बीटेक के बाद आईएएस की तैयारी करती साजन

Allahabad Updated Wed, 26 Sep 2012 12:00 PM IST
इलाहाबाद। 18 साल की अंजली यादव उर्फ साजन की एकाएक मौत ने उसके परिवार को गहरा सदमा दिया है। अंजली से कई सपने जुड़े थे उसके मां-बाप के। खासतौर से मां उर्मिला ने अपनी इस दुलारी बेटी को इंजीनियर और फिर आईएएस अफसर बनाने का सपना देखा था। बेटी छिनी और एक झटके में सपना टूटा तो मां का कलेजा मानो फट गया। मां के विलाप से पोस्टमार्टम हाउस पर मौजूद लोगों के आंसू छलक आए।
अंजली दो बहनों में छोटी थी। बड़ी बहन पूजा कानपुर शहर में रहकर सीपीएमटी की तैयारी कर रही है। इकलौता भाई सोम भी वहीं पढ़ रहा है। उरई पुलिस लाइन में सिपाही पद पर तैनात पिता अवध किशोर यादव को सुबह करीब छह बजे फोन से पहले अंजली की बेहोशी की खबर दी गई। फिर एसपी यमुनापार ने सवा छह बजे ही साफतौर पर बताया कि अंजली की मौत हो गई। अवध किशोर बदहवासी में उरई से चले। कानपुर देहात में जलापुर पुखरायां स्थित घर में पत्नी उर्मिला को फोनकर उन्हें भतीजे देवेश के साथ बस से इलाहाबाद रवाना होने के लिए कहा। दोपहर में पहले अंजली के चाचा सिपाही अमर सिंह यादव, कुछ देर बाद पिता अवध किशोर और फिर मां उर्मिला पोस्टमार्टम हाउस पहुंची। मां तो रिक्शा से भतीजे के साथ उतरते ही इस कदर रोने-चीखने लगीं कि हर कोई सन्न रह गया। वह सीना पीटते पहले पति से लिपटीं फिर जमीन पर गिर गईं।
हे भगवान...लौटा दो मेरा लाल...मेरी बेटी
मां उर्मिला रोते हुए लगातार कह रही थीं-‘कहां गई मेरी बिटिया....मेरा लाल। उसका चेहरा दिखा दो एक बार...वह ऐसे छोड़कर नहीं जा सकती...। कल रात 11 बजे तक बिटिया मुझसे बतियाती रही। मैंने कहा कि सो जाओ तो बोली मेरी साजन कि मम्मी एक बजे तक जगती हूं। अरे मेरा बेटा कहां चला गया। उसे कोई बीमारी नहीं थी। कल भी पूछा तो बोली थी सब ठीक है। एक महीने में तीन बार घर आ चुकी थी। कोई दिक्कत नहीं थी मेरे लाल को, फिर क्या हो गया। मैं मर जाऊंगी उसके बिना। सब मना कर रहे थे कि मत भेजो इलाहाबाद। मैं ही अड़ी थी कि बिटिया बनेगी इंजीनियर, फिर आईएएस की तैयारी करेगी लेकिन सब बेकार हो गया...। कभी अपने लाल से एक गिलास पानी तक नहीं मांगा कि पढ़ाई में डिस्टर्ब न हो। हे भगवान..लौटा तो मेरी बिटिया को।’
शाम को कैंडल जुलूस निकाल जताया दुख
नैनी। बीटेक छात्रा अंजली यादव की मौत और इलाज में देरी से नाराज छात्र-छात्राओं ने कई घंटे तक हंगामा किया था। शाम को छात्र-छात्राओं ने कैंडल जुलूस निकालकर अंजली की मृत्यु पर शोक जताया। कॉलेज के रजिस्ट्रार के पहुंचने पर फिर हल्ला होने लगा। छात्र-छात्राओं ने कहा कि अगर फौरन अंजली का उपचार होता तो उसकी जान बच सकती थी।
शोक और सदमे से दो छात्राएं बेहोश
नैनी। इंजीनियरिंग कॉलेज के हॉस्टल में अंजली यादव की मौत ने उसकी साथी छात्राओं को दहला दिया है। अंजली का बर्ताव बेहद सौम्य था। उसकी याद में छात्राएं दिन भर रोती-आंसू बहाती रहीं। दिन भर भूख-प्यास, शोक और सदमे के चलते शाम को दो छात्राएं बेहोश हो गईं। पता चला तो कॉलेज प्रशासन की ओर से उन्हें अस्पताल ले जाया गया। इस घटना के बाद कॉलेज में तीन दिन के लिए छुट्टी कर दी गई है। कॉलेज प्रशासन की ओर से बताया गया कि तीन दिन का प्रीपरेशन लीव हुआ है।

Spotlight

Most Read

Rohtak

जीएसटी विभाग ने ई-वे बिल को लेकर जांच किया अवेयरनेस कैंपेन

जीएसटी विभाग ने ई-वे बिल को लेकर जांच किया अवेयरनेस कैंपेन

19 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: मौनी अमावस्या पर संगम में डुबकी लगाने के लिए उमड़े लाखों श्रद्धालु

मौनी अमावस्या पर संगम में डुबकी लगाने के लिए लाखों श्रद्धालु इलाहाबाद पहुंच चुके हैं। संगम तट पर चल रहे माघ मेले के मद्देनजर पुलिस ने सुरक्षा के विशेष बंदोबस्त किए हुए हैं।

16 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper