आधार कार्ड में त्रुटि का करा सकेंगे संशोधन

Lucknow Updated Fri, 07 Dec 2012 05:30 AM IST
लखनऊ। आपके आधार कार्ड में यदि कोई सूचना गलत दर्ज हो गई हो तो परेशान होने की जरूरत नहीं है। उसमें आसानी से सुधार हो सकता है। मतदाता पहचान पत्र की तरह ही आधार कार्ड में संशोधन की सुविधा शुरू की गई है। इसके लिए न तो किसी कार्यालय के चक्कर लगाने पड़ेंगे और न ही पंजीकरण कैंप का इंतजार करना होगा।
भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) ने त्रुटियों के संशोधन के लिए आवेदन की सुविधा पिछले दिनों ही शुरू की है। यूआईडीएआई के लखनऊ स्थित क्षेत्रीय कार्यालय के अधिकारियों के मुताबिक संशोधन के लिए एक प्रारूप तय किया गया है, जो यूआईडीएआई की वेबसाइट 222.ह्वद्बस्रड्डद्ब.द्दश1.द्बठ्ठ पर उपलब्ध है। संशोधन केलिए आवेदन ऑनलाइन व ऑफलाइन (मैनुअल) किया सकता है। ऑनलाइन आवेदन के साथ संशोधन से संबंधित प्रमाण भी भेजना होगा। मैनुअली आवेदन केलिए आवेदक वेबसाइट से फॉर्म डाउनलोड कर उसे भरकर संशोधन से संबंधित प्रमाण की प्रति के साथ डाक से यूआईडीएआई के क्षेत्रीय कार्यालय को भेज सकते हैं। उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड के आधार कार्ड धारकों को समाज कल्याण निर्माण निगम, विभूति खंड लखनऊ स्थित कार्यालय में आवेदन करना होगा।
शिकायतों के बाद की व्यवस्था ः अधिकारी भी मानते हैं कि पहले चरण में बने आधार कार्ड में सूचना संबंधी त्रुटि की शिकायतें मिल रही हैं। इसी के चलते उसमें संशोधन की व्यवस्था की गई है। हालांकि त्रुटियां उन्हीं कार्ड में हुईं जिनमें आवेदन केसमय खुद से संबंधित सूचनाएं दर्ज कराने में लोगों ने सावधानी नहीं बरती।
...नहीं मिला कार्ड तो नेट से ले सकते हैं डुप्लीकेट ः आवेदन के महीनों बाद भी जिन लोगों को आधार कार्ड नहीं मिल पाया है, वे यूआईडीएआई की वेबसाइट से कार्ड की डुप्लीकेट कॉपी डाउनलोड कर सकते हैं। आवेदक वेबसाइट पर आवेदन नंबर (रिसीट में दर्ज) व समय के आधार पर यह देख सकते हैं कि उनके आधार कार्ड बनाने की प्रक्रिया पूरी हुई या नहीं। अगर कार्ड बनने के बाद डाक द्वारा भेजे जाने के बावजूद आवेदक को नहीं मिल पाया तो वह नेट से इसकी डुप्लीकेट कॉपी डाउनलोड कर सकता है।
कार्ड बनाने का दूसरा चरण जल्द होगा शुरू ः पहले चरण में आवेदन न कर पाने वालों के आधार कार्ड बनाने के लिए दूसरा चरण जल्द ही शुरू होगा। उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड में दूसरे चरण के तहत डाटा एकत्र करने के काम जनगणना निदेशालय के माध्यम से किया जाना है। अगले वर्ष तक सभी लोगों को आधार कार्ड उपलब्ध कराने के लिए अधिकतर राज्यों में दूसरे चरण में आवेदन लेने का काम शुरू हो गया है। विभागीय जानकार बताते हैं कि जनगणना विभाग को शासन के निर्देश का इंतजार है। क्षेत्रीय कार्यालय लखनऊ के सहायक महानिदेशक सीएस मिश्र केमुताबिक यूआईडीएआई केवल आधार कार्ड बनाने का काम करता है। उसके लिए बायोमेट्रिक डाटा व अन्य सूचनाएं एकत्र करने का काम दूसरी संस्थाएं करती हैं।

Spotlight

Most Read

Chandigarh

बॉर्डर पर तनाव का पंजाब में दिखा असर, लोगों में दहशत, BSF ने बढ़ाई गश्त

बॉर्डर पर भारत और पाकिस्तान में हो रही गोलीबारी का असर पंजाब में देखने को मिल रहा है, जहां लोगों में दहशत फैली हुई है। बीएसएफ ने भी गश्त बढ़ा दी है।

21 जनवरी 2018

Related Videos

यहां दलित परिवार पर टूटा ‘पद्मावत’ विरोध का कहर

देशभर में फिल्म पद्मावत के रिलीज को लेकर विवाद थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। शामली के भवन थाना क्षेत्र के गांव हरड़ फतेहपुर में पद्मावत फिल्म को लेकर दलित परिवार पर हमला किया गया। देखिए क्या है पूरा मामला।

21 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper