विज्ञापन
विज्ञापन

आजादी की अलख जगाने को जन्मी रामलीला

Agra Updated Wed, 01 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
आगरा। गुलामी के खिलाफ भारतीयों का गुबार फूटा तो गोरों की सांस घुटने लगी। फिरंगियों का दमन चक्र तेज हो गया। प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के बाद अंग्रेज और भी सचेत हो गये। संगीनों के साए में शहर उदास खड़ा था। ऐसी विषम परिस्थितियों में धर्म और लोक संस्कृति स्वतंत्रता आंदोलन की संजीवनी बने। समाज को संगठित कर चेतना जागृत करने, हृदय में देश भक्ति के अंकुर रोपने का कार्य लोक परंपराओं के माध्यम से किया गया। 1857 की क्रांति के दौरान गोकुल पुरा में अज्ञातवास पर रहे स्वतंत्रता सेनानी तात्या टोपे ने क्षेत्र के लोगों को एक सूत्र में बांधने के लिए गणेश उत्सव प्रारंभ कराया। जन जन में मातृ प्रेम जागृत करने के लिए ही उत्तर भारत की प्रसिद्ध रामलीला का श्री गणेश किया गया। सन् 1880 में मन: कामेश्वर की बारहदरी से प्रारंभ की गई रामलीला ने हर वर्ग के लोगों को जोड़ा। यही नहीं धर्म के इस मंच पर गूंजते धरती मैया (भारत माता) के जयकारों ने जन चेतना जागृत करने का कार्य किया।
विज्ञापन
विज्ञापन
प्राचीन मन: कामेश्वर मंदिर के प्रशासक हरिहर पुरी ने बताया कि मंदिर के पूर्व महंत गोविंद पुरी ने बारहदरी में 1880 में रामलीला का आयोजन कराया था। इसका प्रमुख उद्देश्य आजादी के आंदोलन को सभी तक पहुंचाना था। धर्म अभिव्यक्ति की आवाज बना था। धार्मिक कार्यक्रम होने के कारण विदेशी हुकूमत का हस्तक्षेप भी नहीं था। रामलीला ने ब्राह्मण, वैश्य आदि वर्गों को आपस में जोड़ा। ब्राह्मण बच्चे स्वरूप बना करते थे। चरित्रों के मंचन के माध्यम से देश भक्ति का संदेश दिया जाता था। सीता माता धरती से उत्पन्न बताई गई हैं। हल खोदते हुए सीता माता की उत्पत्ति हुई। बारादरी में सीता माता, धरती मैया की जय जयकार गूंज उठती। पहले शहर यही बसता था। यह क्षेत्र स्वतंत्रता संघर्ष का गढ़ था। यहां से निकला संदेश समूचे मंडल तक पहुंचता था। हमारे पिता महंत उद्धवपुरी भी वानर सेना से जुड़े हुए थे। मन: कामेश्वर मंदिर स्वतंत्रता आंदोलन की गतिविधियों से जुड़ा हुआ था।
मंदिर के पूर्व महंत स्व. उद्धव पुरी ने अतीत की स्मृतियां लेख में स्वतंत्रता आंदोलन से जुड़ी घटनाओं का जिक्र्र किया है। उन्होंने लिखा है कि उन दिनों आगरा फोर्ट के सामने मेरे मंदिर के आगे टीले होते थे। उनके सामने जहां आज आगरा फोर्ट स्टेशन है, वहां पहले गोदाम हुआ करता था। अब हमारा दिन भर का प्रमुख काम मिश्रा लॉज हाईस्कूल को छोड़कर इन स्थलोंपर हरिनारायण जोशी के नेतृत्व में नारे लगाना, वानरी सेना में रहते हुए अपने मंदिर के टीलों पर से माल गोदाम के शीशे तोड़ने का होता था। 1944 के विरोध प्रदर्शन में भाग लेेने के कारण पिता जी ने मुझे कैलाश स्थित ऋषिकुल ब्रह्मचर्याश्रम में कठोर नियंत्रण की शिक्षा में डाल दिया।

स्वतंत्रता सेनानियों की शरण स्थली मन: कामेश्वर
उद्धव पुरी के संस्मरणों के अनुसार आगरा के प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी स्व. श्री कृष्ण दत्त पालीवाल, उनके सहायक मिश्रीलाल और शिरोमणि बंधु पुलिस की नजरों से बचने के लिए मंदिर में ही शरण लेते थे।

उल्टे पांव लौट गया अंग्रेज कलक्टर
1944 में मन: कामेश्वर मंदिर की बारहदरी में श्री राम लीला का राज्याभिषेक होना था। कार्यक्रम में अंग्रेज कलक्टर को भी बुलाया गया। मंदिर के पूर्व महंत स्व. उमामहेश्वर पुरी को जब यह पता चला तो उन्होंने प्रभु राम का राज्याभिषेक का तिलक करने से मना कर दिया। स्थानीय लोगों ने भी महंत श्री का साथ दिया। विरोध प्रदर्शन को देखते हुए अंग्रेज कलक्टर को उल्टे पांव लौटना पड़ा।

अगले अंक में पढ़ेंगे : नया मोर्चा सरकार ने किसानों में भरा जोश

Recommended

शनि जयंती (03 जून 2019, सोमवार) के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्
Astrology

शनि जयंती (03 जून 2019, सोमवार) के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्

कैसे होगा करियर, कैसा चलेगा व्यापार, किसे मिलेगी तरक्की और किसे मिलेगा प्यार ! जानिए विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से
Astrology

कैसे होगा करियर, कैसा चलेगा व्यापार, किसे मिलेगी तरक्की और किसे मिलेगा प्यार ! जानिए विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Agra

किसान की बेटी इकरा ने जापान में किया कमाल, पावर लिफ्टिंग में जीता 'सोना'

कहते हैं कि प्रतिभा किसी परिचय की मोहताज नहीं होती है। मथुरा जिले के दो पॉवर लिफ्टर ने यह कर दिखाया।

25 मई 2019

विज्ञापन

सिवनी में गोरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी, गोमांस के शक में युवक को बेरहमी से पीटा

मध्यप्रदेश के सिवनी से एक दिल दहलाने वाला वीडियो सामने आया है। इस वीडियो में कथित गोरक्षक कुछ लोगों की पिटाई कर रहे हैं। साथ ही जबरन जय श्री राम के नारे लगाने को कहते हैं। देखिए गोरक्षकों की गुंडागर्दी।

25 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree