अस्पताल में भूख से बिलबिलाते रह गए बच्चे

इलाहाबाद/ब्यूरो Updated Fri, 02 Nov 2012 12:30 PM IST
children left hungry in hospital
बाल शिशु गृह के तीन बच्चों की मौत के बाद अफसरों का पूरा ध्यान बाल गृह में सुधार पर लगा हुआ है लेकिन बाल गृह के उन बच्चों की फिक्र किसी को नहीं, जो बीमारी के कारण चिल्ड्रेन अस्पताल में भर्ती हैं। बृहस्पतिवार को एक स्वयंसेवी संस्था के लोग अस्पताल पहुंचे तो बच्चों की बदहाली देखकर भड़क गए। बच्चे भूख से बिलबिला रहे थे ओर उनकी देखभाल के लिए वहां कोई मौजूद नहीं था। लोगों ने हंगामा शुरू किया तो बालगृह से बच्चों के लिए खाना भेजा गया लेकिन उससे पहले चाइल्ड लाइन से बच्चों के लिए भोजन आ गया। हालांकि प्रशासन के अफसरों का दावा है कि खाना समय से अस्पताल पहुंचा दिया गया था।

जागृति महिला सेवा संस्थान की अध्यक्ष मंजू पाठक, रिनी येसू सहित तमाम कार्यकर्ता दोपहर में चिल्ड्रेन अस्पताल पहुंचे तो वहां बच्चों की देखभाल करने वाला कोई नहीं था। तीन बच्चे वार्ड नंबर एक, दो बच्चे वार्ड नंबर पांच और एक बच्चा इमरजेंसी में एडमिट है। बच्चों के लिए दोपहर दो बजे तक भोजन भी नहीं आया था। संस्था के लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया और बाल गृह के अफसरों को फोन पर इसकी सूचना दी। हालांकि इसी बीच चाइल्ड लाइन की तरफ से बच्चों के लिए खाना भेज दिया गया।

शाम को चाइल्ड लाइन के फादर दीपक बच्चों को अस्पताल देखने पहुंचे तो पाया कि एक बेड पर दो बच्चों को रखा गया है। फादर दीपक ने जिला प्रोबेशन अधिकारी पुनीत मिश्र से आग्रह किया कि बच्चों की विशेष देखभाल के लिए चाइल्ड लाइन के कर्मचारियों को वहां रुकने की अनुमति प्रदान करें। जिला प्रोबेशन अधिकारी इसके लिए राजी हो गए। साथ ही उन्होंने बाल गृह से भी कुछ लोगों को अस्पताल में भर्ती बच्चों की देखभाल में लगा दिया। हालांकि जिला प्रोबेशन अधिकारी छह बच्चों के भर्ती होने की बात से इनकार कर रहे हैं। उनका दावा है कि अस्पताल में चार बच्चों का इलाज चल रहा है। उन्होंने संस्था के आरोपों को भी खारिज किया और दावा किया कि बच्चों को समय से खाना मिल गया था।

बाल कल्याण समिति को भंग करने की मांग
स्वयंसेवी संस्था के लोगों ने बृहस्पतिवार को डीएम को ज्ञापन देकर मांग की कि बाल कल्याण समिति का भंग कर उसका नए सिरे से गठन किया जाए। साथ ही बाल गृह का भवन बदलने, बच्चों के लिए पर्याप्त संख्य में गर्म कपड़े, मच्छरदानी, दूध की बोतलों की व्यवस्था किए जाने की मांग की गई। उधर, एसीएम प्रथम शत्रोहन वैश्य ने बाल गृह का निरीक्षण किया और कुछ खामियां चिह्नित कीं। उन्होंने बच्चों के लिए कुछ अतिरिक्त कंबल खरीदने का प्रस्ताव दिया है। साथ ही कर्मचारियों के छुट्टी पर होने के कारण हो रही दिक्कतों के बारे में डीएम को रिपोर्ट दे दी है।

Spotlight

Most Read

Jammu

महबूबा की PM और पाक से अपील, बोलीं- कश्मीर को अखाड़ा नहीं, दोस्ती का पुल बनाएं

जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती ने आज पुलिस कांस्टेबलों की पासिंग आउट परेड को संबोधित किया।

21 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी बोर्ड परीक्षा से पहले पकड़े गए 83,753 बोगस स्टूडेंट्स

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद यानी यूपी बोर्ड में बड़े फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ है। 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा शुरू होने से ठीक पहले ये बात सामने आई है कि परीक्षा आवेदनों में करीब 84 हजार बोगस स्टूडेंट हैं।

20 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper