड़ी संख्या में छात्र शामिल थे।  

मोती लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के डॉ. दिलीप चौरसिया और डॉ. अरविंद गुप्ता पर एक बार फिर प्राइवेट प्रैक्टिस करने के आरोप लगे हैं। सीएमओ मेजर डॉ. जीएस बाजपेयी के मुताबिक शिकायतों के आधार पर जांच कराई गई है। सरकारी डॉक्टरों के प्राइवेट प्रैक्टिस करने का मामला संज्ञान में आया है। इस संबंध में कार्रवाई के लिए शासन को रिपोर्ट भेजी गई है। जानकारी के मुताबिक डॉ.दिलीप मेडिकल कॉलेज शिक्षक एसोसिएशन के अध्यक्ष और डॉ. अरविंद वर्तमान में मेडिसिन विभाग के अध्यक्ष हैं। दोनों चिकित्सक गुर्दा रोग विशेषज्ञ हैं।

बाला जी अस्पताल का विवादों से पुराना नाता है। पिछले वर्ष शहर के एक प्रमुख व्यवसायी के भतीजे की मौत के बाद इलाज में लापरवाही के आरोप लगे थे। हाल ही में एक अन्य मरीज की मौत पर यहां हंगामा हो चुका है। आरोप है कि संचालक मेडिकल कॉलेज के नामचीन डॉक्टरों के नाम पर मरीज भर्ती करते हैं, लेकिन इलाज बिना डिग्री वाला स्टाफ करता है। 

Recommended

UP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।
UP Board 2019

UP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।

क्या आप जीवन में किसी चिंता से परेशान है? ज्योतिष शास्त्र द्वारा अपने प्रश्न का उत्तर जानिए
ज्योतिष समाधान

क्या आप जीवन में किसी चिंता से परेशान है? ज्योतिष शास्त्र द्वारा अपने प्रश्न का उत्तर जानिए

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वशनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Prayagraj

रेड लाइट एरिया बंद करने के मामले में पेश हुए अफसर

मेरठ में रेड लाइट एरिया बंद करने और सेक्स वर्कर्स के पुनुरुद्धार को लेकर दाखिल जनहित याचिका पर मंगलवार को मेरठ के डीएम, एसपी क्राइम और सीएमओ अदालत में पेश हुए।

24 अप्रैल 2019

विज्ञापन

प्रयागराज के इस गांव में जुड़वा बच्चे होते हैं पैदा, रहस्य का नहीं हो सका खुलासा

यूं तो अपने अब तक बॉलीवुड में जुड़वां चेहरों पर बनी न जाने कितनी ही फिल्मी देखी होगी लेकिन ये कहानियां सिर्फ रील लाइफ की ही नहीं है। बल्कि प्रयागराज मे एक गांव ऐसा है जहां पर हकीकत में जुड़वा चेहरों की भरमार है।

19 अप्रैल 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election