हादसों का शहर है भाई! रुको, देखो फिर चलो

Allahabad Updated Mon, 03 Dec 2012 05:30 AM IST
इलाहाबाद। कुंभ के तहत शहर भर में चौड़ी की गईं सड़कें शहरियों पर ही मुसीबत बनकर टूट पड़ी हैं। बेढंगे तरीके से बनाई गई सड़कों पर दुर्घटनाएं तेजी से बढ़ रही हैं। सड़क पर डिवाइड नहीं बने, रोट पटरी गायब कर दी गई, रोटरी नहीं बनी, चंद चौराहों को छोड़कर ट्रैफिक पुलिस भी नदारद है, ट्रैफिक सिग्नल शोपीस बनकर रह गए हैं। ऐसा लगने लगा है जैसे वाहन सड़कों पर नहीं, मैदान पर दौड़ रहे हैं। इन सड़कों को बनाने में तकरीबन चार सौ करोड़ रुपए खर्च किए गए लेकिन फायदा कुछ नहीं हुआ। सड़कों को सिर्फ चौड़ा और काला करने में अरबों रुपए फूंक दिए गए। प्रशासन, शासन के अधिकारियों, मंत्रियों ने काम की गुणवत्ता परखने के लिए ढेरों निरीक्षण किए लेकिन किसी भी अफसर ने अनियोजित विकास पर कोई आपत्ति नहीं की। कुंभ के तहत रकम आती रही और सड़कों पर ऐसे ही पानी की तरह बहती रही।
रोड पटरी नहीं, सड़क पर चलेगी भीड़
0 जवाहर लाल नेहरू रोड, मदन मोहन मालवीय मार्ग, दयानंद मार्ग, ड्रमंड रोड, सरोजनी नायडू मार्ग, सीएसपी सिंह मार्ग, लाउदर रोड, स्टेनली रोड सहित शहर के तमाम मार्गों से रोड पटरी गायब कर दी गई है। कुंभ के दौरान सड़कों पर भीड़ बढ़ेगी और भीड़ में ज्यादातर लोग पैदल होंगे। रोड पटरी न होने पर उन्हें भी सड़क पर चलना होगा। ऐसे में चौड़ी सड़कों पर फर्राटा भरने वाले वाहनों से टकराकर दुर्घटनाग्रस्त होने का खतरा मंडराता रहेगा।
चौराहों पर भी नहीं लग रहे ब्रेक
0 शहर में कई सड़कों को तो चौड़ा कर दिया गया लेकिन चौराहों पर बना ट्रैफिक पोस्ट जस का तस खड़ा हुआ है। चौराहों पर रोटरी न होने के कारण फर्राटा भरने वाले वाहन चौराहे पर भी बेकाबू नजर आ रहे हैं। प्रधान डाकघर के पास सड़क चौड़ी की गईं लेकिन वहां पहले से बना ट्रैफिक पोस्ट भी हटा दिया गया। हॉट स्टफ चौराहे के चारों तरफ सड़क चौड़ी की गई लेकिन ट्रैफिक पोस्ट पुराना ही लगा है। मजार तिराहा क्रॉसिंग और जॉर्जटाउन थाने वाले चौराहे का भी यही हालत है। इन चौराहों पर ट्रैफिक पुलिस भी साल भर नदारद रहती है। ऐसे में फर्राटा भरते वाहनों के इन चौराहों पर पहुंचते ही दुर्घटना का खतरा बढ़ जाता है।
घर का दरवाजा खुलते ही सड़क
लाउदर रोड, मदनमोहन मालवीय मार्ग सहित तमाम मार्गों को इतना चौड़ा कर दिया गया है कि सड़क घरों के दरवाजे तक पहुंच गई है। घर का दरवाजा खोलकर एक कदम भी बाहर निकला तो पांव सीधे सड़क पर पड़ते हैं। अगर उसी वक्त कोई वाहन सड़क किनारे तेजी से निकल रहा है तो दुर्घटना तय है। खतरा सिर्फ इतना ही नहीं, रात को सड़क पर फर्राटा भरने वाले ट्रक चालक थोड़ा भी चुके और गाड़ी का संतुलन बिगड़ा तो ट्रक सीधे घरों से टकराएंगे।
आखिर किस काम के ट्रैफिक सिग्नल
सिविल लाइंस का सुभाष चौराहा हो या मेडिकल कॉलेज चौराहा। हर जगह नए ट्रैफिक सिग्नल लगा दिए गए हैं। इसके लिए बड़ी रकम भी खर्च की गई लेकिन हकीकत यही है कि ट्रैफिक सिग्नल किसी कम के नहीं। ट्रैफिक सिग्नल को सिर्फ चौराहों के सौंदर्यीकरण का एक हिस्सा माना जा रहा है।

Spotlight

Most Read

Jammu

पाकिस्तान ने बॉर्डर से सटी सारी चौकियों को बनाया निशाना, 2 नागरिक की मौत

बॉर्डर पर पाकिस्तान ने एक बार फिर से नापाक हरकत की है। जम्मू-कश्मीर में आरएस पुरा सेक्टर में पाकिस्तान की ओर से सीजफायर का उल्लंघन किया है।

19 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: मौनी अमावस्या पर संगम में डुबकी लगाने के लिए उमड़े लाखों श्रद्धालु

मौनी अमावस्या पर संगम में डुबकी लगाने के लिए लाखों श्रद्धालु इलाहाबाद पहुंच चुके हैं। संगम तट पर चल रहे माघ मेले के मद्देनजर पुलिस ने सुरक्षा के विशेष बंदोबस्त किए हुए हैं।

16 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper