विज्ञापन
विज्ञापन

25 सवालों के जवाब जानने को रिमांड पर लिए जाएंगे असलम-जाहिद

क्राइम डेस्क, अमर उजाला, अलीगढ़ Updated Sun, 16 Jun 2019 02:23 AM IST
तांगा स्टैंड पर भेजा गया स्पेशल फोर्स
तांगा स्टैंड पर भेजा गया स्पेशल फोर्स - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें
ढाई साल की मासूम की हत्या में जेल भेजे गए चारों आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करने से पहले पुलिस की एसआईटी आरोपियों को सजा दिलाने की दिशा में हर कदम फूंक-फूंक कर रख रही है। जांच में किसी भी स्तर पर कोई कोताही नहीं बरतने की कवायद की जा रही है। 
विज्ञापन
विज्ञापन
    इसी कड़ी में अब एसआईटी के विवेचकों द्वारा बच्ची की हत्याकांड के दो मुख्य आरोपियों जाहिद और असलम को रिमांड पर लेने का प्रयास किया जा रहा है। इसी कड़ी में विवेचक की ओर से शनिवार को अदालत में अनुरोध याचिका दायर की गई है। जिस पर दोनों को अदालत ने सोमवार को जेल से तलब किया है। 
    उसके बाद ही दोनों को रिमांड पर दिए जाने का फैसला होगा। पुलिस द्वारा 25 सवालों की एक प्रशभनोत्तरी इन दोनों से पूछताछ के लिए तैयार की गई है। पुलिस का मानना है कि इन सवालों के जवाब कलमबद्ध किए जाएंगे। 

 सोमवार को दोनों की पेशी के समय ही उनको रिमांड पर देने का समय तय किया जाएगा। पुलिस का प्रयास है कि कम से कम दोनों को 24 घंटे के लिए रिमांड पर लिया जा सके। 
 एसएसपी आकाश कुलहरि ने दोनों को रिमांड पर लेने के लिए अदालत में याचिका दायर करने की पुष्टि की है।

कोर्ट में नहीं हुए बयान, पहले शपथ पत्र पर तैयार हुई गवाही
इस हत्याकांड में बच्ची के पिता मुकदमे के वादी हैं। पुलिस का प्रयास था कि वादी के अदालत में बयान दर्ज करा दिए जाएं। इसी प्रयास के तहत शुक्रवार को पिता को यहां दीवानी तक लाया भी गया था। मगर पिता की बच्ची से जुड़ी भावनात्मक यादों के चलते तबियत ऐसी हो गई कि वह बयान देने को तैयार न हुआ। इसके चलते उसे वापस जाना पड़ गया। इसी क्रम में शनिवार को फिर पिता व बाबा को दीवानी लाया गया।

मगर यहां अधिवक्ताओं व एसआईटी विवेचकों से राय-शुमारी के बाद तय हुआ कि बच्ची के पिता व बाबा के 164 के तहत बयान कोर्ट में कराने से पहले शपथ पत्र पर दर्ज कर लिए जाएं, जिन्हें विवेचना का हिस्सा बनाया जाए। चार्जशीट में यह शपथ पत्र के बयान शामिल होंगे। शनिवार को यह दोनों शपथ पत्र तैयार कराकर एसएसपी को दिखाए गए। बच्ची के पिता के अनुसार अभी उनका नोटरी होना बाकी है। सोमवार को वह प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

पुलिस के विशेष संदेशवाहक लखनऊ और चंडीगढ़ किए गए रवाना
बच्ची की हत्या की पोस्टमार्टम रिपोर्ट और पोस्टमार्टम के दौरान की वीडियोग्राफी में पुलिस ने 15 सवालों के जवाब और पोस्टमार्टम का विश्लेषण जरूरी समझा है। ताकि स्पष्ट हो सके कि बच्ची के शरीर में जो भी चोटें हैं, वह कैसे आईं। इन्हीं सवालों के जवाब जानने के लिए यह रिपोर्ट लखनऊ और चंडीगढ़ विधि विज्ञान प्रयोगशाला के फॉरेंसिक एक्सपर्टों के पास अध्ययन के लिए भेजी गई है। शनिवार को अदालत से इसकी अनुमति लेने के बाद पुलिस ने दो विशेष संदेशवाहक दोनों जगहों पर रवाना कर दिए हैं।

हत्याकांड में पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद बच्ची के मस्तिष्क की विसरा की रिपोर्ट का इंतजार है। ये विसरा रिपोर्ट पांच छह दिनों में ही आने की उम्मीद है। रिपोर्ट आने के बाद स्पष्ट रूप से बच्ची की मौत का कारण सामने आएगा। हालांकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बच्ची की मौत का कारण मारपीट से लगा सदमे से होने का अंदेशा है। साथ में शरीर में अनगिनत चोटों का उल्लेख है। इनमें नाक की हड्डी टूटना, शरीर के कुछ अंदरूनी और बाहरी पार्ट गायब होने जैसे तथ्य हैं। पोस्टमार्टम में बताया गया था कि शव गला हुआ था। ऐसे में एक्सपर्ट ही यह बता पायेगा कि चोट किस वजह से आई हैं।

 
  इसे पीटा गया था या पार्ट गायब किए गए या फिर किसी जानवर की वजह से यह हुआ है। इसके चलते पुलिस की विवेचक टीम पोस्टमार्टम रिपोर्ट का फारेंसिक एक्सपर्ट से अध्ययन कराना जरूरी समझ रही है। इसी क्रम में पुलिस ने पोस्टमार्टम से जुड़े 15 ऐसे सवालों की प्रश्नोत्तरी बनाई है, जिनके जवाब पोस्टमार्टम के डॉक्टर नहीं दे सकते हैं। इन सवालों को पोस्टमार्टम रिपोर्ट व वीडियोग्राफी कापी के साथ लखनऊ व चंडीगढ़ फॉरेंसिक एक्सपर्ट के पास भेजा गया है। एसएसपी आकाश कुलहरि के अनुसार इसकी बाकायदा शनिवार को कोर्ट से अनुमति ली गई है। इसके बाद ही विशेष संदेशवाहक के जरिये इन्हें वहां भेजा गया है। 

पुलिस द्वारा अभी तक कराई जा रही प्रक्रिया संतोष जनक है। शनिवार को भी हम बयान दर्ज कराने गए थे। मगर शपथ पत्र पर बयानों की औपचारिकताओं के चलते यह काम पूरा नहीं हो सका। न तो अदालत में बयान दर्ज हुए और न मजिस्ट्रेटी जांच में बयान दर्ज कराने पहुंच सके। अब सोमवार को पुन: दीवानी जाएंगे और बयानों की शेष औपचारिकता पूरी कराएंगे।
-बच्ची के पिता

Recommended

अभिरुचि- एक अनूठी पहल अब पढ़ाई नहीं बनेगी बोझ
Invertis university

अभिरुचि- एक अनूठी पहल अब पढ़ाई नहीं बनेगी बोझ

लंबी आयु और अच्छी सेहत के लिए इस सावन महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक - 29/ जुलाई/2019
Astrology

लंबी आयु और अच्छी सेहत के लिए इस सावन महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक - 29/ जुलाई/2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वशनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Aligarh

अलीगढ़: मरीज की मौत पर मेडिकल कॉलेज में हंगामा

अलीगढ़ के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में मरीज की मौत पर सोमवार सुबह हंगामा हो गया। तीमारदारों एवं डॉक्टरों के बीच नोकझोंक के बाद मौके पर पुलिस पहुंच गई। 

22 जुलाई 2019

विज्ञापन

राज्यपाल सत्यपाल मलिक का उमर अब्दुल्ला पर गुस्सा, सफाई में कहा-गलती से बोल दिया ऐसा

जम्मू और कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने भ्रष्ट नेताओं पर दिए अपने बयान को लेकर अब सफाई देते हुए कहा कि उन्हें एक संवैधानिक पद पर होते हुए ऐसा नहीं बोलना चाहिए था। उन्होंने कहा कि उनके वक्तव्य को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया।

22 जुलाई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree