ताराचंद हॉस्टल से 50 ‘दबंग’ हुए बाहर

Allahabad Updated Fri, 24 Jan 2014 05:44 AM IST
इलाहाबाद। इलाहाबाद विश्वविद्यालय के ताराचंद हॉस्टल में बुधवार को कार्रवाई के बाद 50 अवैध अंत:वासियों को बाहर का रास्ता दिखाया गया। इनमें से कई ताला बंद करके चले गए थे। ऐसे कमरों का ताला तोड़कर उनका सामान बाहर कर दिया गया। वैध छात्रों को बृहस्पतिवार से कब्जा दिलाने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। इसी के साथ जीएन झा को छोड़कर विश्वविद्यालय के हॉस्टलों में अवैध अंत:वासियों के खिलाफ कार्रवाई पूरी होने का दावा किया जा रहा है। शुक्रवार को महिला छात्रावासों में रेड पड़ेगी। इसके बाद ट्रस्ट के हॉस्टलों में कार्रवाई की तैयारी है लेकिन 11 मार्च से वार्षिक परीक्षाएं शुरू हो जाएंगी। ऐसे में इन हॉस्टलों में अभियान चल पाएगा इसको लेकर आशंका है।
जीएन झा में कार्रवाई के लिए मंगलवार को पहुंचे विश्वविद्यालय के अफसरों को काफी विरोध का सामना करना पड़ा था। दुर्व्यवहार के कारण अधीक्षक ने इस्तीफा भी दे दिया है। हॉस्टल में रेड भी नहीं पड़ पाई। इसके अलावा ताराचंद में अनियमितता की अधिक शिकायत को देखते हुए विरोध की आशंका थी। इसके मद्देनजर कार्रवाई से पहले ही भारी फोर्स पहुंच गई थी। शिक्षकों ने एक-एक कमरे की जांच की। कई अवैध छात्र पहले ही कमरा छोड़कर चले गए थे। जो थे, उन्हें बाहर कर दिया गया। इस दौरान शिक्षकों की छात्रों के साथ कई बार झड़प भी हुई। फोर्स मौजूद रहने के कारण विवाद बढ़ने नहीं पाया। डीएसडब्यू प्रोफेसर जगदम्बा सिंह ने बताया कि वार्डेन प्रोफेसर रामकृपाल बृहस्पतिवार से वैध छात्रों को कब्जा दिलाएंगे। उन्होंने बताया कि माघ मेला के कारण फोर्स मिलने में कठिनाई हो रही है। इसके अलावा परीक्षाएं भी नजदीक हैं। इसलिए ट्रस्ट के हॉस्टलों में कार्रवाई के लिए समय बहुत कम है। सभी हॉस्टलों में रेड की कोशिश की जाएगी।
समाज कल्याण विभाग के डॉ. अंबेडकर छात्रावास से भी 33 अवैध अंत:वासी बुधवार को बाहर किए गए। भारी फोर्स की मौजूदगी में हुई कार्रवाई के दौरान 40 वैध छात्रों को कब्जा दिलाया गया। एक सप्ताह में अन्य छात्रों को भी कब्जा लेने के लिए कहा गया है। 15 दिन बाद फिर रेड पड़ेगी। इसके बाद औचक निरीक्षण होगा। औचक निरीक्षण के दौरान अवैध कब्जा मिला तो संबंधित छात्र के खिलाफ एफआईआर लिखाई जाएगी।
तीन साल पहले निर्मित हॉस्टल में पहले केवल एससी छात्र रखे जाते थे लेकिन इस साल उसमें सामान्य तथा ओबीसी के छात्रों को भी प्रवेश दिया गया है। हॉस्टल में कुल 70 कमरों में 198 छात्रों के रहने की व्यवस्था है। इनमें 58 ओबीसी और ओबीसी के छात्र होंगे। एससी छात्र इसका शुरू से ही विरोध कर रहे हैं। इसकी वजह से डीएम को हस्तक्षेप करना पड़ा तथा उनके निर्देशन में हॉस्टल एलाट हुआ। इसके बाद भी दो महीने तक नए छात्रों को कब्जा नहीं मिल पाया। इसकी वजह से बुधवार को कार्रवाई के दौरान भारी फोर्स बुलाई गई थी। इस दौरान जिला समाज कल्याण अधिकारी अलख निरंजन मिश्र, कर्नलगंज के सीओ आदि अफसर मौजूद रहे। अधीक्षक गरुण मौर्य ने बताया जिन्हें अभी तक कब्जा नहीं मिला उनसे एक सप्ताह में संपर्क करने के लिए कहा गया है। उनकी तरफ से उनसे संपर्क किया जा रहा है।
अंबेडकर छात्रावास में हुई रैगिंग को दबाने की कोशिश की जा रही है। हॉस्टल के एक छात्र ने वरिष्ठों पर दुराचार की कोशिश का आरोप लगाया था। डीएम ने घटना की जांच के लिए तीन वरिष्ठ अफसरों की टीम बनाई है। उन्हें एक सप्ताह में ही रिपोर्ट सौंपनी थी लेकिन तकरीबन एक महीने बाद भी इस मामले में अभी तक छात्रों से पूछताछ तक नहीं हुई है। अफसरों का कहना है कि छुट्टियाें के कारण छात्रों से पूछताछ नहीं हो पाई। अब रेड भी पड़ गई है। जल्द ही जांच की प्रक्रिया पूरी की जाएगी।

Spotlight

Most Read

National

'पद्मावत' के विरोध में मल्टीप्लेक्स के टिकट काउंटर में लगाई आग

रात करीब पौने दस बजे चार-पांच युवक जिन्होंने अपने चेहरे ढक रखे थे, मॉल में आए और टिकट काउंटर के पास पहुंच कर उन्होंने हंगामा शुरू कर दिया।

20 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी बोर्ड परीक्षा से पहले पकड़े गए 83,753 बोगस स्टूडेंट्स

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद यानी यूपी बोर्ड में बड़े फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ है। 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा शुरू होने से ठीक पहले ये बात सामने आई है कि परीक्षा आवेदनों में करीब 84 हजार बोगस स्टूडेंट हैं।

20 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper