मतदान में देरी पर छात्रों में रोष, जताई आशंका

Allahabad Updated Wed, 27 Nov 2013 05:40 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
इलाहाबाद (ब्यूरो)। इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव में तीन घंटे देर से मतदान शुरू होने को लेकर प्रत्याशियों के साथ छात्र-छात्राओं में भी काफी नाराजगी रही। सैकड़ों विद्यार्थी सुबह ही मतदान के लिए पहुंच गए थे। केपीयूसी हॉस्टल के सामने वाले गेट पर सवा नौ बजे से तो लाइन लग गई थी। 10 बजे तक वहां लंबी कतार लग गई थी। इसके अलावा बड़ी संख्या में छात्र इंतजार में वहीं टहल भी रहे थे लेकिन साढे़ दस बजे उनका धैर्य जवाब दे गया और हंगामा करने लगे। उन्होंने विश्वविद्यालय प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। स्थिति बिगड़ती देख उन्हें परिसर में प्रवेश दिया गया। मतदान में देरी से नाराज विद्यार्थियों ने गड़बड़ी की भी आशंका जताई। उनका कहना था विश्वविद्यालय प्रशासन का हर कदम विवादों से भरा है। चुनाव से इतर अन्य मामलों में भी अफसरों पर उंगली उठ चुकी है।
विज्ञापन

एलएलबी अंतिम वर्ष के छात्र उत्तम त्रिपाठी का कहना था कि वह पौने नौ बजे वहां पहुंच गए लेकिन मतदान शुरू नहीं होने के कारण बाहर ही टहलना पड़ा। उत्तम का कहना था कि इससे विश्वविद्यालय प्रशासन की विश्वसनीयता पर भी सवाल उठता है। बीए अंतिम वर्ष के पुष्कर शुक्ल का कहना था कि पहले साढ़े आठ बजे मतदान शुरू होने की बात कही गई। फिर 10 बजे से मतदान की घोषणा हुई लेकिन शुरू हुआ सवा ग्यारह बजे। एलएलबी के छात्र शैलेश पांडेय का कहना था कि मतदान में यह हाल है तो मतगणना में क्या होगा। बड़ी लापरवाही है। शैलेश ने नामांकन पत्रों की जांच में भी अनियमितता की आशंका जताई। पहली बार वोट डालने पहुंचे बीए प्रथम वर्ष के रोहित माथुर का कहना था कि काफी बुरा अनुभव रहा। रोहित सुबह सवा आठ बजे ही विश्वविद्यालय पहुंच गया था। एमए अंतिम वर्ष की दीप्ति मिश्रा काफी गुस्से में थीं। उनका कहना था कि शुरुआत ही अव्यवस्था से हुई जो अंत तक बनी रही। बड़ी संख्या में छात्राएं वापस हो गईं। सुबह नौ बजे ही वोट देने के लिए पहुंची बीएससी प्रथम वर्ष की रागिनी का कहना था कि बहुत ही खराब व्यवस्था है। जैसा विश्वविद्यालय के बारे में सुना था वैसी न पढ़ाई होती है और न ही व्यवस्था है।
मंगलवार सुबह का आठ बजे। हर तरफ छात्रों का जुलूस, प्रत्याशियों के समर्थन में नारेबाजी। यह क्रम पौने नौ बजे तक जारी रहा लेकिन अचानक घोषणा होती है कि मतदान 10 बजे शुरू होगा। इसके बाद सड़क का माहौल अचानक बदल गया। प्रत्याशियों तथा समर्थकों का जोश ठंडा पड़ गया। ड्यूटी पर लगे कर्मचारी भी बाहर निकलने लगे। उन्हें बूथ पर ही बने रहने की लगातार हिदायत दी जाती रही लेकिन बहुत से कर्मचारी बाहर आ चुके थे। मतदान में देरी के कारण तीन घंटे का इंतजार प्रत्याशियों और समर्थकों के साथ आम छात्र-छात्राओं के लिए भी काफी उबाऊ और थकाने वाला रहा। सुबह नौ बजे के बाद केपीयूसी गेट के सामने वोट देने वाले तथा इधर-उधर झुंड में खड़े छात्रों को छोड़ दें तो सन्नाटा ही पसरा रहा। मतदान के पहले का माहौल पूरी तरह से गायब था।
बीच-बीच में निकल रहे जुलूस का शोर ही एहसास करा रहा था कि कुछ ही देर में विश्वविद्यालय में मतदान शुरू होने वाला है। हॉस्टलों में बने कार्यालय में भी सन्नाटा था। अधिकतर कार्यालयों में गिनती के छात्र मौजूद थे। बड़ी संख्या में छात्र हास्टल के अंदर थे। उनके लिए तीन घंटे गुजारना भी भारी पड़ रहा था।
विश्वविद्यालय के भूगोल विभाग में मतदान के दौरान तकरीबन साढ़े चार बजे दो प्रत्याशी भिड़ गए। आरोप है कि एक प्रत्याशी बूथ के अंदर घुसकर जबरदस्ती वोट डालने की कोशिश करने लगा। उसी दौरान वहां एक अन्य प्रत्याशी वोट डालने पहुंचा था और वह इसका विरोध करने लगा। इसको लेकर उनमें तथा समर्थकों में मारपीट शुरू हो गई। इस दौरान उन्होंने मतपत्र आदि फाड़ दिए। कुर्सियां भी फेंकी। एक प्रत्याशी ने गार्ड की भी पिटाई कर दी। सूचना पर चीफ प्रॉक्टर समेत अन्य अफसर भी वहां पहुंच गए। फोर्स ने जबरदस्ती वोट डालने की कोशिश करने वाले प्रत्याशी की जमकर पिटाई की। चुनाव अधिकारी का कहना है कि दो प्रत्याशियों में विवाद हो गया था लेकिन कुछ ही देर में स्थिति संभाल ली गई।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us