विज्ञापन
विज्ञापन

दिल्ली पुलिस की सरसैयद नगर में मुठभेड़, एक बदमाश घायल

क्राइम डेस्क, अमर उजाला, अलीगढ़ Updated Thu, 25 Apr 2019 02:24 AM IST
सर सय्यद नगर में बदमाश और पुलिस ममुठभेड़ में पकड़ा गया बदमाश अदनान उर्फ गोल्डन।
सर सय्यद नगर में बदमाश और पुलिस ममुठभेड़ में पकड़ा गया बदमाश अदनान उर्फ गोल्डन। - फोटो : Amar Ujala
ख़बर सुनें
दिल्ली के न्यू फ्रेंडस कॉलोनी इलाके में बाइक सवार दंपती से हुई लूट के वांछित अपराधियों की तलाश में दबिश के दौरान दिल्ली पुलिस और सिविल लाइंस पुलिस की बुधवार दोपहर यहां सर सैयद नगर के मकान में बदमाशों से मुठभेड़ हो गई। पुलिस की दबिश के दौरान एक बदमाश फायरिंग करता हुआ मकान के दूसरे माले से पीछे लॉबी में कूद गया और उसके साथ उसके अन्य साथी भी कूद गए।
विज्ञापन
विज्ञापन
छत से कूदने के कारण गाजियाबाद का अपराधी जख्मी हो गया, जिसे इलाज के लिए दीनदयाल अस्पताल में भरती कराया है, जबकि उसके साथ दबोचे गए अन्य युवकों से पूछताछ जारी है। इसके अलावा दिल्ली पुलिस ने एक अन्य अपराधी को शमशाद मार्केट इलाके से दबोचा है।

 उसके द्वारा इस गैंग को हथियारों की सप्लाई किए जाने का इनपुट है। बता दें कि दिल्ली में इस गैंग को अलीगढ़ का कुख्यात अपराधी जुबैर ऑपरेट कर रहा है और जुबैर को दिल्ली पुलिस रिमांड पर अपने साथ लाई है। उसकी निशानदेही पर ही यहां दबिश अभियान चलाया जा रहा है।

दिल्ली के न्यू फ्रेंडस कॉलोनी इलाके में पांच मार्च को रेहाना नाम की महिला और उसके पति बाइक से बैंक से रुपये निकालकर जा रहे थे, तभी दिनदहाड़े हथियारों के बल पर उनसे 1.35 लाख रुपये व सोने की जंजीर लूटी गई थी। इस लूट के खुलासे में लगी पुलिस ने अलीगढ़ के बरला क्षेत्र के गांव नौसे निवासी जुबैर, उसकी पत्नी हुदा, गाजियाबाद के सुदामापुरी विजय नगर निवासी अदनान उर्फ गोल्डन, अंबर आदि के नाम उजागर किए।

पुलिस ने सर्विलांस की मदद से 18 अप्रैल को जुबैर व उसकी पत्नी को गिरफ्तार कर लिया। पत्नी जेल भेज दी गई, जबकि जुबैर को एक सप्ताह की रिमांड पर लिया गया। उससे पूछताछ के बाद उसके अन्य साथियों की तलाश में दिल्ली पुलिस की टीम सब इंस्पेक्टर विष्णु दत्त, एएसआई शैलेष के साथ जुबैर को लेकर मंगलवार देर रात यहां पहुंची। इसके बाद  तड़के शमशाद मार्केट इलाके से फैसल मुस्तफा नाम के अपराधी को सिविल लाइंस पुलिस की मदद से हिरासत में लिया गया। 

इसके बाद बुधवार शाम करीब 5 बजे पुलिस टीम सर सैयद नगर में नदीम तरीन हॉल के बगल में अदनान उर्फ गोल्डन, अंबर की तलाश में एक मकान पर पहुंची। जहां दूसरे माले के कमरे के दरवाजे पर दस्तक दी गई तो दरवाजा खुलते ही अंदर से अदनान ने दिल्ली पुलिस के दरोगा विष्णु दत्त पर तमंचे से फायर झोंक दिया। इस दौरान दरोगा ने पीछे हटकर खुद को बचाया और गोली दीवार में जा धंसी।

इसके बाद वहां मौजूद अदनान व उसके चार-पांच साथी मकान के पिछले हिस्से से नीचे लॉबी में कूद गए। यहां पुलिस की ओर से भी भागते बदमाशों पर फायरिंग की गई। इस पर बदमाशों ने सरेंडर कर दिया। बाद में अदनान को तो अस्पताल भेजा गया और उसके अन्य साथियों को थाना सिविल लाइंस भेज दिया गया।

इस दौरान सीओ अनिल समोनिया व इंस्पेक्टर सिविल लाइंस अमित कुमार भी मौजूद रहे। इस कमरे से लूटी गई एक पल्सर बाइक, तमंचा, कारतूस आदि बरामद किया है। अब पुलिस टीम अंबर की तलाश में है। सभी को पुलिस टीम अपने साथ दिल्ली ले जाएगी। 

 दिल्ली पुलिस हमारे यहां के 20 हजार के इनामी जुबैर को अपने साथ रिमांड पर लाई थी। उसी की निशानदेही पर दबिश दी गई है। इस दौरान एक दबिश में अदनान नाम के बदमाश से मुठभेड़ हुई है। उसका इलाज किया जा रहा है। फैसल मुस्तफा से पूछताछ चल रही है। पुलिस टीम सभी को अपने साथ ले जाएगी। यहां मुठभेड़ आदि का मुकदमा दर्ज किया जा रहा है।            -अनिल कुमार समोनिया, सीओ तृतीय

यूपी-दिल्ली में मुनीर का गैंग ऑपरेट कर रहा बीस हजारी जुबैर
मुनीर गैंग में फूट के बाद हुई गैंगवार में 23 अक्तूबर 2018 को सिविल लाइंस के हबीब हॉल के बाहर शाहबेज की हत्या के बाद से जुबैर फरार चल रहा था और उस घटना में जुबैर पर पुलिस ने 20 हजार का इनाम घोषित कर रखा था।

कुख्यात जुबैर तिहाड़ जेल में निरुद्ध एनआईए डीएसपी तंजील अहमद हत्याकांड के मुख्य आरोपी मुनीर का बेहद करीबी है और उसके साथ यहां पान दरीबा में रेलवे मजिस्ट्रेट के गनर की हत्या कर पिस्टल लूटने और फिर उस पिस्टल के लिए मुनीर के साथ अपने सगे भाई सद्दाम की हत्या में भी शामिल रहा। मुनीर के जेल जाने के बाद वह पहले अलीगढ़ और अब दिल्ली-एनसीआर में मुनीर के गैंग को ऑपरेट कर रहा है।

    पिछले साल पुलिस ने उसे नितिन माया संग एक दर्जन से अधिक लूटों में गिरफ्तार किया था। उस समय यह खुलासा हुआ था कि यह गैंग शहर में लूट करने के बाद एएमयू में जाकर छिप जाता है। नौसा बरला निवासी जुबैर के दो सबसे बड़े भाई यासिर और फहद दिल्ली में अपराध करते हैं। उनमें से एक इन दिनों दिल्ली तिहाड़ जेल में हैं, जबकि दूसरा हाल ही में जमानत पर आया है। तीसरा सद्दाम यहां अलीगढ़ में अपराध करता था। उसकी खुद जुबैर व मुनीर ने मिलकर हत्या कर दी। इसके बाद जुबैर और फिर इससे छोटा भाई भी पेशेवर अपराधी है। 

     जुबैर पर यहां कई अपराध दर्ज हैं। दिल्ली पुलिस के   अनुसार फिलहाल जुबैर व उसके गैंग को दंपती से लूट के अलावा एक युवती को  गोली मारने की घटना में तलाशा जा रहा     था। इसी बीच मुखबिरों व सर्विलांस की मदद से जुबैर व उसकी पत्नी हुदा का इनपुट मिला तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। इसके बाद अदनान उर्फ गोल्डन, अंबर और दो अन्य की जानकारी मिली। इनमें से बुधवार दोपहर मुठभेड़ में अदनान उर्फ अंबर भी दबोचा गया। अब बाकियों के पीछे पुलिस लगी हुई है।

फिर सुर्खियों में आया फैसल मुस्तफा
 दिल्ली पुलिस के इनपुट पर सिविल लाइंस पुलिस ने शमशाद मार्केट इलाके से फैसल मुस्तफा को हिरासत में लिया है। इंस्पेक्टर सिविल लाइंस अमित कुमार के अनुसार फैसल को सिविल लाइंस पुलिस ने पिछले साल गिरफ्तार किया था और एएमयू के अंदर व बाहर आधा दर्जन से अधिक गोली कांड खोले थे। उसकी गिरफ्तारी एक युवक को गोली इंम्प्लांट कर उस पर हमले की बात फैलाने के बाद हुई थी। दिल्ली पुलिस को सर्विलांस से जो साक्ष्य मिले हैं, उसके अनुसार फैसल के द्वारा जुबैर व उसके गैंग को हथियार मुहैया कराए जाते हैं और यहां शरण दिलाई जाती है। 

एएमयू में पढ़ने के नाम पर किराये पर लिया कमरा 
 जिस मकान से मुठभेड़ के बाद गोल्डन को पकड़ा गया। वहां से चार अन्य युवक भी पुलिस ने भागते हुए पकड़े हैं, जो कम उम्र के हैं और पढ़ने लिखने वाले बच्चे बताए जा रहे हैं। पास ही कॉलोनी में रहने वाली मकान मालकिन अनीसा पत्नी अमानउल्लाह निवासी मिट्ठनपुर बुलंदशहर ने बताया कि उसके पति गांव में खेती करते हैं।

वह यहां बच्चों संग रहती है। यह मकान उसने हाल ही में खरीदा है। उससे तीन-चार माह पहले कुछ बच्चे यह कहकर मिले थे कि वह एएमयू में 9वीं व 10वीं में पढ़ते हैं। इसलिए उन्हें बिना सत्यापन के मकान किराये पर दिया गया। 

फॉरेंसिंक टीम ने जुटाए साक्ष्य
 मुठभेड़ के बाद मौके पर सीओ ने फॉरेंसिक टीम भी बुला ली। जहां से टीम ने साक्ष्य जुटाए। इस दौरान मिली लाल रंग की पल्सर बाइक पर फर्जी नंबर मिला है। इसके अलावा कमरे से कुछ मोबाइल, कारतूस, तमंचा आदि भी बरामद हुए हैं। 

दिल्ली पुलिस ने दर्ज कराया मुकदमा, देर रात जांच जारी 
 इंस्पेक्टर सिविल लाइंस अमित कुमार के अनुसार मुठभेड़ के संबंध में दिल्ली पुलिस के दरोगा विष्णु दत्त की ओर से मुकदमा दर्ज कराया है।  रिमांड पर दिल्ली से लाए गए जुबैर यहां से हिरासत में लिए गए फैसल मुस्तफा व मुठभेड़ में दबोचे गए गोल्डन को साथ ले जाने पर मंत्रणा चल रही थी।

Recommended

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए
Lovely Professional University

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए

कर रहे हैं कई वर्षों से विवाह का इंतजार? कराएं शनि-केतु शांति पूजा- 29 जून 2019
Astrology

कर रहे हैं कई वर्षों से विवाह का इंतजार? कराएं शनि-केतु शांति पूजा- 29 जून 2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वशनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Aligarh

हाथरस में पेड़ पर लटके मिले प्रेमी युगल के शव, पुलिस के नाम पत्र लिखकर टांगा

हाथरस जिले के सिकंदराराऊ के मोहल्ला गौसगंज के बाहर नीम के पेड़ पर एक प्रेमी युगल के शव लटके मिले हैं। इन शवों को देख सभी सकते में हैं।

27 जून 2019

विज्ञापन

स्विट्जरलैंड में नीरव मोदी के चार बैंक खाते जब्त, यहां देखें उद्योग जगत की बड़ी खबरें

स्विट्जरलैंड के अधिकारियों ने दो अरब डॉलर से अधिक पीएनबी धोखाधड़ी मामले में मुख्य आरोपी नीरव मोदी और उसकी बहन के चार स्विस खातों से लेनदेन पर रोक लगा दी है। इन खातों में कुल 283.16 करोड़ रुपये जमा हैं।

27 जून 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
सबसे तेज अनुभव के लिए
अमर उजाला लाइट ऐप चुनें
Add to Home Screen
Election