आखिरी दिन भी रहा अव्यवस्थाओं का बोलबाला

Aligarh Updated Fri, 07 Dec 2012 05:30 AM IST
अलीगढ़। अहिल्याबाई होल्कर स्पोर्ट्स स्टेडियम में वित्तविहीन स्कूलों के दो दिवसीय सांस्कृतिक एवं खेलकूद प्रतियोगिता वर्ष 2012-13 का समापन गुरुवार को हुआ। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि महापौर शकुंतला भारती ने किया। दूसरे दिन रंगोली प्रतियोगिता, 100 मी. दौड़, एकल नृत्य सामूहिक लोकगीत, सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं हुईं। कार्यक्रम का संचालन महासचिव वैभव शर्मा ने किया। महापौर ने विजयी बच्चों को शील्ड और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। इस दौरान अव्यवस्थ्याओं के चलते बच्चों को परेशानी उठानी पड़ी।
प्रतियोगिताओं के विजेता
वाटर रेस- प्राइमरी में बाल वर्ग की ज्योति (एसएफडी स्कूल तकीपुर) प्रथम एवं किशोर वर्ग की कु. छाया शर्मा (यूएसआरडी स्कूल)- प्रथम
म्यूजिक रेस- बालक वर्ग के अदील अहमद (एसएबी जूनियर हाईस्कूल) प्रथम एवं बालिका वर्ग की रेनू (मार्डन पब्लिक स्कूल बरौला)- प्रथम
ग्रीटिंग मेकिंग- शिशु वर्ग में कु. तानिया (एसएबी जूनियर हाईस्कूल) प्रथम, बाल वर्ग में नीशू (वीएसआरडी पब्लिक स्कूल)- प्रथम एवं किशोर वर्ग की भूमिका (किशोर बाल विद्यालय)- प्रथम
स्लो साइकिल रेस- बालक वर्ग के शैलेंद्र (हरी बाल मंदिर)- प्रथम
रूप सज्जा- प्राथमिक वर्ग के कनक सिंह एवं जूनियर वर्ग के अभिषेक कुमार (अवंती बाई जूनियर हाई स्कूल) प्रथम
रंगोली प्रतियोगता- प्राथमिक बालिका वर्ग की कु. वर्षा (सिटी बाल मंदिर) प्रथम एवं जूनियर वर्ग की प्रतिभा (मोहन बाल मंदिर) प्रथम
100 मी. दौड्- बालक प्राथमिक वर्ग के अमित कुमार (सुशीला जूनियर हाईस्कूल) प्रथम एवं बालिका वर्ग के कु. सर्वेश (एसएफडी जूनियर हाई स्कूल)-प्रथम
100 मी. दौड़ में बालिका जूनियर वर्ग की रजनी एवं बालक वर्ग के आदेश चौधरी(एसएफडी जूनियर हाई स्कूल)-प्रथम
एकल नृत्य में प्राथमिक वर्ग की कु. राखी (अंजलि बाल विद्यालय)- प्रथम एवं सोनी (आदर्श जूनियर हाई स्कूल)-प्रथम
इस अवसर पर प्यारे लाल शर्मा, हरिदास शर्मा, योगेश सारस्वत, पंकज दीक्षित, रामावतार प्रजापति, जितेंद्र पचौरी, आशा शर्मा, आशा गौतम, मुरलीधर शास्त्री, गंगा सिंह, मानव महाजन, कांति प्रसाद शर्मा, विजय दीक्षित आदि मौजूद थे।
नंगे पैर दौड़े, खुले में किया मेकअप
दूसरे दिन भी प्रतियोगिता के नाम पर बच्चों के साथ खिलवाड़ किया गया। 100 मी. दौड़ में बच्चों ने नंगे पैर दौड़ लगाई। बच्चों के लिए स्टेडियम का एक भी कमरा नहीं खोला गया। जिससे बच्चों को प्रतियोगिता के लिए तैयार होने में कठनाई हुई। पवेलियन के पीछे खुले में और टैंपों में बच्चे एकल नृत्य और सांस्कृतिक प्रोग्राम के लिए तैयार हुए। व्यवस्था पूरी तरह गड़बड़ाई हुई थी।
व्यवस्थापकों ने इस तरफ जरा सा भी ध्यान नहीं दिया। स्टेडियम में बच्चे इधर-उधर घूम रहे थे। आज भी बच्चों के लिए खान-पान की किसी प्रकार की व्यवस्था नहीं की गई। स्टेडियम में केवल एक नल था जिससे बच्चों ने अपनी प्यास बुझाई और एसोसिएशन के पदाधिकारियों के लिए खाने-पीने की पूरी व्यवस्था मेजों के नीचे थी।
पहले ही बता दिया था
इस संबंध में अध्यक्ष प्यारे लाल शर्मा से पूछा गया कि बच्चों के खान पान की व्यवस्था क्यों नहीं की गई तो उन्होंने बताया कि सभी स्कूलों के शिक्षकों को सूचना दी गई थी कि बच्चों के खाने की व्यवस्था वह खुद करके लाएं।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

चमत्कार : शिवलिंग हटाने की कोशिश की तो निकले सैकड़ों सांप

भारत को आस्था और चमत्कारों का देश क्यों कहते हैं उसका एक वीडियो हम आज आपको दिखाने जा रहे हैं। वीडियो यूपी के हाथरस का है जहां एक पुराने शिव मंदिर के जीर्णोद्धार का काम चल रहा था। अचानक कुछ ऐसा हुआ जिसने सबको अपनी ओर खींच लिया।

17 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls