रुपयों को तरसते रहे एटीएम

Agra Updated Fri, 24 Aug 2012 12:00 PM IST
आगरा। बैंक कर्मियों की दो दिन की देशव्यापी हड़ताल ने शहर के करोड़ों के कारोबार को प्रभावित किया। जहां पहले दिन 150 करोड़ रुपए का कारोबार प्रभावित हुआ, वहीं दूसरे दिन भी कम साबित नहीं हुआ। वहीं दो दिन से शहर के सैकड़ों एटीएम में रुपए न डाले जाने से शहरवासी पैसे के लिए भटकते रहे।
कारोबारियों के अनुसार व्यापारी जहां एक ओर चेक नहीं क्लियर करा पाए, वहीं दो दिन की धनराशि भी जमा नहीं कर पाए। इसके चलते करीब 350 करोड़ रुपए की क्लीयरिंग फंसी रही। बता दें कि केवल शहर में 100 से अधिक एटीएम हैं। प्रत्येक एटीएम में रोजाना 50 से 60 लाख रुपए डाले जाते हैं। इससे अनुमान लगाया जा सकता है कि एक दिन में करीब 500 करोड़ रुपए से अधिक की निकासी प्रभावित हुई। बुधवार से शुरू हुई हड़ताल के पहले दिन तो लोगों का काम चल गया, लेकिन दूसरे दिन तो रुपए के लिए एटीएम खुद तरसते नजर आए। कई जगह तो एटीएम के शटर गिरा दिए गए। रामबाग, कमला नगर, सदर व ताजगंज क्षेत्र में तो एटीएम में तैनात सुरक्षा गार्ड लोगों को वापस करते-करते थक गया।

हड़ताल के दूसरे दिन भी गरजे बैंककर्मी
सरकार को दी सुधरने की चेतावनी
आगरा। बैंकों के निजीकरण के विरोध में दो दिवसीय हड़ताल के अंतिम दिन बैंककर्मी खूब गरजे। दीवानी चौराहा स्थित केनरा बैंक कार्यालय परिसर में आयोजित हड़ताल में बैंक कर्मियों ने केंद्र सरकार के विरोध में नारे लगाए और सुधरने की चेतावनी भी दी।
यूपीएफबीयू के संयोजक अनिल वर्मा ने कहा कि हड़ताल पर सरकार की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है, लेकिन अभी सुधरने का समय दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि किसी कीमत पर बैंकों का निजीकरण नहीं होने दिया जाएगा। लाखों लोगों को बेरोजगार नहीं होने दिया जाएगा। एआईबीईए के महासचिव एमएम राय ने प्रधानमंत्री, वित्तमंत्री के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार अमेरिकी सरकार के इशारे पर नाच रही है। एआईबीओसी के उपमहासचिव पीसी अग्रवाल ने कहा कि कुछ साहूकारों के चक्कर में सरकार यह कदम उठा रही है। केवल अपने निजी फायदे के लिए लाखों लोगों को सड़क पर लाने की कोशिश हो रही है, जो हरगिज नहीं होने दिया जाएगा। हड़ताल में महेश चंद्र जैन, पीके तिवारी, सुरेश बाबू, नरेश चंद्रा, राजीव सक्सेना आदि मौजूद रहे।

Spotlight

Most Read

Rohtak

जीएसटी विभाग ने ई-वे बिल को लेकर जांच किया अवेयरनेस कैंपेन

जीएसटी विभाग ने ई-वे बिल को लेकर जांच किया अवेयरनेस कैंपेन

19 जनवरी 2018

Related Videos

मथुरा में पुलिस की गोली लगने से हुई थी नाबालिग की मौत, पुलिस ने कुबूला

मथुरा के मोहनपुर अडूकी गांव में हुई बच्चे की मौत में पुलिस ने लापरवाही की बात मानी है। मथुरा पुलिस के आला अधिकारियों ने माना की दबिश के दौरान फायरिंग में बच्चे की मौत पुलिस की गोली लगने से हुई।

19 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper