बांग्ला गीतों से सजी शाम

Lucknow Updated Sat, 29 Sep 2012 12:00 PM IST
लखनऊ। गगनभेदी शंखनाद, चंडी पाठ और ईश भजनों की आराधना से सजी बांग्ला गीत-संगीत की शाम। शुक्रवार को ऐतिहासिक कालीबाड़ी मंदिर के 150वें स्थापना दिवस समारोह का आगाज कुछ इसी प्रकार से हुआ। भक्तिरस से सराबोर आयोजन की पहली शाम के मुख्य अतिथि रहे प्रदेश केराज्यपाल बीएल जोशी। चारबाग के रवीन्द्रालय में तीन दिनों तक चलने वाले आयोजनों की पहली शाम पं. बंगाल से आये पं. श्रीकुमार चटर्जी, आशीष चक्रवर्ती ने सजाई। घसियारी मंडी स्थित ऐतिहासिक काली बाड़ी मंदिर की स्थापना के 150वें साल केसमारोहों का आगाज गगनभेदी शंखनाद और दीप प्रज्जवलन से हुआ। मुख्य अतिथि राज्यपाल बीएल जोशी ने दीप प्रज्जवलन के बाद मंच से काली बाड़ी मंदिर के गौरवशाली इतिहास और उसकी समृद्धता पर विचार दिये। उन्होंने शहर में सांस्कृकि, सामाजिक और शैक्षणिक विरासत को सम्पन्न करने में काली बाड़ी मंदिर का योगदान अहम बताया। मौके पर काली बाड़ी मंदिर ट्रस्ट की स्मारिका का भी विमोचन हुआ। शुरुआत पं. श्रीकुमार चटर्जी ने मां काली के आह्रवाहन से पहले ईशभजन से की। मैली चादर ओढ़ के कैसे द्वार तुम्हारे आऊं.. हे परम परमेश्वर मेरे मन ही मन शरमाऊ.. हे हरिहर मैं हार के आया अब क्या हार चढ़ाऊं.. से की। भजनों पर तबले और गिटार की संगत ने सभी तालियां बजवाने पर मजबूर किया। 10 मिनट तक चले चंडी पाठ और आह्वाहन के बाद उन्होंने गहरजन बाई की ठुमरी पिया री संदेश कहियो जाबो जाबो रे पिया जाओ जाओ रे भंवरे.. केबाद पंजाबी टप्पा सुनाया। हरि नाम बिन केउ रहै.. के बाद श्यामा संगीत के विशेषज्ञ गायक श्यामा संगीत का बखान सुरों में किया तो पूरा हाल एकटक सुनता ही रहा। जय जय जगजननि देव.. सुनाया। संगदिल आभी जा खुदा के लिये.. कव्वाली भी खास रही। इसके बाद मंच पर उतरे आशीष चक्रवर्ती ने बांग्ला पारंपरिक गानों से तालियां लूटी। की नामे डेके बोलबो तुमारे.., ओगो काजोल नयना हरिणी.. के बाद उन्होंने एसडी बर्मन के लोकगीत अमी तकडुम-तकडुम बजाई रे बांग्लादेशे रे डोला.. सुनाया। हिंदी-बांग्ला गीतों से सजी शाम का लुत्फ लेने के लिये सैकड़ों की संख्या में बंगाली समाज के लोग मौजूद रहे। तबले पर पं. ऋषिकुमार चटर्जी, गिटार पर पिंटू घटक और साइडरिदम पर सिद्धार्थ ने संगत दी। मौके पर कवियत्री चित्रा लाहिरी, एडीजी आनंदलाल बनर्जी को सम्मानित किया गया। समारोह के दौरान काली बाड़ी मंदिर के गौतम भट्टाचार्य भी मौजूद रहे। शनिवार को दूसरे दिन यहां डा. इंद्राणी सेन का रबीन्द्र संगीत और आधुनिक संगीत होगा।

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

दिल्ली-एनसीआर में दोपहर में हुआ अंधेरा, हल्की बार‌िश से गिरा पारा

पहले धुंध, उसके बाद उमस भरे मौसम और फिर हुई हल्की बारिश ने दिल्ली में हो रहे गणतंत्र दिवस के फुल ड्रेस रिहर्सल में विलेन की भूमिका निभाई।

23 जनवरी 2018

Related Videos

पांच डकैती की वारदातों से दहली यूपी की राजधानी लखनऊ

लखनऊ में चोरी डकैती की वारदात लगातार बढ़ती जा रही है।

23 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper