भारत हमेशा शांतिपूर्ण माहौल का पक्षधर

Lucknow Updated Sun, 09 Dec 2012 05:30 AM IST
लखनऊ। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि भारत हमेशा विश्व बंधुत्व एवं शांतिपूर्ण माहौल का पक्षधर रहा है। इसके लिए भारत ने हमेशा अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं को प्रोत्साहित करने का प्रयास किया है। संयुक्त राष्ट्र संघ का सदस्य होने के नाते सामाजिक उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए हम हमेशा सजग रहे हैं। क्योंकि भारत का साफ मानना है कि विभिन्न देशों की आपसी समस्याओं को मिल बैठकर शांतिपूर्वक सुलझाने से बेहतर और कोई दूसरा तरीका नहीं हो सकता। मुख्यमंत्री शनिवार को सिटी मांटेसरी स्कूल, कानपुर रोड में आयोजित 13वें विश्व न्यायाधीश सम्मेलन के उद्घाटन सत्र को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हम संसदीय व्यवस्था के तहत कार्य करते हैं। देश में सशक्त एवं स्वतंत्र न्यायिक संस्था है जो व्यवस्था चलाने में बखूबी अपनी जिम्मेदारी निभा रही है। उन्होंने सीएमएस संस्थापक जगदीश गांधी की आयोजन के लिए तारीफ की और कहा कि इससे प्रदेश को अंतर्राष्ट्रीय पहचान मिलेगी। प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष माता प्रसाद पांडेय ने विश्व संसद की वकालत की। उन्होंने कहा कि डॉ. राम मनोहर लोहिया ने कहा था कि विश्व में शांति के लिए विश्व संसद आवश्यक है। हमारी संस्कृति में सभी के सुखी, निरोगी एवं कल्याणमय जीवन की कल्पना की गई है। विश्व में अराजकता, आतंकवाद एवं अन्य अपराधों को रोकने के लिए अंतर्राष्ट्रीय कानून जरूरी है। इस अवसर पर लोकायुक्त एनके मेहरोत्रा, एडीशनल एडवोकेट जनरल जफरयाब जिलानी एवं गौरव भाटिया ने भी विचार व्यक्त किए। इससे पहले सीएमएस के छात्रों ने सर्व धर्म प्रार्थना सभा एवं विश्व संसद की अनूठी प्रस्तुति के जरिए एकता व शांति का संदेश विश्व के 60 देशों के न्यायाधीशों एवं कानूनविदों तक पहुंचाया। न्यायाधीशों एवं सीएमएस के शिक्षक एवं छात्रों की अगुवाई में विश्व एकता मार्च भी निकाला गया।
दो अरब बच्चों के भविष्य को लेकर चला मंथन ः विश्व के कोने-कोने से जुटे न्यायधीशों, काननूविदों एवं अन्य हस्तियों ने दो अरब बच्चों के सुरक्षित भविष्य को लेकर गंभीर मंथन किया। इस दौरान अंतर्राष्ट्रीय कानूनों के अनुपालन की बात भी प्रमुखता से उठी। न्यायविदों ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय कानून दुनिया के हित के लिए ही बनाए गए हैं उनकी अनदेखी से कई गंभीर खतरों का सामना विश्व समुदाय को करना पड़ सकता है। इनके पालन में की गई आनाकानी से केवल शांति ही नहीं बल्कि मानवता को भी खतरा पैदा होगा। इसलिए अंतर्राष्ट्रीय कानूनों के पुनरीक्षण और वर्तमान समय की मांग के अनुरूप बदलाव कर उनके पालन पर विशेष जोर देना होगा। सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश जस्टिस एपी मिश्र ने कहा कि शांति एवं प्रेम की भावना बच्चों में बचपन से ही शिक्षा के माध्यम से समाहित कर देनी चाहिए। स्वामी विवेकानंद ने कहा है कि अच्छे विचार किसी भी चीज के आर-पार जा सकते हैं। अच्छी भावना गुफा में बंद चट्टानों को चीरकर भी बाहर आ सकती है। युगांडा के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति बेंजामिन ओडोकी ने कहा कि मानव जाति का एकमात्र लक्ष्य शांति, एकता, खुशहाली है। न्यायाधीश प्रभावशाली अंतर्राष्ट्रीय कानून के लिए मिल जुलकर प्रयास करें। गुयाना के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति कार्ल अशोक सिंह ने कहा कि विश्व भर में बच्चों की स्थिति वाकई चिंतनीय है। यदि सरकारें इन चुनौतियों को अनदेखा करेंगी तो इससे बच्चों का सदा के लिए नुकसान हो सकता है। जाम्बिया सुप्रीम कोर्ट के एक्टिंग चीफ जस्टिस न्यायमूर्ति लोंबे पी. चिबेसकुंडा ने अपने संबोधन में कहा कि इस सम्मेलन के माध्यम से अवश्य ही बच्चों का भविष्य सुरक्षित करने में हमें सफलता मिलेगी। अफगानिस्तान के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति प्रो. अब्दुल सलाम अजीमी का मत था कि बच्चे मानव समाज के मील के पत्थर होते हैं। अत: उनका शिक्षित होना एवं परिवार तथा समाज का मागदर्शन प्राप्त करना आवश्यक है। यह सहयोग तभी प्रभावी हो सकता है जब उनके अधिकार तथा आजादी देश के कानून में शामिल हो तथा उसमें परिवार एवं शिक्षकों का समर्थन हो। सीएमएस के संस्थापक जगदीश गांधी ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र संघ का बदला रूप ही मानव जाति का कल्याण कर सकता है व आतंकवाद, अशिक्षा, बेरोजगारी और पर्यावरण संबंधी समस्याओं को नियंत्रित कर सकता है।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाले में लालू की नई मुसीबत, चाईबासा कोषागार मामले में आज आएगा फैसला

चारा घोटाला मामले में रांची की स्पेशल सीबीआई कोर्ट बुधवार को सुनवाई करेगी। स्पेशल कोर्ट जज एस एस प्रसाद इस मामले में फैसला देंगे।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: लखनऊ के मलिहाबाद में डकैतों का कहर, लूटे 5 लाख

यूपी की राजधानी लखनऊ में बदमाशों के हौसले बुलंद हैं। यहां के मलिहाबाद थाना क्षेत्र में सोमवार रात डकैतों ने जमकर तांडव मचाया।

24 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper