सज गया किताबों का संसार

Lucknow Updated Sat, 06 Oct 2012 12:00 PM IST
लखनऊ। राष्ट्रीय पुस्तक मेला का शुक्रवार को आगाज पिछले कुछ वर्षों की तुलना में इस बार कुछ अलग रहा। प्राय: बारिश के कारण शुरुआती दिनों में मेला बाधित हो जाता था और मेले के शुरू के कई दिन तैयारियों में ही निकल जाते थे। लेकिन शुक्रवार को शुरू हुए मेले में सारे स्टॉल सजे दिखे। देश भर से जुटे प्रकाशक व वितरक पहले ही दिन अपने-अपने स्टॉल सजाकर पुस्तक प्रेमियों को आकर्षित करते दिखे। हालांकि पहले दिन लोगों की उपस्थिति कम रही।
मोती महल में नालेज ट्री फाउंडेशन द्वारा दि फेडरेशन ऑफ पब्लिशर्स एंड बुकसेलर्स एसोसिशन के सहयोग से आयोजित पुस्तक मेला का यह लगातार दसवां आयोजन है। मेला में पिछले वर्ष के 173 स्टॉलों की जगह इस बार 185 स्टॉल बनाए और आवंटित किए गए हैं। मेले में 16 नए प्रकाशक भाग ले रहे हैं जबकि कुल 96 प्रकाशकों, वितरकों ने स्टॉल लिए हैं। इनमें राजकमल, राधाकृष्ण, वाणी, राजपाल, प्रभात, सामयिक नेशनल बुक ट्रस्ट, भारतीय ज्ञानपीठ, लोकभारती, केन्द्रीय हिन्दी निदेशालय, हिन्दी संस्थान जैसे हिंदी के कई प्रमुख प्रकाशक शामिल हैं। इनके अतिरिक्त अंग्रेजी और उर्दू के भी कई प्रकाशक, वितरक भाग ले रहे हैं। मेले में कागजों पर छपी पुस्तकों के अतिरिक्त ई बुक, सीडी, डीवीडी, एमपी थ्री जैसे कई समानांतर माध्यम भी उपस्थित हैं। इनके अतिरिक्त एक्यूप्रेशर, धर्म-कर्म से जुड़े स्टॉल भी हैं। भारतीय रिजर्व बैंक ने लोगों को जागरूक करने के लिए स्टॉल लगाया है तो खानपान का एक अलग कोना बनाया गया है। मेला स्वामी विवेकानंद की 150 वी वर्षगांठ पर उ्न्हें समर्पित है। मेला 14 अक्तूबर तक प्रतिदिन सुबह 11 बजे से रात नौ बजे तक चलेगा। मेले में प्रवेश नि:शुल्क है। यहां आने वाले लोगों को पुस्तकों पर न्यूनतम 10 से 80 प्रतिशत तक की छूट दी जा रही है।

राज्यपाल नहीं आए, प्रमुख सचिव ने किया उद्घाटन ः राष्ट्रीय पुस्तक मेला का उद्घाटन शुक्रवार को राज्यपाल बी.एल. जोशी को करना था लेकिन अचानक जयपुर दौरे के कारण वह समारोह में नहीं पहुंच सके। राज्यपाल के प्रमुख सचिव जी. पटनायक ने किया। उन्होंने उद्घाटन के अवसर पर राज्यपाल का संदेश भी पढ़ा। राज्यपाल ने अपने संदेश में कहा कि स्वामी विवेकानन्द ने विश्व पटल पर भारतीय संस्कृति की पहचान दिलाई। उन्होंने युवाओं से विवेकानंद का साहित्य पढ़ने और प्रेरणा लेने का आह्वान किया। संदेश में राज्यपाल ने पुस्तक मेला की सराहना करते हुए कहा कि ऐसे पुस्तक मेले अब गांवों में लगने चाहिए। प्रमुख सचिव ने इस मौके पर कहा कि लखनऊ की संस्कृति ने जिस प्रकार विश्व में पहचान बनाई है, उस तरह के पुस्तक मेले ने साहित्य प्रेमियों के बीच पहचान बनाई है। उद्घाटन समारोह का संचालन व्यंग्य कवि सर्वेश अस्थाना ने किया।
मेला में आज
- दिन में दो बजे लोकनृत्य एवं शास्त्रीय नृत्य प्रतियोगिता
- शाम पांच बजे विनोद जैन की पुस्तक ‘गॉल ब्लैडर की पथरी’ का लोकार्पण
- शाम 6.30 बजे लेखक से मिलिए में राकेश कुमार मित्तल
अदम गोंडवी सम्मान दीक्षित दनकौरी को ः अपूर्वा संस्था के तत्वावधान में दिया जाने वाला अदम गोंडवी स्मृति सम्मान दीक्षित दनकौरी को दिया जाएगा। दिल्ली के दनकौरी ने कई गजल संग्रहों का संपादन किया है। 10 अक्तूबर को सायं छह बजे से पुस्तक मेला में आयोजित समारोह में दनकौरी को 2100 रुपये सम्मान राशि, अंगवस्त्र एवं स्मृति चिह्न प्रदान किया जाएगा। उसी मौके पर कवि ज्योतिशेखर को राजेश विद्रोही स्मृति सम्मान प्रदान किया जाएगा।
सामयिक प्रकाशन का स्टॉल : मौसम बदलने की आहट-अनामिका, आवाज- मैत्रेयी पुष्पा, हिन्दी साहित्य का ओझल नारी इतिहास-नीरजा माधव, नामवर सिंह: एक मूल्यांकन-सं. प्रेम भारद्वाज, अमरकान्त: एक मूल्यांकन-सं.रवीन्द्र कालिया, अम्बेडकर संचयन-सं.रामजी यादव, गिजुभाई संचयन-सं.रामजी यादव, बाकी समय-के.विक्रम सिंह, फिर कोई प्रश्न करो नचिकेता-निर्मला भुराड़िया, 1857:भारतीय परिप्रेक्ष्य-मीनाक्षी नटराजन, फिट है बास-सतपाल, माफ करना यार-बलराम, आलोचक का आकाश्ा-मधुरेश, एक सुबह यह भी-शैलेन्द्र सागर।

Spotlight

Most Read

Meerut

राहुल काठा की सुरक्षा में पेशी

राहुल काठा की सुरक्षा में पेशी

23 जनवरी 2018

Related Videos

योगी सरकार ने लिया ये बड़ा फैसला, 60 हजार भर्तियां शुरू करने का रास्ता साफ

अवकाश प्राप्त आईएएस अधिकारी चन्द्रभूषण पालीवाल को यूपी अधीनस्‍थ सेवा चयन बोर्ड का अध्यक्ष बनाया गया है। चन्द्रभूषण पालीवाल इससे पहले समाजवादी पार्टी सरकार में नगर विकास के प्रमुख सचिव रह चुके हैं।

23 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper