'My Result Plus
'My Result Plus

150 साल पहले हुआ था नए साल का पहला जश्न

Agra Updated Sat, 29 Dec 2012 05:30 AM IST
ख़बर सुनें
आगरा। नए साल का जश्न भले ही अंग्रेजों के साथ आ चुका था लेकिन ताज नगरी में इसे समारोहपूर्वक मनाने का चलन 150 साल पहले शुरू हुआ। ऐसा पहला जश्न 31 दिसंबर 1863 को आगरा क्लब में हुआ था। इसी दिन क्लब की स्थापना भी हुई। क्लब की स्थापना और न्यू ईयर सेलिब्रेशन की शुरुआत के सूत्रधार एआर पोलाक और राय ज्योति प्रसाद रहे। 150वें वर्ष में प्रवेश कर रहे आगरा क्लब के लिए आ रहा नया साल इसलिए भी खास है। डेढ़ सौ साल पहले अंग्रेज अधिकारी एआर पोलाक और व्यापारी राय ज्योति प्रसाद ने आगरा क्लब की स्थापना की कोशिश शुरू की। उसी दौरान ज्योति प्रसाद ने 35000 रुपये में जमीन का एक टुकड़ा खरीद कर क्लब हाउस बनवाया। आगरा क्लब के पदाधिकारी बताते हैं नए साल के स्वागत के साथ आगरा क्लब हाउस की स्थापना की गई थी।
आगरा क्लब की स्थापना के साथ ही नए साल का जश्न प्रचलित हुआ। एक जनवरी को क्लब 150वें वर्ष में प्रवेश कर रहा है। इस बार नए साल जश्न क्लब का मुख्य कार्यक्रम है।
कर्नल ई मैक्वेरिअस, सचिव, आगरा क्लब

कंपनी बनने के बाद बने थे सात सदस्य
1913 में कंपनी एक्ट आने के बाद 14 दिसंबर 1914 को आगरा क्लब लिमिटेड कंपनी बनी। पहले सात सदस्य कमिश्नर आगरा जेडब्ल्यू होस, इंडियन आर्मी के लेफ्टिनेंट कर्नल ईएन डेविस, इंडियन मेडिकल कार्प के लेफ्टिनेंट कर्नल एसएच हेंडरसन, इंडियन आर्मी के कैप्टन डब्ल्यूपी हेमंड, आगरा के कलक्टर जेसीएफ फर्ग्यूसन, आगरा के अधिशाषी अभियंता एचएम विलमोट, आरजीए के कैप्टन एचएसके स्नोडान थे।

यह है वर्तमान
मौजूदा आगरा क्लब का सदस्यता शुल्क 3.37 लाख रुपये है। आवेदन के बाद निदेशक मंडल के आठ सदस्य और बैलेटिंग कमेटी के आठ सदस्य इंटरव्यू लेते हैं। आवेदक को सदस्य बनाने के लिए कम से नौ सदस्यों की सहमति जरूरी है। न्यू ईयर सेलिब्रेशन, होली फेस्टिवल, मई क्वीन (फैशन शो) और दीवाली फेस्टिवल आगरा क्लब के खास कार्यक्रम हैं, जिनका सदस्यों को इंतजार रहता है।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Shimla

वर्षों से एक सीट पर जमे 41 गैर शिक्षक बदले, पढ़िए कौन कहां हुआ स्थानांतरित

वर्षों से एक ही सीट पर जमे 41 गैर शिक्षकों के तबादले किए गए हैं। दोनों निदेशालयों के निदेशकों ने आदेश जारी किए हैं।

26 अप्रैल 2018

Related Videos

VIDEO: ताज महल की सुरक्षा व्यवस्था में बड़ी कमी, जानिए कैसे होगी दूर

ताज महल परिसर में सुरक्षा व्यवस्था को और भी पुख्ता बनाने के लिए अब प्रशासन ने ताजगंज से सटी दक्षिणी गेट की दीवार पर कंटीले तार लगाने का फैसला किया है।

25 अप्रैल 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen