विज्ञापन
विज्ञापन

काले हिरन के बढ़ते कुनबे से परेशानी

Agra Updated Sun, 16 Sep 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
आगरा। संकटग्रस्त प्रजाति काले हिरन का अकबर टॉम्ब में बढ़ता कुनबा परेशानी बनता जा रहा है। विगत चार साल में इनकी आबादी कई गुना बढ़ गई है। टॉम्ब के क्षेत्रफल और यहां उपलब्ध वनस्पति को देखते हुए 35-40 काले हिरन ही इसमें रह सकते हैं। जबकि इनकी संख्या 200 से भी अधिक हो चुकी है। इसका असर इनके खानपान से लेकर दिनचर्या पर पड़ रहा है।
विज्ञापन
विज्ञापन
अकबर टॉम्ब में पर्यटकों के लिए टॉम्ब की खूबसूरती के बाद एक बड़ा आकर्षण यहां विचरने वाले दुर्लभ प्रजाति के ब्लैक बक यानि काले हिरन हैं। स्मारक के विशाल क्षेत्रफल में फैले दूब घास के लॉन में यह कुलांचें भरते देखे जा सकते हैं। अकबर टॉम्ब के हिरनों में सन् 2008 में बीमारी फैल गई थी। तब दर्जनों हिरन मारे गए थे। इसके बाद हिरनों की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के प्रयास किए गए। प्रयास सफल हुए और हिरनों का कुनबा बढ़ने लगा। अब इनकी संख्या परेशानी का सबब बन गई है।
बढ़ते कुनबे से सबसे पहली परेशानी चारे की आती है। उद्यान में दूब घास ही उपलब्ध है। ऐसे में चारे की समस्या पैदा होती है। हिरनों के प्रजनन में दिक्कत आएगी। वह स्वतंत्रता पसंद करते हैं। संख्या ज्यादा होने पर इस पर प्रभाव पड़ेगा। उद्यान सीमित होने के कारण विचरण में परेशानी पैदा होती है। एक हिरन में इंफेक्शन फैलने पर संक्रमण दूसरों में फैलने का खतरा रहता है।
.........
इस वक्त दो सौ से अधिक ब्लैक बक हैं। इनकी संख्या बढ़ने से फिलहाल तो समस्या नहीं है मगर इसी तरह इनकी संख्या बढ़ती रही तो आने वाले समय में परेशानी हो सकती है, क्योंकि यहां इनकी भारण क्षमता 35 से 40 हिरन ही है।
-डा. संजय सिंह, उद्यान अधिकारी अकबर टॉम्ब

वन विभाग करता है इलाज
ब्लैक बक की देखभाल एएसआई उद्यान विभाग के कर्मचारियों के जिम्मे है। 25 कर्मचारी उद्यान के साथ ही हिरनों की देखभाल भी करते हैं। हालांकि बीमार होने पर वाइल्ड लाइफ, कीठम से डाक्टर को बुलाना पड़ता है। इनकी देखभाल को एएसआई की तरफ से कोई बजट नहीं दिया जाता।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Agra

आचार संहिता हटने के बाद अब फर्जी शिक्षकों पर लटकी कार्रवाई की तलवार

फिरोजाबाद जिले में आचार संहिता हटने के बाद फर्जी शिक्षकों की मुश्किल बढ़ने वाली है। जांच कर रही जिला कमेटी ने 28 मई को संदिग्ध सूची में आए शिक्षकों को प्रस्तुत होने के लिए कहा है।

24 मई 2019

विज्ञापन

लोकसभा चुनाव में आजम खान से हारीं जया प्रदा करेंगी BJP में 'गद्दारी' की शिकायत

लोकसभा चुनाव 2019 में हाई प्रोफाइल सीट रामपुर से भाजपा प्रत्याशी जया प्रदा का बयान सामने आया है। जया प्रदा ने भाजपा के भीतरघात को अपनी हार का कारण बताया है।

24 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree