भारी मौसम में गंदगी कर देगी बीमार

Allahabad Updated Wed, 22 Jan 2014 05:43 AM IST
इलाहाबाद। बारिश और उसके बाद शहर में चौतरफा गंदगी ठंड के इस मौसम में शहरियों के लिए मुसीबत बन गई है। पटरी पार शहर दक्षिणी के घनी आबादी वाले मोहल्लों में भीषण गंदगी के कारण बीमारी फैलने का खतरा बढ़ गया है। बारिश के बाद कीचड़, बजबजाती नालियों और कूड़े के ढेर के कारण समस्या लगातार बढ़ रही है लेकिन नगर निगम इसे लेकर गंभीर नहीं है। निगम का दावा है कि कूड़ा उठाने के कार्य में लगी कंपनी एडब्ल्यूपी ने 15 वार्डों में डोर-टू-डोर कूड़ा कलेक्शन और डंपिंग ग्राउंड से कूड़ा उठाने का काम शुरू कर दिया है। ठेके पर अतिरिक्त सफाई कर्मचारी भी लगाए गए हैं लेकिन व्यवस्था में रत्तीभर सुधार होता नहीं दिख रहा है। शहर दक्षिणी के ज्यादातर इलाके घनी आबादी वाले हैं। लोकनाथ से लेकर मुट्ठीगंज, कीडगंज, बहादुरगंज हर तरफ सड़क गलियों में गंदगी का अंबार है। पिछले दिनों हुई बारिश के कारण इन इलाकों में स्थिति बेहद खराब हो गई है। कीडगंज में चौखंडी, पूरावल्दी, नई बस्ती की सड़क, गलियों में जगह-जगह कूड़े का अंबार लगा है। नालियों की नियमित सफाई न होने के कारण गंदा पानी आए दिन बाहर निकलकर बहता है। इसी वजह से दो दिन पहले हुई बारिश के कारण इन इलाकों की सड़क, गलियों में काफी भर गया। यमुना बैंक रोड की स्थिति भी काफी खराब है। बोट क्लब के बगल खाली जगह कूड़ा अड्डा बन गई है। त्रिवेणी रोड, खलासी लाइन, शंकर लाल भार्गव मार्ग का भी यही हाल है। खलासी लाइन में कबाड़ी मार्केट के पास सड़क पर कूड़ा अड्डा बना है। मोहल्लों, गलियों ने निकलने वाला कूड़ा सफाई कर्मचारी यहीं सड़क पर लाकर डाल देते हैं। नतीजा है कि आधी सड़क कूड़े के ढेर में तब्दील हो गई है। पूरे दिन मंडराने वाले सूअर कूड़े को और फैलाते हैं। पार्षद रमेश मिश्रा, अकीलुर्रहमान और किरन जायसवाल सफाई व्यवस्था दुरुस्त कराने की मांग को लेकर नगर आयुक्त से गई बार गुहार लगा चुकी हैं लेकिन कोई असर नहीं है। मुठ्ठीगंज चौराहा, अहिराना बस्ती, हटिया, गौतम सिनेमा के आसपास, कटघर में सड़क, गलियां गंदगी से पटी पड़ी हैं। संकरी गलियों वाले दरियाबाद में गंदगी, बजबजाती नालियों से जनता परेशान हैं। मीरापुर में शायद ही कोई ऐसा मोहल्ला हो जहां गंदगी न हो। यहां के लोगों ने भी नगर आयुक्त को कई पत्र लिखे, उनसे मुलाकात भी की लेकिन काम कुछ नहीं हुआ। शहर के पुराने मोहल्लों में शुमार मालवीय नगर में प्रसिद्ध भारती भवन है और यहीं लोकनाथ चौराहा है। बेहद घनी आबादी वाले इन क्षेत्र में नियमित रूप से सफाई तक नहीं होती। नालियां आखिरी बार कब साफ हुईं, स्थानीय लोगों को याद नहीं है। खोखा गली, सत्तीचौरा के आसपास भी स्थिति काफी खराब है। मीरगंज, बहादुरगंज, बादशाही मंडी, बताशा मंडी का भी यही हाल है। पार्षद विद्या द्विवेदी, सत्येंद्र चोपड़ा, नेम यादव ने भी इस मामले में नगर आयुक्त से लेकर नगर स्वास्थ्य अधिकारी तक से गुहार लगाई लेकिन स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ।
‘बहादुरगंज में मोती पार्क के आसपास, सुलाकी चौराहा, यहां से बांसमंडी की ओर जाने वाली सड़क, गलियों में गंदगी के साथ सीवर लाइन चोक हैं। सफाई कर्मी नियमित नहीं आते।’-जयशरण गुप्ता
‘मुट्ठीगंज गल्ला, तेल का बड़ा थोक बाजार है। यहां सफाई कब होती है, पता नहीं हैं। नालियां महीनों से जाम हैं। सफाई इंस्पेक्टर से कहा जाता है, नगर स्वास्थ्य अधिकारी से भी कहा लेकिन कोई सुनने वाला नहीं।’ -बबलू यादव
‘कीडगंज में गलियों की स्थिति काफी खराब है। यहां बड़ी संख्या में पंडे, तीर्थ पुरोहित रहते हैं। माघ मेला के दौरान बड़ी संख्या में यजमान और श्रद्धालु आते हैं। गंदगी की वजह से समस्या होती है।’ -हेमंत कुमार
‘कोठापार्चा में जलभराव गंभीर समस्या है। हल्की सी बारिश होने पर भी यहां जलभराव हो जाता है। नालियों के ऊपर अतिक्रमण है तो सीवर लाइन भी जाम है। सफाई न होने से स्थिति खराब है।’ -मुन्ना भइया
‘कीडगंज डाटपुल के नीचे गंदगी और अतिक्रमण के कारण लोगों को चलना मुश्किल होता है। यहीं पास में बाई का बाग पेठा वाली गली है, जहां कूड़े के ढेर से उठती दुर्गंध बीमारी का कारण बन रही है।’ -सीमा गुप्ता
‘मीरापुर में नेहरू नगर, पटेल नगर, पंजाबी क्वार्टर, शास्त्री नगर, हर्षवर्धन नगर, गोल पार्क, ललिता देवी मंदिर आदि इलाकों में सड़क, गलियों की स्थिति काफी खराब है। सफाई व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए नगर निगम से कई बार गया।’ -सुमित श्रीवास्तव

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

इलाहाबाद में चल रहे माघ मेले में लगी आग, कई टेंट जलकर हुए खाक

इलाहाबाद में चल रहे माघ मेले में रविवार दोपहर आग लगने से दहशत फैल गयी। माना जा रहा है कि आग दीये से लगी। फायर बिग्रेड की टीम ने किसी तरह आग पर काबू पाया। आग से कई टेंट जलकर खाक हो गए वहीं इस हादसे में कोई व्यक्ति हताहत नहीं हुआ।

22 जनवरी 2018