रुकी पॉलीथिन तो बदल जाएगी बाजार की रंगत

Allahabad Updated Sun, 21 Oct 2012 12:00 PM IST
इलाहाबाद। पॉलीथिन पर पूरी तरह रोक लगाने का आदेश को लेकर बाजार और ग्राहकों में उहापोह की स्थिति है। दुकानदारों में चर्चा है कि इसका असर केवल चार माइक्रॉन से कम वाली पॉलीथिन पर ही रोक लगेगी। सो, कपड़े, रेडीमेड गारमेंट्स समेत ऐसी दुकानों पर नहीं पड़ेगा, जहां प्रतिबंधित क्षमता की पॉलीथिन का इस्तेमाल नहीं हो रहा है। ज्यादातर ग्राहक नए निर्देश से अनजान हैं लेकिन उनका तर्क है कि दुकानदार ही विकल्प तलाश लेंगे। ग्राहकों की सुविधा के लिए नए पैक की सुविधा दुकानदार उपलब्ध कराएंगे। हालांकि, यह तय है कि न्यायालय का आदेश लागू हुआ तो सब्जी विक्रेताओं, किराना स्टोर के साथ ही पूरे मार्केट की रंगत बदल जाएगी। अभी पॉलीथिन के पैकेट लेकर घूमने वाले लोग जूट बैग, पेपर बैग या अन्य किस्म के बैग लेकर बाजार में टहलते दिखेंगे।
अभी बाजार में आलू, प्याज की सब्जी की दुकान, किराना स्टोर, मिल्क बार से लेकर छोटे-बड़े शोरूम तक और खानपान की दुकानों में भी पॉलीथिन का इस्तेमाल हो रहा है। इनकी क्वालिटी को लेकर बहस जरूर है, लेकिन शहर में रोजाना लाखों रुपए की पॉलीथिन प्रयोग की जा रही है। रेस्टोरेंट की पैकिंग में पेपर बैग हैं, परंतु टांगने के लिए पॉलीथिन के कैरी बैग दिए जा रहे हैं। एक स्टोर पर रेडीमेड गारमेंट खरीदने पहुंचे संदीप कुमार को पॉलीथिन पर रोक संबंधी आदेश की जानकारी नहीं थी। वह इससे बेफिक्र भी दिखे। कहते हैं कि रेडीमेड और फुटवियर की बड़ी कंपनियों के शोरूमों पर पेपर बैग मिलने लगे हैं। रोक लगने के बाद छोटे दुकानदार भी विकल्प अपना लेंगे। ग्राहकों को टेंशन नहीं है।
सब्जी दुकानदार और किराना स्टोर वाले जरूर परेशान हैं। सब्जी दुकानदार रशीद अहमद का कहना है कि ग्राहक पांच रुपए का सामान खरीदते हैं तो भी पॉलीथिन मांगते हैं। बाजार में बिकने वाली पॉलीथिन सस्ती है। यही हाल किराना स्टोर वालों का है। एक पैकेट दूध या टूथब्रश और पेस्ट या पांच से 10 रुपए के सामान के लिए भी ग्राहक पॉलीथिन मांगते हैं।
कागज के थैलों की बढ़ेगी मांग
चौक, लोकनाथ में किराने की कई दुकानों पर कागज के थैले अब भी इस्तेमाल हो रहे हैं। 10 से 250 ग्राम तक वजन के सामान कागज के थैले में ही दिए जाते हैं। हालांकि, यह पॉलीथिन से महंगे पड़ते हैं। मांग कम होने से इन्हें बनाने वालों ने दूसरा काम शुरू कर दिया है। पुराने दुकानदारों का कहना है कि रोक पर अमल हुआ तो कागज के थैलों का प्रयोग फिर बढ़ जाएगा। इससे नाले-नालियों के चोक होने का खतरा भी नहीं है।
बाजार में आ गए ‘नान ओमेन’ बैग
पॉलीथिन पर रोक लगने के निर्देश जारी होने के पहले ही बाजार ने विकल्पों की तलाश शुरू कर दी है। मल्टीनेशनल ब्रांड वाले कई स्टोरों पर पेपर और जूट बैग मिलने लगे हैं। रेडीमेड गारमेंट की दुकानों पर ‘नान ओमेन’ के नाम से प्लास्टिक फाइबर के बने बैग भी आने लगे हैं। दुकानदार अजीत श्रीवास्तव बताते हैं कि बहुप्रचलित पॉलीथिन बैग की अपेक्षा नया बैग सस्ता है।

Spotlight

Most Read

National

इलाहाबाद HC का निर्देश- CBI जांच में सहयोग करे लोक सेवा आयोग

कोर्ट ने लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष को जवाब दाखिल करने के लिए छह फरवरी तक की मोहलत दी है।

19 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: मौनी अमावस्या पर संगम में डुबकी लगाने के लिए उमड़े लाखों श्रद्धालु

मौनी अमावस्या पर संगम में डुबकी लगाने के लिए लाखों श्रद्धालु इलाहाबाद पहुंच चुके हैं। संगम तट पर चल रहे माघ मेले के मद्देनजर पुलिस ने सुरक्षा के विशेष बंदोबस्त किए हुए हैं।

16 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper