मुसीबत बनी बादलों की ‘मेहरबानी’

Agra Updated Wed, 22 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
इंट्रो: ताजनगरी में बादलों की ‘मेहरबानी’ शहरवासियों के लिए मुसीबत बन गई। सुबह से शाम तक हुई जबरदस्त बरसात से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। शहर की सड़कों पर हुए जलभराव से लोगों को भारी परेशानी हुई। वाहन बंद होने से लोग जलभराव के बीच फंसे रहे। वहीं घरों व दुकानों में पानी भरने से लोगों का काफी नुकसान हुआ। ‘अमर उजाला’ की टीम ने बारिश के दौरान शहर के कुछ स्थानों का जायजा लिया जहां बाढ़ जैसे हालात थे। सूरसदन सहित शहर के हिस्सों में देर शाम तक पानी भरा था। कुछ निचले इलाके तो ऐसे हैं जहां 24-26 घंटे में हालात सामान्य हों पाएंगे।
बिजलीघर डूबा, दुकानों में भरा पानी
बिजली घर चौराहा पर दोपहर करीब दो बजे हालात बेहद खराब थे। सुभाष बाजार पुल के नीचे से लेकर बिजलीघर चौराहा पर नदी जैसे हालात थे। नाला काजीपाड़ा, महावीर नाला ओवरफ्लो हो चुके थे। इस वजह से शिवाजी मार्केट और सामने मार्केट की लगभग सभी दुकानों में पानी भरा था। दुकानदारों ने सामान उठाकर काफी ऊपर रख दिया था। मुसलिम समाज के तमाम दुकानदारों ने मंगलवार को दुकान नहीं खोली थी जैसे ही पानी भरने का पता चला, वे दौड़े-दौड़े पहुंचे और किसी तरह सामान को बचाया। क्षेत्रीय दुकानदार इमरान और श्याम भोजवानी ने बताया कि दर्जनों दुकानों में पानी भरने की वजह से दुकानदारों का काफी नुकसान हुआ है। उधर रोशन मुहल्ला में दुकानों और घरों में पानी भर गया। व्यापारी नेता टीएन अग्रवाल ने बताया कि रामजीलाल अशोक कुमार, गौरव साड़ी, संभू नाथ संजीव कुमार, गोविंद क्लाथ, भारत साड़ी सेंटर, बद्रीप्रसाद, जैन साड़ी, राजकुमार साड़ी, मानसी साड़ी, सेंटर, अनिल ट्रेडिंग, मानिक चंद, कैलाश चंद, नीलाम साड़ी, गोयल साड़ी आदि करीब 30 दुकानों में भारी नुकसान हुआ है। इससे क्षेत्रीय दुकानदारों में निगम के अधिकारियों और मेयर के प्रति आक्रोश व्याप्त है।

सूरसदन और सेंट जोंस चौराहा
सूर सदन तिराहे पर जबरदस्त जलभराव था। चर्च रोड पर कई फुट पानी भर गया था। इसकी वजह से चर्च रोड पर बनी दुकानों, शोरूमों और मकानों में भर गया। सूरसदन चौराहे और बजीरपुरा रोड पर भी कई फुट तक पानी था। सूर्य नगर कालोनी और दीवानी चौराहे के पास बनी दुकानों के बेसमेंट में पानी भर गया था। चर्च रोड पर बाढ़ सा नजारा था। यहां पर निगम के पंप भी कारगर नहीं थे। यही हाल सेंट जोंस चौराहे पर था। यहां लोहामंडी रोड पर पूरी तरह से जलमग्न हो चुकी थी। घटिया आजम खां रोड पर भी हालात नारकीय थे।

मदिया कटरा, कैलाश पुरी रोड
मदिया कटरा से लोहामंडी और न्यू राजामंडी की ओर जाने वाली सड़क पर भी जलभराव था। जो वाहन चालक पानी में फंसा उसका हाल-बेहाल हो गया। यहां भी दुकानदारों को अपना सामान समेटना पड़ा। इसी तरह कैलाश पुरी रोड पर तीन फुट तक पानी था। मदिया कटरा चौराहा से लेकर भावना टावर तक भीषण जल भराव था।

यमुना किनारा, बल्केश्वर, दयालबाग
यमुना किनारा पर स्ट्रेची ब्रिज के नीचे पानी भरने की वजह लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। पानी में होकर वाहन नहीं निकल पा रहे थे, लिहाजा जाम के हालात और विकराल हो गए थे। बल्केश्वर में जबरदस्त जलभराव हुआ। आईटीआई के सामने वाली सड़क पर कई फुट पानी चल रहा था। नाले ओवरफ्लो होने से बैक मारने लगे। इससे कई घरों में पानी भर गया, लिहाजा लोगों का सामान भी खराब हुआ। दयालबाग में नगला बूढ़ी रोड पर नाला ओवर फ्लो होने की वजह से पानी भर गया। यहां नगर निगम की टीम ने जाकर नाले की एक दीवार को तोड़ा तब पानी निकल सका।

वीआईपी रोड, ताजगंज गोबर चौकी
खेरिया मोड़ वीआईपी रोड हमेशा की तरह भीषण जलभराव के आगोश में थी। सड़क के दोनों ओर कई फुट जलभराव से दुकानों में पानी भर गया। यहां भी ट्रैफिक जाम रहा। इसके साथ ही गौबर चौकी इलाके में घरों में पानी भर गया। यहां के पेड़ बिजली के तारों पर गिर गया जिसकी वजह से क्षेत्र की विद्युत आपूर्ति भंग हो गई। बाबड़ी मुहल्ले में दर्जनों मकानों पानी भरने से गरीब लोगों को नुकसान हुआ।

पॉश कालोनियों में भी जलभराव
बारिश की वजह से पॉश कॉलोनियों का बुरा हाल हो गया। सूर्य नगर में पानी भरने की वजह से कोठियों के अंदर घुस गया। इसके अलावा कमला नगर, विभव नगर, मारुति एस्टेट और अलबतिया रोड पर पानी भरने की वजह से केदारनगर, रामनगर पुलिया, जनता कालोनी, आवास विकास कालोनी, डीएम कंपाउंड, जज कंपाउंड, नेहरू नगर सहित तमाम कालोनियों में जलभराव हुआ, हालांकि यहां से कुछ घंटों बाद पानी निकल गया।

निचले इलाकों का हुआ बुरा हाल
शहर में निचले इलाकों का बुरा हाल हो गया। हमीद नगर मुहल्ले में अधिकांश जलमग्न हो चुके हैं। नगर निगम के पंप लगे हैं लेकिन हालात बेकाबू हैं। निगम के सूत्रों का मानना है कि यहां 24 घंटे से पहले स्थिति सामान्य नहीं हो पाएगी। इसके साथ ही आजमपाड़ा में मकान डूबे हैं। दर्जनों मकानों में पानी भरा है। लोग घरों की छतों पर रहने को मजबूर हैं। जगदीशपुरा में रेडियो कालोनी के आसपास, सोहल्ला, शिव नगर, बर वाली गली, राधे वाली गली सहित नरीपुरा क्षेत्र का बुरा हाल है। टेढ़ी बगिया, उखर्रा रोड, शहर के अंदर जीवनी मंडी, बेलनगंज सहित तमाम इलाकों में पानी भरा।


दौड़ते रहे निगम के अधिकारी
आगरा। झमाझम बारिश की वजह से नगर निगम के अधिकारियों को माथे पर चिंता की लकीरें देर रात तक बनी रहीं। जल भराव की खबरों को लेकर निगम के कर्मचारी और जेसीबी इधर से उधर दौड़ते रहे। अफवाहों का दौर भी गरम रहा। एक सूचना आई कि नाले में गिरकर दो बच्चे बह गए हैं, निगम की टीम तुरंत मौके पर रवाना हुई। साथ ही पंपों को लेकर कर्मचारी परेशान रहे। कहीं पंप खराब होने की खबर मिली तो कहीं पंप लगाने को माथापच्ची होती रही।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Bihar

सीट शेयरिंग के मुद्दे पर बोले नीतीश, अमित शाह से बातचीत के बाद पहली बार मीडिया के सामने आए

आगामी लोकसभा चुनाव में सीट बंटवारे को लेकर बिहार में भाजपा और जेडीयू का मामला अभी भी फंसा हुआ नजर आ रहा है।

16 जुलाई 2018

Related Videos

अवैध खनन के खिलाफ किसानों ने किया हल्ला बोल

बुन्देलखण्ड के महोबा में पनवाड़ी थाना क्षेत्र में हो रहे अवैध बालू खनन और ओवरलोड के खिलाफ अब किसानों ने आमरण अनशन शुरू कर दिया है।

14 जुलाई 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen