रात में कंपकपी, दिन में पसीना

Allahabad Updated Tue, 26 Nov 2013 05:40 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
इलाहाबाद। सुबह-रात की तीखी सर्दी के चक्कर में रविवार दोपहर जो भी हल्के गर्म कपड़े लादकर निकला, थोड़ी देर में उसे पसीना आ गया। तीन दिन पहले ही पारा औसत से पांच डिग्री नीचे था लेकिन पुरवइया की मौजूदगी के कारण जमीनी ऊर्जा बढ़ गई है। सुबह आठ बजे तक और रात सात केबाद दोपहिया से चलने पर सर्दी का एहसास होता है। शाम को सर्दी जरूर तेज हो गई लेकिन दिन की रंगत बदली सी है। जानकारों का कहना है कि मौसम की इस पलटी से तादात्म्य बैठाने की जरूरत है।
विज्ञापन

नवंबर बीतने को है लेकिन मौसम ने अभी झलकी भर दिखाई है। जानकारों का कहना है कि पिछले दिनों जम्मू-कश्मीर, हिमाचल के ऊपरी हिस्से में बर्फ गिरी है, कुछ दिनों में उसका असर गंगा के मैदानी इलाकों में भी दिखेगा। सर्दी अपने शुरूर में आने को बेकरार है लेकिन पुरवइया ने इसे पीछे धकेल रखा है। न्यूनतम तापमान नौ डिग्री तक लुढ़ककर वापस एक डिग्री चढ़ा है लेकिन आर्द्रता सौ फीसदी है इसलिए दिन में भारी कपड़ा पहनने पर गर्मी का एहसास हुआ। नमी सुबह कुहासे के रूप में उतर रही है। विशेषज्ञों का कहना है कि कंपकंपाने वाली सर्दी आने में ज्यादा वक्त नहीं है। मौसम विज्ञानी डॉ.एनके स्वरूप के मुताबिक जल्द ही सर्द हवाएं उत्तर भारत में आएंगी और तापमान तेजी से गिरेगा। पछुआ ने अभी अपना रंग नहीं दिखाया। हफ्ते भर पहले ही उत्तर पश्चिम से सर्द हवाओं के आने की उम्मीद जताई जा रही थी लेकिन पुरवइया के दबाव में पछुआ का अभियान सिमट गया। आर्द्रता कम होने के बाद जब निचले स्तर की हवाएं ऊपर उठेंगी तो उत्तर पश्चिम से तेजी से सर्द हवाएं खिचेंगी।
वातावरण में सौ फीसदी आर्द्रता है। चिकित्सकों का कहना है कि भारी नमी बच्चों, बूढ़ों और महिलाओं को तंग कर रही है। नमी के कारण दमा, खांसी, सीने में जकड़न, सिर दर्द, माइग्रेन के रोगी तेजी से बढ़ रहे हैं। दमा रोगियों के लिए यह मौसम दम निकालने वाला है। प्राइवेट अस्पतालों में बड़ी संख्या में दमा रोगी इलाज के लिए पहुंचे। डॉ.केसी अरोड़ा ने दमा रोगियों को सुबह-शाम एहतियात बरतने की सलाह दी।
चिकित्सकों का कहना है कि ऐसे समय में शरीर में ऊर्जा बनाए रखने वाले देर में पचने वाले खाद्य पदार्थों का उपयोग बेहतर होता है। रेशेदार हरी सब्जियां जिन्हें पचाने में वक्त लगे और विटामिन सी देने वाले फल बीमारियों से बचाव में मदद कर सकते हैं। वरिष्ठ फिजिशियन डॉ.सीपी सिंह के मुताबिक उड़द की दाल, सेम, गोभी, गुड़ शरीर में ऊर्जा बनाए रखने में मदद कर सकते हैं।
पिछले दिनों सर्दी का झटका लगने के बाद से ही गर्म कपड़ों के बाजार में भीड़ बढ़ गई है। तिब्बती मार्केट में सामान्य तौर पर डिजाइनर स्वेटर, शाल रखने वाले दुकानदारों ने इस बार जैकेट्स को ज्यादा तवज्जो दी है और उनकी मानें तो ज्यादा वही बिक भी रहा है। ब्रांडेड जैकेट्स का क्रेज भी बढ़ा है। जैकेट में हवा से सुरक्षा और फैशन दोनों स्वेटर के मुकाबले अधिक होता है, इसलिए युवा और अधेड़ भी इसे ही पसंद कर रहे हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us