पूरे दिन चला प्रशासन-साधुओं के बीच मान-मनौव्वल का खेल

Allahabad Updated Sun, 16 Dec 2012 05:30 AM IST
इलाहाबाद। मनमाफिक जमीन न मिलने से नाराज साधुओं के साथ शनिवार दिन में पुलिसकर्मियों ने खूब अभद्रता की। मुख्यमंत्री से मिलने की मांग कर रहे साधुओं को रोकने के लिए पुलिस ने उनके साथ धक्कामुक्की की, कुछ पर हाथ छोड़े। पुलिस की बैरिकेडिंग का विरोध कर आगे बढ़ने वाले कुछ साधुओं का गला दबाकर उन्हें दूर हटाया गया। ताज्जुब यह कि इस दौरान पूरा प्रशासन मूकदर्शक बना रहा। संतों की तरफ से कोई भी उग्र प्रतिक्रिया होती तो बवाल हो सकता था। बाद में साधुओं ने पुलिस के रवैये के खिलाफ प्रदर्शन किया और धरने पर बैठ गए। मामला बढ़ता देख अधिकारियों ने उन्हें मनाने की कोशिश की। उन्हें कई और जमीनें दिखाईं लेकिन फिलहाल समझौता नहीं हो सका। प्रशासन ने साधु संतों को रविवार को कुछ और जमीनें दिखाने का आश्वासन दिया और पुलिसवालों के व्यवहार को लेकर क्षमा मांगी।
गरमाया रहा जमीन न मिलने का मुद्दा
विवाद वैष्णव अखाड़ों की तीनों अनियों के महामंडलेश्वरों को जमीन न मिलने को लेकर है। जमीन आवंटन को लेकर सभी संत मेला प्रशासन पर भेदभावपूर्ण रवैया अपनाने का आरोप लगा रहे हैं। शनिवार को मुख्यमंत्री के इलाहाबाद आने का कार्यक्रम था। संतों ने तय किया कि मुख्यमंत्री से मिलकर इस मसले पर विरोध दर्ज कराएंगे। इस मसले पर शुक्रवार को विरोध प्रदर्शन कर चुके संत शनिवार सुबह साथ हुए। दिगंबर अनी अखाड़े में जुटे जगद्गुरु हंसदेवाचार्य सहित अनी अखाड़ों के श्रीमहंतों, सचिवों ने प्रशासन के भेदभावपूर्ण रवैये के विरोध में मुख्यमंत्री को ज्ञापन देने का फैसला किया। अखाड़े के साधु मुख्यमंत्री से मिलने के लिए निकले तो त्रिवेणी मार्ग चौराहे पर उन्हें बलपूर्वक रोक दिया गया। साधुओं को रोकने के लिए तीन तरफ से बैरीकेडिंग कर दी गई। साधुओं ने कहा कि वे किसी भी कीमत पर सीएम से मिल मेला प्रशासन की शिकायत करेंगे तो पुलिस ने उनके साथ धक्कामुक्की शुरू कर दी। कई पुलिसकर्मियों ने साधुओं का गला पकड़ उन्हें दूर धकेल दिया। आरोप है कि उन्हें अधिकारियों की शह मिली थी। विरोध में नाराज साधुओं ने वहीं पर धरना-प्रदर्शन आरंभ कर दिया।
दिखाई गई नई जमीन
पुलिस की हाथापाई के बाद मामला गरमाता देख मेला अधिकारी और एसएसपी आरकेएस राठौर वहां पहुंचे और साधुओं को समझाने की कोशिश की। बात नहीं बनी तो अफसर तीनों अखाड़ों के प्रधानमंत्री माधवदास सहित निर्वाणी अनी के श्रीमहंत धर्मदास, महासचिव गौरीशकंर दास, दिगंबर अनी के श्रीमहंत रामकिशोर दास, मंत्री कृष्णदास, निर्मोही अनी के श्रीमहंत राजेंद्र दास, मंत्री श्याम सुंदर दास को लेकर मौके पर जमीन दिखाने निकल पड़े। हालांकि इससे बात नहीं बनी। रविवार को नए सिरे से जमीन को लेकर प्रदर्शन होगा। महामंडलेश्वर रामकृपाल दास ठाकुर पहलवान, रामकमल दास वेदांती, कामता दास, सनत कुमार दास, कमलेश दास, राधामोहन दास, डॉ.रामेश्वर दास, ईश्वर दास, सच्चिदानंद दास धरने में रहे और सभी ने पुलिस के रवैये की निंदा की।

दूसरों को बांटी गईं वैष्णवों की जमीन
वैष्णवों ने प्रशासन पर आरोप लगाया कि उनके महामंडलेश्वरों की जमीन दूसरों को दे दी गई। तीनों अनी अखाड़ों के प्रधानमंत्री माधवदास के मुताबिक उनकी जमीन पर दूसरों को बसा दिया गया है। पखवाड़े भर से प्रशासन सिर्फ आश्वासन दे रहा है। शनिवार को भी मुक्ति मार्ग के पूरब मार्ग पर जिस जगह जमीन की पेशकश की गई, वह अपर्याप्त होने के साथ ही दलदली है और वहां बड़े बड़े गड्ढे हैं।
‘‘मुख्यमंत्री से अपनी बात कहने जा रहे साधुओं को बलपूर्वक घेराबंदी करके रोका और पशुबाडे़ की तरह रखा गया। उनके साथ धक्कामुक्की की गई, गला पकड़ा गया जो कि अन्यायपूर्ण है। मेला प्रशासन वैष्णवों के साथ दुर्व्यवहार और सौतेलेपन का रवैया अपना रहा है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।’’
0 महंत माधवदास
तीनों ही अनी अखाड़ों के प्रधानमंत्री

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी एसटीएफ ने मार गिराया एक लाख का इनामी बदमाश, दस मामलों में था वांछित

यूपी एसटीएफ ने दस मामलों में वांछित बग्गा सिंह को नेपाल बॉर्डर के करीब मार गिराया। उस पर एक लाख का इनाम घोषित ‌किया गया था।

17 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: मौनी अमावस्या पर संगम में डुबकी लगाने के लिए उमड़े लाखों श्रद्धालु

मौनी अमावस्या पर संगम में डुबकी लगाने के लिए लाखों श्रद्धालु इलाहाबाद पहुंच चुके हैं। संगम तट पर चल रहे माघ मेले के मद्देनजर पुलिस ने सुरक्षा के विशेष बंदोबस्त किए हुए हैं।

16 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper