विज्ञापन
विज्ञापन

आयकर रिटर्न दाखिले का आज अंतिम दिन

Allahabad Updated Fri, 31 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
काउंटर पर भीड़ नहीं, ज्यादातर ने ऑनलाइन भरे रिटर्न
विज्ञापन
विज्ञापन
इलाहाबाद। वित्त वर्ष की पहली तिमाही का आयकर रिटर्न दाखिल करने का शुक्रवार को अंतिम दिन है। इसमें चूक हुई तो जुर्माना भरना पड़ सकता है। अंतिम दिन भीड़ होने की संभावना को देख आयकर विभाग ने कर्मचारियों को अलर्ट कर दिया है। हालांकि, बृहस्पतिवार को विभाग के काउंटर पर ज्यादा भीड़ नहीं रही। पूरे दिन में 440 लोगों ने रिटर्न दाखिल किए।
0 फार्म पर सही पैन, रिकार्ड दर्ज करें
आयकर विभाग ने पिछले महीने रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तिथि बढ़ा दी थी। बताते हैं कि विभाग के काउंटर पर रोजाना डेढ़-दो सौ रिटर्न दाखिल होते रहे हैं। अंतिम दिन भीड़ जुटने की संभावना है। सो, विभाग ने सहायता केंद्र पर एक दिन पहले से ही तीन काउंटर चालू कर दिए हैं। इनमें तीन नंबर काउंटर महिलाओं और बुजुर्गों के लिए आरक्षित है। साथ ही सभी करदाताओं से कलर फार्म, टेलीफोन या मोबाइल नंबर और पैन देने को अनिवार्य किया गया है। सुझाव दिए जा रहे हैं कि फार्म पर सही पैन, आय और व्यय से जुड़ी सही जानकारियां दें। गलत पैन या सूचनाओं पर करदाता परेशानी में फंस सकते हैं।
0 ऑनलाइन रिटर्न दाखिला बढ़ा
इलाहाबादी करदाताओं में भी ऑनलाइन रिटर्न दाखिल करने का क्रेज बढ़ा है। बृहस्पतिवार को विभागीय काउंटर पर रिटर्न दाखिल करने वालों से छह गुना ज्यादा करदाताओं ने ऑनलाइन रिटर्न दाखिल किए। इसके लिए सीए, अधिवक्ताओं, कर विशेषज्ञों के पास भीड़ रही। कर सलाहकार डॉ पवन जायसवाल का दावा है कि पूरे दिन में करीब 2500 रिटर्न दाखिल किए गए हैं। अंतिम दिन यह संख्या और बढ़ सकती है। इस बदलाव की वजह है कि पांच लाख से कम आय वालों को रिटर्न दाखिले से छूट और 10 लाख से ज्यादा आय वालों के लिए ऑनलाइन रिटर्न अनिवार्य होना है। पांच-10 लाख रुपए के बीच आय वाले भी ऑनलाइन रिटर्न दाखिल कर सकते हैं।

वाणिज्य कर में जमा नहीं हुआ रिटर्न, सर्वर ठप
वाणिज्य कर कार्यालय में रिटर्न जमा करने वाले मुसीबत में फंस गए हैं। विभाग का सर्वर दो दिन से बंद है। इसके कारण अंतिम दिन व्यापारियों की रसीदें नहीं कट सकीं। इससे आशंका है कि विभाग अपनी गलती का खामियाजा व्यापारियों पर थोप सकता है। वाणिज्य कर के अधिवक्ता विनोद केसरवानी और विपिन सिंह का कहना है कि महीने की 20 तारीख तक ई-फाइलिंग करने वाले व्यापारियों के लिए हार्डफाइल जमा करना अनिवार्य है। इसके लिए 10 दिन का मौका मिलता है। अंतिम दिन होने से बृहस्पतिवार को व्यापारी और उनके अधिवक्ता खंडों में पहुंचे तो कंप्यूटर ठप पड़े थे। देर शाम तक सर्वर चालू नहीं हो सका। इसके कारण व्यापारियों की रसीदें नहीं कट सकीं। आरोप हैं कि विभाग दो-तीन साल बाद जुर्माना लगाता है। लंबा समय बीतने के कारण व्यापारियों के लिए वक्त पर फाइलिंग न हो पाने की वजह रखना मुश्किल हो जाता है। सो, जुर्माना अदा करना पड़ता है।

Recommended

HP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।
HP Board 2019

HP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019
ज्योतिष समाधान

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव में किस सीट पर बदल रहे समीकरण, कहां है दल बदल की सुगबुगाहट, राहुल गाँधी से लेकर नरेंद्र मोदी तक रैलियों का रेला, बयानों की बाढ़, मुद्दों की पड़ताल, लोकसभा चुनाव 2019 से जुड़े हर लाइव अपडेट के लिए पढ़ते रहे अमर उजाला चुनाव समाचार।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Bollywood

हाइकोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा-किस प्रावधान के तहत 'पीएम मोदी' फिल्म की रिलीज पर रोक लगाई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बनी बायोपिक फिल्म नरेंद्र मोदी की रिलीज रोकने को लेकर दाखिल जनहित याचिका की सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने भारत निर्वाचन आयोग से जवाब तलब किया है।

20 अप्रैल 2019

विज्ञापन

प्रयागराज के इस गांव में जुड़वा बच्चे होते हैं पैदा, रहस्य का नहीं हो सका खुलासा

यूं तो अपने अब तक बॉलीवुड में जुड़वां चेहरों पर बनी न जाने कितनी ही फिल्मी देखी होगी लेकिन ये कहानियां सिर्फ रील लाइफ की ही नहीं है। बल्कि प्रयागराज मे एक गांव ऐसा है जहां पर हकीकत में जुड़वा चेहरों की भरमार है।

19 अप्रैल 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election