हमलावरों पर एक्शन को निकाला मार्च

Aligarh Updated Thu, 20 Sep 2012 12:00 PM IST
अलीगढ़। एएमयू में गोलीकांड के आरोपियों पर कार्रवाई की मांग को लेकर छात्रों ने पीस मार्च निकाला। दूसरी ओर पीएचडी में एडमिशन की मांग को लेकर एमफिल डिग्री धारकों ने भी गांधीगीरी की और एडमिनिस्ट्रेटिव ब्लॉक के बाहर इंतजामिया के लिए फूल रखे।
एएमयू के पूर्व कोर्ट सदस्य मो. सुजा के नेतृत्व में आर्ट्स फैकल्टी से पीस मार्च शुरू हुआ। मौलाना आजाद लाइब्रेरी, वीसी लॉज, स्टाफ क्लब, बाब ए सैयद और एडमिनिस्ट्रेटिव ब्लॉक के सामने से होता हुआ मार्च यूनिवर्सिटी सर्किल पर पहुंचा। छात्रों के हाथों में आरोपियों की गिरफ्तारी के पोस्टर लगे हुए थे। मो. सुजा ने कहा कि छात्रों में दहशत का माहौल है। दूसरी ओर पीएचडी में प्रवेश की मांग कर रहे एमफिल डिग्री धारी छात्रों ने एडमिनिस्ट्रेटिव ब्लॉक के बाहर इंतजामिया के लिए फूल रखे। इनकी मांग थी कि इन्हें जल्द से जल्द एडमिशन दे दिया जाए। छात्र नेता आफाक ने कहा है कि 24 सितंबर को वह विरोध स्वरूप उपराष्ट्रपति को काले झंडे दिखाएंगे और उनकी गाड़ी के आगे लेट जाएंगे।

क्यों सितमगर रहता है एएमयू को सितंबर

एएमयू के जानकार कहते हैं कि अक्टूबर में होने वाले सर सैयद डे से पहले अपनी-अपनी मांगों को मनवाने के लिए दबाव समूह पैदा किए जाते हैं। सर सैयद डे समारोह में देश के कोने-कोने से मेहमान आते हैं। उनके समक्ष इंतजामिया की किरकिरी करने का दबाव बनाया जाता है। इसलिए इंतजामिया के साथ शह और मात का खेल खेला जाता है। इसके अलावा ताजा-ताजा शैक्षिक सत्र शुरू हुआ ही होता है। बकाया पूरे समय के लिए अपने अनुसार स्थितियां बनी रहें, इसके लिए भी ऐसी कोशिश की जाती हैं।

कार्रवाई न होने से पनपता है असंतोष
अलीगढ़। आखिर छात्रों में असंतोष क्यों पनपता है? क्यों यहां पर पढ़ने के लिए आने वाले छात्र आक्रोशित हो जाते हैं? इसके कारणों पर एएमयू से रिटायर हो चुके पूर्व प्रॉक्टर डा. सईद उर रहमान सिद्दीकी प्रकाश डालते हैं। पूर्व कुलपति प्रो. एमएन फारूखी के समय अमुटा सचिव रहे डा. सिद्दीकी कहते हैं कि जब शांति भंग करने वाले कुछ लोग पकड़े जाते हैं और उन पर प्रभावी कार्रवाई नहीं होती तब छात्रों में अनुशासन का भय खत्म हो जाता है। ताजा घटनाओं में दो हॉल में तमंचे मिले। दो गोलीकांड हुए इसके बाद भी किसी भी छात्र पर अनुशासनात्मक कार्रवाई नहीं हुई है। ऐसे में अन्य छात्रों में यही संदेश जाता है कि कुछ भी करो कुछ नहीं होता है। आम छात्र इससे दहश्त में आ जाते हैं। डा. सिद्दीकी कहते हैं कि इसमें कोई दो राय नहीं कि कुछ टीचर या अन्य लोग अपने हितों को पूरा करने के लिए छात्रों का इस्तेमाल करते हैं। उनकी इस गैर जिम्मेदाराना हरकत से पूरा शिक्षक समुदाय, पूरी एएमयू बिरादरी बदनाम होती है।

मुट्ठी भर लोग भंग कर रहे शांति
अलीगढ़। एएमयू के हालात पर चुप्पी तोड़ते हुए विवि प्रशासन द्वारा कहा गया है कि कुछ मुट्ठी भर लोग परिसर की शांति व्यवस्था को भंग करने का प्रयास कर रहे हैं। जबकि आम छात्र पूरी तरह से परिसर में शांतिपूर्ण शैक्षिक वातावरण को बनाए रखना चाहता है जिससे उनका भविष्य उज्जवल हो सके। विवि प्रशासन का यही प्रयास है कि इन मुट्ठी भर लोगों को चिह्नित करके उनके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाए। जिसके लिए जिला प्रशासन के सहयोग से इस दिशा में काम किया जा रहा है।
‘बाहरी तत्वों को छात्रावासों में घुसने नहीं दिया जाएगा। यदि किसी छात्र के पास अवैध हथियार बरामद होते हैं तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। अनुशासन हीनता को किसी भी हालत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा’
- जमीरउद्दीन शाह, कुलपति, एएमयू

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

17 जनवरी 2018

Related Videos

चमत्कार : शिवलिंग हटाने की कोशिश की तो निकले सैकड़ों सांप

भारत को आस्था और चमत्कारों का देश क्यों कहते हैं उसका एक वीडियो हम आज आपको दिखाने जा रहे हैं। वीडियो यूपी के हाथरस का है जहां एक पुराने शिव मंदिर के जीर्णोद्धार का काम चल रहा था। अचानक कुछ ऐसा हुआ जिसने सबको अपनी ओर खींच लिया।

17 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper