कटौती के पहाड़ के आगे ट्रांसमिशन ढेर

Agra Updated Tue, 16 Oct 2012 12:00 PM IST
आगरा। कटौती के पहाड़ के आगे ट्रांसमिशन के अधिकारी ढेर हो गए। नेशनल चैंबर आफ इंडस्ट्री एंड कामर्स द्वारा बिजली कटौती के विरोध में कड़ा आंदोलन करने की चेतावनी के बाद कमिश्नर ने जिलाधिकारी सहित विद्युत निगम से जुड़े अधिकारियों को तलब किया। उन्होंने आगरा में लगातार कटौती के कारणों की जानकारी मांगी। जब बैठक में क्रास क्वैश्चनिंग शुरू हुई, तो ट्रांसमिशन के अधिकारी बगलें झांकने लगे। कमिश्नर ने ट्रांसमिशन के अधिकारियों से एक माह की कटौती के आंकड़े मांगे हैं। इसके बाद वह शासन को कटौती कम करने के लिए पत्र लिखेंगे।
कमिश्नर मनजीत सिंह ने सोमवार शाम जिलाधिकारी अजय चौहान, प्रबंध निदेशक दक्षिणांचल ओपी जैन, चीफ इंजीनियर ट्रांसमिशन डीपी लूथरा, टोरंट पावर के एजीएम पंकज सक्सेना के साथ बैठक की। उन्होंने आगरा में कटौती के कारणों की जानकारी ली। ट्रांसमिशन के अधिकारियों ने लखनऊ से कटौती के निर्देश का हवाला देते हुए अपनी तरफ से कुछ किए जाने की असमर्थता जताई। बताया कि ओवरलोडिंग है, 400 केवी पीलीपोखर की क्षमता बढ़ा रहे हैं। इस पर कमिश्नर ने पूछा, क्या इससे कटौती खत्म हो जाएगी। इस पर कम उपलब्धता का हवाला दिया गया। इस पर चैंबर सदस्यों ने अन्य शहरों में 24 घंटे की उपलब्धता का सवाल उठाया। इस पर अधिकारी चुप हो गए। इसके बाद कमिश्नर ने एक महीने में बिजली की उपलब्धता, सप्लाई, कटौती के घंटे की जानकारी मांगी। इन आंकड़ों के मिलने के बाद वह शासन को आगरा में कटौती कम करने के लिए पत्र लिखेेंगे।

13 में सात घंटे बिजली कटौती
एक तरफ बिजली को लेकर लोगों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है, वहीं लखनऊ से कटौती के घंटे बढ़ते जा रहे हैं। वह भी तब, जब सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए लगातार मांग की जा रही है कि ताज ट्रिपोजियम क्षेत्र में लगातार बिजली दी जाए। लेकिन न तो स्थानीय जनता की बातों पर ध्यान दिया जा रहा है और न ही अधिकारी अपनी बात शासन तक पहुंचा पा रहे हैं। ताज महल को प्रदूषण से बचाने के लिए टीटीजेड एरिया में 24 घंटे बिजली दिए जाने के सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पुराने हैं, लेकिन वीआईपी शहरों को बिजली देने और आगरा में बिजली कटौती करते समय शासन से लेकर बिजली अधिकारी तक कोई भी इसका ध्यान नहीं रख रहा है। रविवार को जहां छह घंटे बिजली कटौती हुई थी, वहीं सोमवार को सुबह सात बजे से रात आठ बजे तक कटौती के घंटे बढ़ गए। 13 घंटे में सात घंटे की कटौती हुई।

ऐसे टूटा कटौती का पहाड़
सुबह 7.20 बजे से 9.20 बजे तक
दोपहर 12.00 से 3.00 बजे तक
शाम 6.00 से 8.00 बजे तक

गांधीगीरी कर मांगी बिजली
लोहामंडी के उपभोक्ताओं ने टोरंट पावर के साथ गांधीगीरी कर 24 घंटे बिजली की मांग की। पूर्व पार्षद अहमद हसन के नेतृत्व में पहुंचे उपभोक्ताओं ने टोरंट पावर के एजीएम पंकज सक्सेना को फूलों का गुलदस्ता भेंट कर ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में कहा गया कि कंपनी ने आने के दो से तीन साल में आगरा की दशा सुधारने का वादा किया था लेकिन यहां तो स्थिति नारकीय हो गई है। इस दौरान चमनलाल सलूजा, मुश्ताक खान, सरकार अमर सिंह, वासिद अली आदि भी मौजूद थे।

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

दिल्ली-एनसीआर में दोपहर में हुआ अंधेरा, हल्की बार‌िश से गिरा पारा

पहले धुंध, उसके बाद उमस भरे मौसम और फिर हुई हल्की बारिश ने दिल्ली में हो रहे गणतंत्र दिवस के फुल ड्रेस रिहर्सल में विलेन की भूमिका निभाई।

23 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: ब्रज में यूं हुआ वसंत पंचमी से रंगोत्सव का आगाज

दुनियाभर में होली भले ही एक दिन का त्योहार हो लेकिन भगवान श्रीकृष्णश की ब्रजभूमि में यह उत्सव 40 दिन तक मनाया जाता है। होली के इस खास उत्सव की शुरुआत वसंत पंचमी के दिन से ही होती है।

22 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper