अजूबे से कम नहीं है अर्द्धचंद्राकार बांध

Agra Updated Fri, 30 Nov 2012 12:00 PM IST
बाह। 1646 से पहले बटेश्वर में यमुना नदी पूरब दिशा की ओर बहती थी। तब भदावर नरेश बदन सिंह ने एक कोस लंबा अर्द्धचंद्राकार बांध बनवाकर यमुना के प्रवाह को पूरब से पश्चिम की ओर मोड़ा था। इसी बांध पर स्थित है कि बटेश्वर की ऐतिहासिक शिव मंदिर श्रंखला। बदन वाह के नाम से मशहूर यह बांध आज के इंजीनियरों के लिए अजूबे से कम नहीं है। धर्म संस्कृति की नगर एवं पौराणिक तीर्थ बटेश्वर में भदावर नरेश के कारण यमुना नदी तीर्थ क्षेत्र की परिक्रमा कर आज भी बह रही है।
मंदिर महंत जयप्रकाश गोस्वामी के मुताबिक बदनसिंह का जन्म कन्या के रूप में हुआ था। यमुना की धार में बही इस कन्या का बटेश्वर में बदन परिवर्तन हुआ। इसलिए उनका नाम बदनसिंह और उनके द्वारा निर्मित बांध बदनवाह पड़ा। राजा अरिदमन सिंह दौज की शृंगार पूजा सबसे पहले ब्रह्मलाल जी मंदिर में करेंगे। इसके बाद यह मंदिर आम श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए खोला जाएगा। अंग्रेज इतिहास वेत्ता जनरल कनिघंम ने इस बांध पर अपनी खोज में 107 मंदिर होने का दावा किया था, जिनमें नौ प्रधान मंदिर माने जाते हैं। ये मंदिर 16वीं से 19वीं सदी के हैं। भदावर के इतिहास लेखक डा. शिवशंकर कटारा ने बटेश्वर में धनुषाकार बांध राजा बदन सिंह द्वारा बनवाये जाने का उल्लेख किया है। मंदिर शृंगार दौज की शृंगार पूजा के लिए सज संवर गई है। पूर्व बेला पर यह प्रकाश से जगमगा उठी है। बटेश्वर के इतिहास में इस दिन का खास महत्व है।

Spotlight

Most Read

National

इलाहाबाद HC का निर्देश- CBI जांच में सहयोग करे लोक सेवा आयोग

कोर्ट ने लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष को जवाब दाखिल करने के लिए छह फरवरी तक की मोहलत दी है।

19 जनवरी 2018

Related Videos

मथुरा में पुलिस की गोली लगने से हुई थी नाबालिग की मौत, पुलिस ने कुबूला

मथुरा के मोहनपुर अडूकी गांव में हुई बच्चे की मौत में पुलिस ने लापरवाही की बात मानी है। मथुरा पुलिस के आला अधिकारियों ने माना की दबिश के दौरान फायरिंग में बच्चे की मौत पुलिस की गोली लगने से हुई।

19 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper