बारिश में नरक बना शहर

Allahabad Updated Wed, 19 Sep 2012 12:00 PM IST
इलाहाबाद। तीन दिन हुई जबरदस्त बारिश के कारण अल्लापुर, टैगोर टाउन, जार्जटाउन, अलोपीबाग, सोहबतियाबाग, बैरहना, रामबाग आदि इलाकों से पानी अभी पूरी तरह निकला भी नहीं था कि मंगलवार की दोपहर बाद हुई झमाझम बारिश से इन इलाकों की स्थिति फिर नारकीय हो गई। पूरी तरह ध्वस्त ड्रेनेज सिस्टम, नाले-नालियों में भरा सिल्ट, चोक सीवर लाइन के कारण जगह-जगह जलजमाव का खामियाजा आम शहरी को भुगतना पड़ रहा है। इसके लिए मुख्य रूप से जिम्मेदार नगर निगम, जल निगम, जलकल विभाग और गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई के अधिकारी हाथ पर हाथ धरे बैठे हैं।
जार्जटाउन में मालवीय रोड, लिडिल रोड, अमर नाथ झा मार्ग, सीवाई चिंतामणि रोड की हालत सबसे ज्यादा खराब है। पहले हुई बारिश का पानी अभी निकल भी नहीं सका था कि मंगलवार की दोपहर बाद हुई बारिश के कारण यहां की सड़कें, नालियां लबालब होने के साथ दो दर्जन से अधिक बंगलों में घुटने तक पानी भर गया। यहां गलियों में रहने वाले घरों से निकलने को तरस गए। जार्जटाउन थाने के बगल से अलोपीबाग की ओर जाने वाली सड़क और जवाहर लाल नेहरू रोड का भी बुरा हाल है। थाने के बगल की सड़क इतना ज्यादा पानी भरा है कि पैदल तो दूर चार पहिया वाहन लेकर भी निकलना मुश्किल है। जवाहर लाल नेहरू रोड पर पेट्रोल पंप के सामने और उसके बगल की सड़क पर भी जबरदस्त जलभराव हो गया। टैगोर टाउन में बंशी भवन से डॉ. सूर के बंगले तक, एलआईसी कॉलोनी, हाशिमपुर रोड भी दोबारा जलमग्न हो गया।
बक्शी बांध स्लूज गेट खुला है, पंपिंग स्टेशन पर पंप भी लगातार चल रहे हैं लेकिन अल्लापुर, अलोपीबाग, सोहबतियाबाग, तुलारामबाग, रामबाग आदि इलाकों में मंगलवार की बारिश के फिर जबरदस्त जलभराव हो गया। अफसरों की लापरवाही के कारण अब इन मोहल्लों का भगवान ही मालिक है। अल्लापुर में कैलाश कॉलोनी, शिवाजी नगर, बाघम्बरी हाउसिंग स्कीम, कुंदन गेस्ट हाउस, रामानंद नगर, सर्वोदय नगर में भीषण जलभराव का संकट झेल चुके लोग मंगलवार को हुई बारिश से फिर पानी में घिर गए। अलोपीबाग में एफईसीआई गोदाम, वेद भवन, राधारमण, प्रयाग घाट स्टेशन और आसपास, ढिंगवस कोठी मार्ग, विवेकानंद एवं रामलीला पार्क भी एक बार फिर पानी-पानी हो गया। सोहबतियाबाग में नई बस्ती, देहाती रसगुल्ला के बगल वाली गली, खजूर गांव आदि का भी यही हाल है। अल्लापुर संजय नगर मलिन बस्ती में मकान गिरने और जलभराव के बाद सोमवार को पंप लगाकर पानी निकाला गया लेकिन मंगलवार की बारिश से फिर बस्ती पूरी तरह जलमग्न हो गई।
अलोपीबाग पंपिंग स्टेशन से पानी गऊघाट नहीं जा पा रहा है। ऐसे में पंप के जरिए इसे फोर्ट रोड नाले में गिराया जा रहा है। अलोपीबाग से गऊघाट पंपिंग स्टेशन तक पानी न जाने का मुख्य कारण बीच में सीवर लाइन चोक होना है। गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई ने इसकी सफाई का काम सीवर लाइन बिछाने के काम में लगी कंपनी आईवीआरसीएल को दिया लेकिन कंपनी ने आज तक काम पूरा नहीं कराया। दूसरे जहां सीवर लाइन बिछाई, वहां पुरानी लाइन को बोरी और पत्थर लगाकर बंद कर दिया, जिसकी वजह से जलनिकासी की व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त हो गई।
बारिश और जलभराव के कारण पटरी पार का इलाका नरक में तब्दील हो गया है। निरंजन डाट पुल के नीचे, दायराशाह अजमल, बख्शी बाजार, कोलहन टोला, काजी जी मस्जिद, कीडगंज के साथ शाहगंज थाने के पास पानी कमर तक लग गया है। लीडर रोड, नखास कोहना, काटजू रोड, साउथ मलाका, नूरुल्ला रोड, अकबरपुर, करेली, करेलाबाग, मीरापुर, लूकरगंज, हिम्मतगंज में भी सड़क पानी से लबालब है।
राजरूपपुर में साठ फीट रोड की हालत काफी ज्यादा खराब है। सड़क पर बड़े-बड़े गड्ढे और उसमें भारी जलभराव है। मंगलवार को उधर से निकल रहीं पुष्पा (37) पानी में गिर गई। इससे उनके हाथ में फ्रैक्चर हो गया, जबकि दो दांत टूट गए। यहां कालिंदीपुरम में पीएनबी के सामने, मार्ग नंबर दो, भावराऊ देवरख की गली आदि में पानी ही पानी है। पूर्व पार्षद अखिलेश सिंह का कहना है कि जलभराव की समस्या दूर करने के लिए नगर निगम और पीडब्ल्यूडी को कई बार कहा लेकिन आज तक कुछ नहीं किया गया।

Spotlight

Related Videos

इलाहाबाद में चल रहे माघ मेले में लगी आग, कई टेंट जलकर हुए खाक

इलाहाबाद में चल रहे माघ मेले में रविवार दोपहर आग लगने से दहशत फैल गयी। माना जा रहा है कि आग दीये से लगी। फायर बिग्रेड की टीम ने किसी तरह आग पर काबू पाया। आग से कई टेंट जलकर खाक हो गए वहीं इस हादसे में कोई व्यक्ति हताहत नहीं हुआ।

22 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper