इष्टदेव संग छावनी पहुंचे साधु-महात्मा

Allahabad Updated Wed, 19 Dec 2012 05:30 AM IST
इलाहाबाद। भूमि पूजन और धर्मध्वजा के बाद मंगलवार को अखाड़ों के साधु-महात्माओं ने ‘हर हर महादेव’ के जयघोष के साथ संगम की रेती पर बनी छावनी में प्रवेश किया। ऐसा पहली बार हुआ जब पंचदशनाम जूना अखाड़ा, शंभुपंच आवाहन अखाड़ा और श्रीपंच अग्नि अखाड़ा की पेशवाई एक साथ निकली। यमुना बैंक रोड स्थित मौजगिरि मंदिर से आरंभ पेशवाई एडीसी के सामने से होकर नए पुल को क्रास करते हुए मेला क्षेत्र में पहुंची।
पेशवाई में सबसे आगे जूना, फिर आवाहन और अंत में अग्नि अखाड़े के साधु-महात्मा रहे। पेशवाई में उत्तर प्रदेश के अलावा दिल्ली, मध्यप्रदेश के तकरीबन तीन दर्जन बैंड बाजे शामिल हुए। चांदी की आकर्षक पालकी पर विराजमान इष्टदेव भगवान दत्तात्रेय, अखाड़े के निशान और भाले लेकर चल रहे नागाओं सहित पेशवाई में हाथी, घोड़े, ऊंट भी शामिल थे। घोड़े पर ताशा बजाते चला नागा संन्यासी पथप्रदर्शक बने। आवाहन की पेशवाई इष्टदेव सिद्ध गणेश की पालकी के पीछे और अग्नि अखाड़े की गायत्री माता की पालकी के पीछे चली। हर अखाड़े की तीन-तीन ऊंची ध्वजाओं को सीध में रखने के लिए उसकी तनियों (रस्सियों) को चारों ओर से थामे हुए साधु चले।
जूना के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि की अगुवाई में अखाड़े के महामंडलेश्वर, श्रीमहंत, सचिव, कोतवाल, थानापति आदि छावनी पहुंचे। आवाहन अखाड़े के संत भी आवाहन पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी शिवेंद्र पुरी के संग चले। अग्नि अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर रामकृष्णानंद अस्वस्थता के कारण नहीं पहुंचे पर सभापति कैलाशानंद ने पेशवाई की अगुवाई की।
संतों की सवारी चली तो मौजगिरि आश्रम के करीब के मकानों से उन पर फूलों की पंखुड़ियां बरसाई गईं। मौजगिरि से लेकर त्रिवेणी मार्ग स्थित छावनी तक केसरिया चादर तनी दिखी। गले में फूलों की माला और मन में उत्साह लिए साधुओं का रेला चला तो पूरे रास्ते सड़क के दोनों ओर खड़े स्त्री-पुरुष, बच्चे हाथ जोड़कर उन्हें प्रणाम करते रहे। महामंडलेश्वरों के आगे डीजे बैंड की धुन पर श्रद्धालुओं की टोली उत्साह में झूमती-नाचती रही।
इसी बीच अखाड़े के सचिव पूरी पेशवाई को जगह-जगह से नियंत्रित करते रहे। चांदी की छड़ियां लिए अखाड़े के कोतवाल और थानापतियों ने भी पेशवाई की व्यवस्था संभाली। महामंडलेश्वरों की रथनुमा गाड़ियों के पीछे बड़ी संख्या में गाड़ियों पर सवार होकर भी साधु-महात्मा मेला क्षेत्र की छावनी में पहुंचे। आरंभ में वैदिक मंत्रोच्चार के बीच मौजगिरि मंदिर में आचार्यों की देखरेख में अखाड़े के इष्ट का पूजन और दही खिचड़ी का भोग प्रसाद लगाया गया।
मेला क्षेत्र में संतों का स्वागत
मेला क्षेत्र में प्रवेश करने पर मेला दफ्तर के पास आईजी आलोक शर्मा, एसएसपी कुंभ आरकेएस राठौर, कुंभ मेला अधिकारी मणिप्रसाद मिश्र, अपर मेलाअधिकारी सतीश शर्मा आदि ने जूना के राष्ट्रीय सचिव श्रीमहंत हरिगिरि, मेला प्रभारी सचिव श्रीमहंत विद्यानंद सरस्वती, सचिव श्रीमहंत प्रेमगिरि, श्रीमहंत प्रेमपुरी आदि का स्वागत किया। संतों ने भी अधिकारियों को मेले की कुशलता का आशीर्वाद दिया।
0 आकर्षण का केंद्र रहे नागा संन्यासी
बॉक्स
निशान के पीछे-पीछे चली नागा संन्यासियों की टोली सभी के आकर्षण का केंद्र रही। पूरी मौज, उमंग, उत्साह, श्रद्धा के साथ उन्होंने चांदी की छड़ियों के साथ अजब-गजब करतब से अपना उत्साह प्रदर्शित किया। पूरे रास्ते घेरे में नागा संन्यासियों के करतब लोगों को चकित करते रहे।

Spotlight

Most Read

Madhya Pradesh

CM शिवराज ने रोड शो में शख्स को जड़ा थप्पड़, ट्विटर पर हुए ट्रोल

रोड शो में मुख्यमंत्री अपना आपा खो बैठे और एक शख्स पर थप्पड़ जड़ दिया। इस घटना का वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है जिस वजह से लोग उनकी कड़ी निंदा करने लगे हैं।

16 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: मौनी अमावस्या पर संगम में डुबकी लगाने के लिए उमड़े लाखों श्रद्धालु

मौनी अमावस्या पर संगम में डुबकी लगाने के लिए लाखों श्रद्धालु इलाहाबाद पहुंच चुके हैं। संगम तट पर चल रहे माघ मेले के मद्देनजर पुलिस ने सुरक्षा के विशेष बंदोबस्त किए हुए हैं।

16 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper