खेतों में उगती है बारूद की फसल

Agra Updated Wed, 31 Oct 2012 12:00 PM IST
अमित शर्मा/अवधेश उदैनिया
एत्मादपुर/अछनेरा। कसबे के कई गांवों में बरसों से बाशिंदे खेती किसानी नहीं बल्कि बारूद की फसल उगाते हैं। धौर्रा, नगला खरगा में कई पीढ़ियों से लोग आतिशबाजी बनाने के काम में लगे हैं। दीवाली नजदीक आते ही पेड़ों के नीचे बम बनाते बच्चे दिखाई दे जाते हैं। खतरों से भरे इस काम में जान जोखिम में डालकर भी लोग दूसरों की खुशियों के लिए आतिशबाजी बनाते हैं। सुरक्षा के नाम पर उनके पास इंतजाम नहीं है। कई बार हादसों ने उनकी खुशियां छीनी हैं मगर पीढ़ियों से चल रहा काम बदस्तूर जारी है। वहीं अछनेरा के गांव कीथम, छह पोखर, हंसे साधन में आतिशबाजी बनाने का काम होता है। वहीं आतिशबाजी का स्टाक अछनेरा रायभा रोड स्थित पटाखा फैक्ट्रियों में किया जाता है। यहां से आतिशबाजी को आगरा के साथ ही मथुरा और आसपास के जिलों में बेचने को ले जाया जाता है। दो लाख किलोग्राम आतिशबाजी स्टॉक करने का लाइसेंस शांति ट्रेडर्स के पास है। वहीं दिनेश फायर वर्क्स के पास भी लगभग इतना ही स्टॉक का लाइसेंस है।
एत्मादपुर के गांव धौर्रा में खेत में पेड़ के नीचे बच्चे सुतली बम बनाने में जुटे हैं। कोई सुतली लपेट रहा तो कोई कागज। किसी को रील में धागे भरने हैं। इन बच्चों के हाथ बारूद से सने हैं। तैयार बम भी धूप में सूखने को पड़े हैं। इन बच्चों को इस खतरनाक बारूद से जरा भी डर नहीं लग रहा है। अमर उजाला की टीम को देखकर बच्चे ठिठक गए मगर कुछ देर बाद ही वह सहज होकर काम करने लगे। बच्चों के साथ काम करा रहे लायक सिंह कहते हैं कि महंगाई से बचत कम हो गई है। पुश्तैनी काम है, इसलिए करते हैं।

गांव में सात लाइसेंस धारक
एत्मादपुर। गांव धौर्रा और नगला खरगा में सात लोगों के पास आतिशबाजी बनाने का लाइसेंस है। इनमें नेत्रपाल सिंह, राममूर्ति, नगला खंरगा केलायक सिंह, दिनेश, रामप्रकाश, उदयवीर, धनपाल है। लायक सिंह ने बताया कि सात पीढ़ियों से यही काम है।

पूर्व में हुई आतिशबाजी विस्फोट घटनाएं
- 2003 में एत्मादपुर थाने में आतिशबाजी में विस्फोट से सिपाही समेत दो लोग मरे।
- 2004 में धौर्रा से देशी बम ले जा रहे स्कूटर में जवाहर पुर विस्फोट, एक की मौत ।
- नगला खरगा में गोदाम में विस्फोट पांच लोगों ने दम तोड़ा।
- टैंपो में देशी बम ले जाते समय कुबरेपुर पर धमाका, दो की मौत।
- नगला गोला में खेत में बम बनाते समय विस्फोट तीन की मौत।

नाकाफी हैं इंतजाम
आतिशबाजी बनाने वालों ने हादसे की स्थिति में निपटने के लिए जो इंतजाम कर रखे थे, वह नाकाफी लगते हैं। उनके पास महज बालू की दो बोरियां और अग्निशमन के छोटे सिलेंडर ही थे।

Spotlight

Most Read

Jammu

पाकिस्तान की फायरिंग पोजिशन, बीएसएफ ने दिया मुंहतोड़ जवाब, 15 पाक रेंजर ढ़ेर

सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने पाकिस्तानी गोलाबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया है। पाकिस्तान की कई फायरिंग पोजिशन, आयुध भंडार और फ्यूल डिपो को बीएसएफ ने उड़ा दिया है

22 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: ब्रज में यूं हुआ वसंत पंचमी से रंगोत्सव का आगाज

दुनियाभर में होली भले ही एक दिन का त्योहार हो लेकिन भगवान श्रीकृष्णश की ब्रजभूमि में यह उत्सव 40 दिन तक मनाया जाता है। होली के इस खास उत्सव की शुरुआत वसंत पंचमी के दिन से ही होती है।

22 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper