आखिर कब तक खुले घूमेंगे दुष्कर्मी

Lucknow Updated Thu, 20 Dec 2012 05:30 AM IST
केस-1
इस साल 18 जनवरी को इंदिरानगर के चूड़ामणि का पुरवा के एक खेत में मासूम अंकिता का शव और अस्तव्यस्त कपड़े देखकर पूरे इलाका सन्न रह गया। पड़ोस में ऑर्केस्ट्रा देखने गई अंकिता 17 जनवरी की रात रहस्यमय हालात में लापता हुई थी। परिवार वाले उसे ढूंढ़ते फिर रहे थे। मासूम का शव बरामद करने के बाद पुलिस ने दुष्कर्म के बाद हत्या करने वालों की तलाश की। इलाके के अनेक युवकों को पकड़कर पूछताछ हुई, लेकिन कातिल का कोई सुराग नहीं लगा। एक अरसे बाद बाराबंकी में एक और मासूम की दुष्कर्म के बाद हत्या हुई। इस मामले में देवां निवासी भानू नामक युवक गिरफ्तार किया गया। तहकीकात में खुलासा हुआ कि उसने ही अंकिता से दुष्कर्म के बाद बेरहमी से कत्ल किया था। वह इलाके के एक प्रधान का रिश्तेदार था और चूरामणि का पुरवा में मेहमानी करने आया था। इंदिरानगर पुलिस ने उसके खिलाफ आरोपपत्र दाखिल कर दिया। बेटी के कातिल को सूली पर लटकाने की मांग कर रहे अंकिता के परिवार वालों को अभी कानून की लंबी प्रक्रिया का सामना करना है।

केस-2
चिनहट के गांव निजामपुर में 17 साल की आरती 25 जनवरी 11 को सिलाई-कढ़ाई प्रशिक्षण केंद्र से घर लौट रही थी। रास्ते में भट्ठे के पास हमलावरों ने उसे दबोचा और दुराचार के बाद दुपट्टे से गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी। भट्ठे से करीब सौ मीटर दूर झाड़ियों में उसका शव मिला। उसके कपड़े अस्तव्यस्त थे और गले पर दुपट्टे का फंदा कसा था। पुलिस ने डॉग स्क्वाएड की मदद से कातिलों की तलाश की। कई दिन चली धरपकड़ व पूछताछ के बाद आरती के करीबी युवकों को पकड़ा गया। कुछ दिनों जेल में रहने के बाद जमानत पर रिहा हो गए और अब मामले की सुनवाई चल रही है। आरती का परिवार कानून के नुमाइंदों से दरिंदों को फांसी की सजा दिलाने की मांग कर रहा है।

केस-3
मोहनलालगंज के गांव ढेहवा में 3 सितंबर को देरशाम दरिंदों ने 12 साल की शालिनी उर्फ सलोनी से दुष्कर्म के बाद गला घोंटकर हत्या कर दी। अगले दिन गांव के ही एक खेत से उसके चप्पल, अंत:वस्त्र व खून के छींटे मिले। पुलिस ने झाड़ियों से उसका शव बरामद किया और दुष्कर्म के बाद हत्या का मामला दर्ज करके दरिंदों की तलाश शुरू की। तीसरे दिन गांव के ही पुतई मौर्य व दिलीप लोधी को गिरफ्तार किया गया। दोनों ने कबूला कि मचान पर बैठकर शराब पीने के दौरान नित्यक्रिया के लिए निकली सलोनी नजर आई। दोनों उसे दबोचकर मचान पर ले गए और सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी। जघन्य कांड के दोनों आरोपी फिलहाल जेल में हैं और सलोनी के परिवार वाले उन्हें सख्त सजा दिलाने की मांग कर रहे हैं।

केस-4
गोसाईंगंज के चमरतलिया में 13 मई की रात दरिंदों ने चांदनी (20) से दुष्कर्म के बाद गला घोंटकर हत्या कर दी। एक महीने बाद उसकी शादी तय थी। अगले दिन गांव के ही एक खेत से उसका शव बरामद हुआ। गले में दुपट्टे का फंदा कसा था। पुलिस ने दुष्कर्म के बाद हत्या का मामला दर्ज करके तहकीकात शुरू की और चांदनी के रिश्तेदार सुनील कुमार को गिरफ्तार किया। खुलासा हुआ कि तीन साल तक यौन शोषण किया और शादी के लिए दबाव बनाने पर चांदनी का गला घोंट डाला। आरोपी जेल में है।


अमर उजाला ब्यूरो
लखनऊ। सूबे की राजधानी में भी बेटियां महफूज नहीं हैं। ये चार वारदातें तो सिर्फ उदाहरण हैं, जिनमें घर से अकेली निकली बेटियों से दुष्कर्म के बाद उनका कत्ल कर दिया गया। कातिलों को पकड़ने में पुलिस के पसीने छूटे तो बेटियों के परिवार वालों को जाने कितनी धमकियां मिलीं। इस साल राजधानी में दुष्कर्म का शिकार बनीं सिर्फ 38 महिलाओं ने रिपोर्ट दर्ज कराकर इंसाफ की मांग की, जबकि उन महिलाओं की संख्या कहीं अधिक है, जिन्होंने बदनामी के डर से चुप्पी साध रखी है।
चूड़ामणि का पुरवा की अंकिता के कत्ल को साल भर होने को है, लेकिन आज भी वारदात को याद करते ही इलाके के लोगों की आंखें सुर्ख हो जाती हैं। वह कातिल को सूली पर लटका देखना चाहते हैं। ऑर्केस्ट्रा देखने के दौरान लापता हुई अंकिता की उसके पिता ने गुमशुदगी दर्ज कराई। अगले दिन शव बरामद होने पर पुलिस ने संदिग्ध युवकों की धरपकड़ शुरू की तो दुखी परिवार को धमकियां मिलने का सिलसिला शुरू हो गया। इलाके के कई बेकसूर थाने लाकर प्रताड़ित किए गए। सर्विलांस सेल व अन्य संसाधनों से दरिंदे की तलाश की गई। जघन्य वारदात का एक अरसे तक खुलासा नहीं हो सका। वारदात के दो दिन तक तो इलाके के लोग अंकिता के परिवार के साथ थे, लेकिन युवकों की धरपकड़ के साथ मनमुटाव बढ़ने लगा। कातिल का कुछ पता न चलने से तफ्तीश की रफ्तार भी कम होने लगी। इसी बीच बाराबंकी में मासूम से दुष्कर्म के बाद हत्या के मामले में देवां निवासी भानु को गिरफ्तार किया गया। उससे पूछताछ में अंकिता कांड का भी खुलासा हुआ। इस दौरान परिवार टूट चुका है। माता-पिता अंकिता के कातिल को सूली पर लटका देखना चाहते हैं, लेकिन मुकदमे की पैरवी में गरीबी आड़े आ रही है। पुलिस का दावा है कि आरोपी के खिलाफ तमाम साक्ष्य एकत्र करने के साथ आरोपपत्र दाखिल किया गया है। उसका बचना मुश्किल है।
मोहनलालगंज के गांव ढेहवा की शालिनी उर्फ सलोनी से दुष्कर्म के बाद हत्या की वारदात में पुलिस ने खोजी कुत्ते की मदद से आरोपी पकड़े। खेत में पड़े चप्पल व कपड़े सूंघने के बाद खोजी कुत्ते ने पास स्थित मचान की तरफ इशारा किया था। दो दिन की तहकीकात में पुलिस ने सबूत जुटाए और पुतई मौर्य व दिलीप लोधी को गिरफ्तार किया। दोनों आरोपी जेल में हैं। शालिनी की याद में उसका परिवार आज भी आंसू बहा रहा है। पिता की माली हालत ऐसी नहीं है कि वह मुकदमे की पैरवी के लिए अपना वकील खड़ा करने के साथ कचहरी के चक्कर काट सकें। वह पुलिस की तफ्तीश, चार्जशीट व सरकारी वकील के भरोसे अपनी बेटी के कातिलों को फांसी की सजा की आस लगाए हैं। पुलिस का कहना है कि ठोस सबूत एकत्र करके आरोपपत्र दाखिल किया गया है। आरोपी जेल में हैं और उन्हें सजा मिलनी तय है।
इन वारदातों के अलावा पुलिस रिकार्ड के मुताबिक, राजधानी में इस साल साढ़े ग्यारह महीने में दुराचार के 38 मामले दर्ज किए गए। आंकड़ों से अफसर संतुष्ट हैं, क्योंकि दुष्कर्म का ग्राफ घट रहा है। पिछले साल 51 और वर्ष 2010 में 69 महिलाएं दुष्कर्म का शिकार बनी थीं। हालांकि हकीकत कुछ और है। दरअसल, दुष्कर्म का शिकार बनी महिलाओं में रिपोर्ट दर्ज कराने वालों की संख्या काफी कम है। अनेक महिलाएं बदनामी के भय से अपनी जुबान बंद रखती हैं और घुट-घुट कर जी रही हैं।
एसएसपी आरके चतुर्वेदी बताते हैं कि पॉश इलाकों के मुकाबले ग्रामीण क्षेत्र व विकसित हो रहे इलाकों में दुष्कर्म की अधिक वारदातें हुई हैं। इस साल ग्रामीण क्षेत्र में दुष्कर्म के 19 मामले दर्ज किए गए। इनमें मलिहाबाद क्षेत्र में 10, मोहनलालगंज में 5 व बीकेटी क्षेत्र में 4 महिलाएं दुष्कर्म का शिकार बनीं। इसी तरह शहरी क्षेत्र के आशियाना व ठाकुरगंज थाने में दुष्कर्म की 3-3 वारदात हुईं। गाजीपुर, गुडंबा थाने में दो-दो और बंथरा, सआदतगंज, पारा, विकासनगर, मड़ियांव, जानकीपुरम, गोमतीनगर, विभूति खंड व इंदिरानगर में दुष्कर्म का एक-एक मामला दर्ज हुआ। हजरतगंज, कैसरबाग व आलमबाग सर्किल के किसी भी थाने में दुष्कर्म की एफआईआर नहीं हुई। पुलिस का मानना है कि दरिंदों द्वारा ग्रामीण व विकसित हो रहे इलाकों में गरीब-तबके की महिलाओं को दुष्कर्म का शिकार बनाया जाता है। आमतौर पर नित्यक्रिया के लिए खेत में जाने के दौरान वारदात हुई।

सड़क पर घूम रहे दरिंदे
घर के बाहर सो रही मासूम को उठा ले जाकर दुष्कर्म के भी मामले हुए हैं। बाजार खाला क्षेत्र में गरीब परिवार की मासूम बेटी अपने दो भाइयों के साथ सो रही थी। मोहल्ले का एक युवक मुंह दबाकर उसे उठा ले गया। घर के पीछे नाले के किनारे दुष्कर्म का प्रयास कर रहा था कि परिवार वालों को भनक लगी। पड़ोसियों की मदद से दरिंदे को पकड़ कर पुलिस को सौंपा गया। इसी तरह हसनगंज व गोमतीनगर क्षेत्र में दरिंदों ने घर के बाहर परिवार के साथ सो रही मासूम को उठाया। गोमतीनगर की वारदात में मासूम कुछ बता पाने की स्थिति में नहीं थी। पुलिस ने संदिग्ध लोगों को पकड़कर पूछताछ की और मामला ठंडे बस्ते में है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी एसटीएफ ने मार गिराया एक लाख का इनामी बदमाश, दस मामलों में था वांछित

यूपी एसटीएफ ने दस मामलों में वांछित बग्गा सिंह को नेपाल बॉर्डर के करीब मार गिराया। उस पर एक लाख का इनाम घोषित ‌किया गया था।

17 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में सिपाहियों की भर्ती परिणाम को लेकर अभ्यर्थियों का लखनऊ में हल्ला-बोल

यूपी में साल 2015 में सिपाहियों की भर्ती पर अब तक कोई फैसला न होने से निराश अभ्यर्थियों ने लखनऊ में जबरदस्त प्रदर्शन किया है। उनका कहना है कि जब तक मुख्यमंत्री से उन्हें आश्वासन नहीं मिल जाता वो यहां से नहीं हटेंगे।

17 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper