आईआईटी संग संवारेंगे केदारनाथ धाम

Agra Updated Fri, 09 May 2014 05:30 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
अमित कुलश्रेष्ठ
विज्ञापन

आगरा। केदारनाथ धाम में तबाही की दरारें पाटने का काम एएसआई अगले सप्ताह से शुरू करने वाली है। 8 सदस्यीय टीम सबसे पहले मुख्य प्रवेश द्वार पर दरके पत्थरों को बदलेेगी। मंदिर के ढांचे और नींव पर आईआईटी मद्रास की स्टडी के बाद अगले चरण में काम शुरू होगा। मौसम की बाधा को देखते हुए मंदिर परिसर की मरम्मत में दो साल लग सकते है।
एएसआई (भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग) ने सरकार से 8वीं सदी के प्राचीन मंदिर को संरक्षित करने और 300 मीटर में निर्माण रोकने की संस्तुति की है। इस प्रतिबंधित परिधि में कंक्रीट की टेपर (ढालनुमा) दीवार बनाकर अवैध निर्माण रोकने की सलाह भी दी है। सबसे पहले मंदिर के स्तंभ की मरम्मत, निकले पत्थरों को दुबारा लगाने, संगमरमर के फर्श की सफाई और टूटे पत्थरों को बदलने का काम किया जाएगा।
एएसआई ने ये दी थी रिपोर्ट
- केदारनाथ मंदिर को एएसआई संरक्षित किया जाए
- मंदिर के 300 मीटर दायरे में निर्माण प्रतिबंधित किया जाए
- प्रतिबंधित दायरे के चारों ओर ढलवा दीवार बनाई जाए
- मंदिर की दीवारों पर बिजली के तार आदि के लिए ड्रिलिंग न की जाए
- मलबा, डी-सिल्टिंग के बाद नींव का दुबारा अध्ययन किया जाए
- मंदिर तक रास्ते बनाए जाएं, जिससे मरम्मत का सामान पहुंच सके
- मंदिर के दरके पत्थरों को निकाल कर दोबारा मोटार्र से लगाया जाए
- मंदिर के दोनों ओर नदी धारा क्षेत्र में कोई निर्माण न किया जाए

‘‘संरक्षण की योजना तैयार है। मौसम खुलते ही आठ लोगों की टीम प्रवेश द्वार के संरक्षण का काम करेगी। बीते साल हम दरवाजा बदल चुके हैं। नींव का काम तब होगा, जब फाउंडेशन की मजबूती, स्ट्रक्चर आदि पर आईआईटी अपनी स्टडी रिपोर्ट दे देगा।’’
अतुल भार्गव
अधीक्षण पुरातत्वविद्, एएसआई


पहली रिपोर्ट आगरा के अफसर की
आगरा। केदारनाथ त्रासदी के वक्त एएसआई के डिप्टी सुपरिंटेंडेंट आरके सिंह देहरादून सर्किल में आगरा से ही तबादले पर पहुंचे थे। 16 जून को आपदा के बाद 11 जुलाई को हैलीकाप्टर से सबसे पहले पहुंची एएसआई की तीन सदस्यीय टीम में आरके सिंह, मनोज जोशी, वाईएस नयाल ने मंदिर परिसर का निरीक्षण कर प्रारंभिक रिपोर्ट सौंपी थी। उनकी रिपोर्ट के बाद एएसआई ने बीते साल अक्तूबर में पहले चरण में मलबा हटाने, केमिकल क्लनिंग से दीवारें साफ कराने और प्रवेश द्वार का लकड़ी का दरवाजा बदलने का काम किया था। आरके सिंह अब पुन: आगरा सर्किल में भेजे गए हैं।
10 साल पहले संरक्षण की थी मांग
आगरा। 10 साल पहले केदारनाथ मंदिर के संरक्षण की मांग उठी थी। एएसआई देहरादून सर्किल ने धरोहर घोषित करने की अधिसूचना के लिए दिल्ली प्रस्ताव भी भेजा था, लेकिन तब मंदिर समिति ने सहमति नहीं दी। दो साल पहले अक्तूबर 2012 में एएसआई टीम ने मंदिर के दौरे में मंडप के कई पत्थर निकलने और नींव के कमजोर होने पर चेताया भी था।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us