विज्ञापन
विज्ञापन

20 बरस बाद भी पहचाने जा सकेंगे अपराधी

Allahabad Updated Wed, 12 Dec 2012 05:30 AM IST
ख़बर सुनें
इलाहाबाद। क्राइम करते समय कैमरा से चेहरा बचाकर खुद को सुरक्षित समझने वाले अपराधियों को अब मुंह की खानी होगी। पहचान के लिए वैज्ञानिकों ने जो नई तकनीक विकसित की है, उसकी सहायता से शातिर से शातिर अपराधी भी खुफिया तंत्र की गिरफ्त में होंगे। द स्टेट यूनिवर्सिटी आफ न्यूयार्क बुफैलो के अध्यक्ष प्रोफेसर सतीश के. त्रिपाठी के नेतृत्व में वैज्ञानिक ऐसा ‘साफ्ट बायोमेट्रिक’ बनाने में जुटे हैं, जो किसी की भी चाल, कूल्हे के मूवमेंट आदि को देखकर उसकी पहचान कर लेगा। उन्हें इसमें काफी हद तक सफलता भी मिल चुकी है। बस उसे निर्धारित मापदंडों की कसौटी पर परखा जाना है।
विज्ञापन
ट्रिपलआईटी के विज्ञान समागम में पहुंचे प्रोफेसर सतीश ने बताया कि पहचान के लिए फिलहाल हार्ड बायोमेट्री तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसमें आंख के रेटिना, हाथों की उंगलियों आदि का मिलान करके व्यक्ति की पहचान की जाती है लेकिन इसकी सीमाएं हैं। बीमारी के कारण आंख की रेटिना का सही मिलान संभव नहीं हो पाता। इसके अलावा मजदूरी, खेती का काम करने वालों की हाथ की रेखाएं भी स्पष्ट नहीं होंती। ऐसे में यह तकनीक बहुत कारगर नहीं हो पाती लेकिन ‘साफ्ट बायोमेट्री’ तकनीक में व्यक्ति की हर छोटी-से छोटी गतिविधि पर न केवल नजर रखी जा सकती है बल्कि उसकी विशेषताओं को भी अलग-अलग किया जा सकता है। इससे यदि कैमरे में मात्र किसी के पैर के पंजे दिख रहे हैं तब भी उसकी पहचान हो जाएगी।
झूठ बोलते ही धरे जाएंगे
वैज्ञानिकों का दावा हकीकत में बदल सका तो कोई भी व्यक्ति झूठ बोलकर बच नहीं पाएगा। मशीन तुरंत चिल्लाने लगेगी। अमेरिकी वैज्ञानिक प्रोफेसर सतीश के. त्रिपाठी की टीम साफ्ट बायोमेट्री तकनीक से ऐसा उपकरण बना रही है जो यह बता देगा कि व्यक्ति झूठ बोल रहा है या सच। प्रोफेसर सतीश ने बताया कि अभी उपलब्ध लाई डिटेक्टर पूरी तरह से सफल नहीं हैं। इसीलिए इसकी बहुत मान्यता भी नहीं है लेकिन नई तकनीक में बोलने के तरीके, आवाज आदि का अध्ययन करके बताया जा सकेगा कि व्यक्ति कितना सच्चा है। सच-झूठ की पहचान पूरी तरह विज्ञान और तकनीक पर आधारित होगी, न कि अनुमान पर।
वर्षों बाद भी चेहरे की हो जाएगी पहचान
साफ्ट बायोमेट्री तकनीकी से कोई व्यक्ति 10 साल या इससे भी ज्यादा समय बाद कैसा होगा इसका भी अनुमान लगाया जा सकता है। चेहरे की बनावट, स्किन, उसमें हो रहे परिवर्तन का अध्ययन करके वर्षों बाद के चेहरे का ग्राफ तैयार किया जा सकता है। इसकी मदद से वर्षों पहले गुम व्यक्ति की भी पहचान की जा सकती है। वैज्ञानिकों का दावा है कि वर्षों पहले की घटना में लिप्त अपराधी को भी इस विधि से पकड़ा जा सकता है।
पासवर्ड चुराने वाले भी होंगे पकड़ में
वैज्ञानिकों का दावा है कि साफ्ट बायोमेट्री तकनीक से की-बोर्ड पर टाइप करते समय मात्र उंगली देखकर भी व्यक्ति की पहचान की जा सकती है। इतना ही नहीं की-बोर्ड पर पड़ने वाले दबाव, स्पीड आदि के माध्यम से यह भी बताया जा सकता है कि जिसका कम्प्यूटर है वही व्यक्ति काम कर रहा है या कोई दूसरा। दावा है कि इससे पासवर्ड हाईजैक होने की तत्काल सूचना मिल जाएगी। इतना ही नहीं इसे चुराने वाले की भी पहचान की जा सकेगी।
‘आधार’ से व्यक्ति की खोज भी होगी आसान
‘आधार’ कार्ड से केवल व्यक्ति की पहचान ही नहीं हो सकेगी, उसकी खोज भी संभव हो जाएगी। वैज्ञानिक अब ऐसी तकनीक विकसित में जुटे हैं जिसमें लाखों की सूची में शामिल व्यक्ति के बारे में भी तत्काल जानकारी जुटाई जा सके। प्रोफेसर सतीश के. त्रिपाठी ने बताया कि अभी यदि कोई खुद अपने बारे में बताता है तो ’आधार’ या उपलब्ध अन्य संसाधनों से यह तो प्रमाणित किया जा सकता है यह वही व्यक्ति है लेकिन केवल पहचान के आधार पर लाखों में किसी को तलाश करना बायोमेट्री तकनीक के सामने अब भी बड़ी चुनौती है। लाखों लोगों की सूची में आंख के रेटिना, फिंगर प्रिंट आदि के माध्यम से किसी के बारे में जानकारी जुटाने में अब भी काफी वक्त लग जाता है लेकिन अलगणितम, कोडिंग आदि की तकनीक से यह समस्या जल्द दूर होगी। इससे भटके बच्चों या पहचान छिपाने वाले अपराधियों के बारे में आसानी से जानकारी प्राप्त की जा सकेगी।
विज्ञापन

Recommended

शेयर मार्केट, अब नहीं रहेगा गुत्थी
Invertis university

शेयर मार्केट, अब नहीं रहेगा गुत्थी

संतान के उज्वल भविष्य व लंबी आयु के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं संतान गोपाल पाठ व हवन - 24 अगस्त
Astrology Services

संतान के उज्वल भविष्य व लंबी आयु के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं संतान गोपाल पाठ व हवन - 24 अगस्त

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Prayagraj

37 लाख लेकर सोनाक्षी का कार्यक्रम नहीं कराना आयोजक को पड़ा भारी, गिरफ्तारी से राहत नहीं

हाईकोर्ट ने 37 लाख रुपये लेने के बाद भी बॉलीवुड अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा का कार्यक्रम नहीं कराने के आरोपी अभिषेक सिन्हा को गिरफ्तारी से राहत देने से इनकार कर दिया।

21 अगस्त 2019

विज्ञापन

फ्रांस में मुस्लिमों ने मोदी का किया स्वागत, वीडियो देख बौखला गए पाकिस्तान के ये मंत्री

France में Muslims की ओर से Prime Minister Narendra Modi के जोरदार स्वागत का Video PMO ने Twitter पर शेयर किया तो इसे देख Pakistan Minister Fawad Chaudhry खुद की बौखलाहट छिपा न सके और Twitter पर Reply कर डाला, जिसके बाव फवाद लगातार Troll हो रहे हैं।

23 अगस्त 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree