डी कंपनी का शार्प शूटर गिरफ्तार

Lucknow Updated Sat, 01 Dec 2012 12:00 PM IST
लखनऊ। यूपी एटीएस ने माफिया सरगना दाउद इब्राहिम गैंग के शार्प शूटर जहांगीर उर्फ हसीन सिद्दीकी को लखनऊ के चारबाग से गिरफ्तार कर लिया। जहांगीर को एटीएस ने तब गिरफ्तार किया जब वह लखनऊ में ही किसी ‘टारगेट’ को मारने के लिए जा रहा था। उसके अपराधों का ब्यौरा इकट्ठा करने के लिए एटीएस ने मुंबई पुलिस से संपर्क किया है। जहांगीर को एटीएस ने गुरुवार की शाम को पानदरीबा रोड के पास सरदार होटल के पास से गिरफ्तार किया। उसके पास से 0.32 बोर की रिवाल्वर के 19 कारतूस, पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, तीन मोबाइल फोन व चार्जर, आठ सिम कार्ड और बलरामपुर (यूपी) के पते से एक पासपोर्ट मिला है। अपर पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) अरुण कुमार ने बताया कि जहांगीर मूल रूप से बलरामपुर के नकवा गांव के पोस्ट नंदौरी क्षेत्र का रहने वाला है। इसका एक घर ठाणे में भी है। वह 1997 से दाऊद इब्राहिम गिरोह के लिए काम कर रहा है। वह खासतौर पर मुन्ना झिंगड़ा, सैम, सैयद एजाज हुसैन रिजवी और सलीम चिकना के साथ मिलकर वारदात किया करता था। दाऊद इब्राहिम के सहयोगी छोटा शकील और सादिक कालिया ने इसे पहले इधर का काम दिया और फिर मुंबई में कई बड़ी वारदातें कीं।
पुलिस कस्टडी से फिरोज को छुड़ाने में थी भूमिका ः जहांगीर उर्फ हसीन सिद्दीकी उर्फ साबू 1998 में तब चर्चा में आया जब उसने ‘डी’ कंपनी के खास फिरोज कोकनी को जेजे हॉस्पिटल से जेल से अस्पताल लाते वक्त पुलिस कस्टडी से छुड़ा लिया। इस दौरान जबर्दस्त फायरिंग कर जहांगीर और उसके साथियों सैंडी, सैम, सलीम चिकना और आरिफ मिर्जा ने एक पुुलिस वाले मार गिराया और फिरोज को छुड़ाकर भाग निकले। बाद में उसी साल सैम, जहांगीर और आरिफ मिर्जा पकड़ लिए गए। आरिफ मिर्जा को मुंबई क्राइम ब्रांच ने तब गिरफ्तार किया जब वह श्रीलंका से मुंबई आ रहा था। इसके बाद 1998 से 2004 तक यह लोग जेल में ही रहे।
जेल में बंद और बन गया पासपोर्ट ः जहांगीर उर्फ हसन सिद्दीकी, सैम और आरिफ मिर्जा छह साल मुंबई की जेल में रहे और इसी दौरान जहांगीर ने अपने भाई अशरफ के माध्यम से अपने गांव नकवा, पोस्ट नंदौरी, उतरौला, बलरामपुर के पते से पासपोर्ट बनवाया। जहांगीर का पासपोर्ट हसीन पुत्र कल्बे हुसैन नाम से, मिर्जा आरिफ बेग का पासपोर्ट नासिर नाम से और सैम का समीर खां नाम से इसी पते पर बनवाया गया। एटीएस ने 2010 में लखनऊ क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय में पासपोर्ट बनवाने में हुई गड़बड़ी की छानबीन शुरू की। इसी जांच में इन सभी का पता चला।
फर्जी पासपोर्ट पर कई देशों में की वारदातें ः जहांगीर, आरिफ और सैम जेल से छूटने के बाद इन्हीं पासपोर्ट पर कोलकाता होकर बैंकाक, चीन, हांगकांग, मकाऊ और फिर इंडोनेशिया गए और वहां कई वारदातें कीं। इंडोनेशिया के जकार्ता में उसका वीजा खत्म हो गया। वहां से डिपोर्ट करके उसे दिल्ली भेज दिया गया। दिल्ली से वह अपने गांव चला गया और वहीं से फिर अपना नया पासपोर्ट बनवाया, जिसमें उसने अपनी बदली हुई फोटो लगाई। इसके बाद वह मुंबई चला गया।
नए ‘टारगेट’ पर हमले के फिराक में था जहांगीर ः जहांगीर को ‘डी’ कंपनी ने नए टारगेट के खात्मे का ठेका दिया था। 26 नवंबर को वह इसी ‘टारगेट’ की तलाश में मुंबई से लखनऊ वापस आया था। लखनऊ से बस के जरिए बहराइच गया और वहां पर सैम द्वारा बताए गए अपने साथी से 0.32 बोर की रिवाल्वर के 19 कारतूस लिए और लखनऊ वापस आ गया। सैम जल्द ही नए टारगेट के बारे में बताने वाला था कि एटीएस ने फर्जी पासपोर्ट की तलाश में पकड़ लिया। बताया जा रहा है कि उसे चुपचाप लखनऊ में किसी की हत्या के लिए भेजा गया था।
कई वारदातों में था नामजद ः जहांगीर कई वारदातों में नामजद था। इसमें ज्यादातर वारदातें इसने मुंबई में की थीं। माहिम में प्रदीप जैन का मर्डर, मदनपुरा में एजाज सादिक कालिया के विरोधी की हत्या, डोंगरी चारनल के पास सरदार नामक व्यक्ति की हत्या, सांताक्रूज में अरुण गवली के पार्टी के नेता जितेन्द्र की हत्या, चेंबूर में छोटा राजन के साथी महेंद्र पाटिल की हत्या, पाली गली डोंगरी में छोटा राजन के साथी हाजी मुख्तार की हत्या, फूल गली भिंडी बाजार के पास फारुख बटाटा की हत्या में यह वांछित था।
14 दिसंबर तक भेजा गया जेल ः जहांगीर को शुक्रवार को एटीएस के विशेष एसीजेएम आबिद शमीम के समक्ष पेश किया गया। जहांगीर पर फर्जी पासपोर्ट के साथ भारी मात्रा में अवैध कारतूस लेकर चलने का आरोप है। कोर्ट ने आरोपी को न्यायिक अभिरक्षा में लेकर 14 दिसंबर तक जेल भेज दिया है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

भयंकर हादसे के शिकार युवक ने योगी से लगाई मदद की गुहार, सीएम ने ट्विटर पर ये दिया जवाब

दुर्घटना में रीढ़ की हड्डी टूटने से लकवा के शिकार युवक आशीष तिवारी की गुहार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सुनी ली। योगी ने खुद ट्वीट कर उसे मदद का भरोसा दिलाया और जिला प्रशासन को निर्देश दिया।

20 जनवरी 2018

Related Videos

बुलंदशहर की ये बेटी पाकिस्तान को कभी माफ नहीं करेगी, देखिए वजह

पाकिस्तान की नापाक हरकतों की वजह से शुक्रवार को बुलंदशहर के रहने वाले जगपाल सिंह शहीद हो गए। जगपाल सिंह एक दिन बाद अपनी बेटी की शादी के लिए घर आने वाले थे।

20 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper