शिक्षा से ही आगे बढ़ेंगे मुसलिम

Lucknow Updated Thu, 18 Oct 2012 12:00 PM IST
लखनऊ। हर घर और समाज की प्रगति उसे मिल रही शिक्षा से ही तय होती है। मुसलिम समाज को संकल्प लेना होगा कि सर सैयद अहमद के दिखाए रास्ते पर चलेंगे और यही उन्हें याद रखने का सही तरीका होगा। आज समय तेजी से बदला है और अब ये सोचना जरूरी है कि हमारी पढ़ाई-लिखाई कितनी बदली है।
कुछ ऐसी ही बातों से मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने प्रदेश के मुसलमानों को जदीद तालीम (आधुनिक ज्ञान-विज्ञान की शिक्षा) के लिए प्रेरित किया। मौका था मुसलमानों को एक हाथ में कुरान, दूजे में विज्ञान की सीख देने वाले सर सैयद अहमद खान के 195वें जन्म दिवस पर आयोजित सर सैयद-डे का। अलीगढ़ मुसलिम यूनिवर्सिटी ओल्ड बॉयज एसोसिएशन की लखनऊ शाखा की ओर से बुधवार को गोमतीनगर स्थित इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में ये आयोजन हुआ। इसमें बड़ी संख्या में एएमयू के पूर्व छात्र और गणमान्य नागरिक शामिल हुए।
अलीगढ़ मुसलिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) को शिक्षा का प्रमुख गढ़ बताते हुए मुख्य अतिथि सीएम ने यहां के छात्रों द्वारा देश की प्रगति में योगदान देने की सराहना की। गेस्ट ऑफ ऑनर रहे एएमयू के पूर्व छात्र व सऊदी अरब में प्रमुख कारोबारी नदीम तरीन ने भी सच्चर समिति रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि मुसलिम समुदाय को अब शिक्षा क्षेत्र में बहुत काम करना होगा। साथ ही समुदाय के सभी लोगों से सरकार के साथ सहयोग करते हुए उत्तरप्रदेश को ‘मॉडल स्टेट’ बनाने का आह्वान किया। सहारा प्रमुख सुब्रत राय ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया।

भवन के लिए जमीन का आश्वासन : एसोसिएशन अध्यक्ष व डीजी-टेलीकॉम आईपीएस रिजवान अहमद ने बताया कि एसोसिएशन की लखनऊ शाखा 35 साल से सक्रिय है लेकिन उसे अपना भवन नहीं मिल सका है। उन्होंने बताया कि 21 वर्ष एएमयू के छात्र रहे नदीम ने एसोसिएशन भवन बनवाने का वादा किया है। इस पर मुख्यमंत्री ने एसोसिएशन को जमीन उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया।

...ताकि लैपटॉप वाले गरीबों को डरा न सकें : मुख्यमंत्री ने बताया कि जब से लैपटॉप देने की घोषणा की गई है तब से सराकर की मंशा पर सवाल उठाए जा रहे हैं। उन्हाेंने कहा कि गरीबों को लैपटॉप और कंप्यूटर का डर दिखाया जाता है। यह डर निकालना जरूरी है ताकि लैपटॉप वाले रौब में गरीबों को उनके हक से महरूम न रख सकें। इन लैपटॉप में हिंदी और उर्दू में भी काम किया जा सकेगा।

मेधावी छात्र सम्मानित : एएमयू के कई पूर्व छात्र-छात्राएं लखनऊ और प्रदेश में प्रशासन, शिक्षा, कारोबार आदि विभिन्न क्षेत्रों में योगदान दे रहे हैं। इनमें चित्रा स्वरूप, डॉ. सुहैला फारुखी, यास्मीन अंजुम, अनवर खान, तारिक फैयज, अफजल खान, डॉ. एस रियाज महदी, मोहम्मद गुफरान, आसिफ खान, वमिक एफ रहमान, मसर्रत नूर खान, मेराज अंसारी, जियाद्दीन ए किदवई, नजमा जफर, एके माथुर, डॉ. सलीम ताहिर जैदी, अशोक कनौजिया आदि शामिल हैं। इस मौके पर एसोसिएशन सदस्यों के मेधावी बच्चों मो. शहजार हुसैन, निखिल ठाकुर, मो. शारिक जामा, आस्था नेगी, उत्सव गर्ग, रेहान मुराद, कुलसुम सिद्दीकी, इनामुल हक, हुमा फिरदौस, दीपा पाल, प्रज्ञा नामदेव, खुशबू मदन, सदफ आयमान खान, आमिर रिजवी, मरियम जैदी, शशांक सिंह, मेहनाज खान, साइमा अंसारी, सउद हक, खालिद किदवई आदि को भी सम्मानित किया गया।

Spotlight

Most Read

Lucknow

अखिलेश यादव का तंज, ...ताकि पकौड़ा तलने को नौकरी के बराबर मानें लोग

यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने केंद्रीय मंत्री सत्यपाल सिंह पर निशाना साधा और कहा कि भाजपा देश की सोच को अवैज्ञानिक बताना चाहती है।

22 जनवरी 2018

Related Videos

आत्महत्या करने से पहले युवती ने फेसबुक पर अपलोड की VIDEO, देखिए

कानपुर के पांडुनगर से एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। जिसमें एक महिला ने फेसबुक पर एक वीडियो जारी कर आत्महत्या कर ली। वजह जानने के लिए देखिए, ये रिपोर्ट।

21 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper