बीमारियों का समूह मेटाबोलिक सिंड्रोम

Lucknow Updated Fri, 21 Sep 2012 12:00 PM IST
लखनऊ। मोटापा, रक्त में कोलेस्ट्राल की अधिकता, मधुमेह। इन सभी रोगों के समूह को मेटाबोलिक सिंड्रोम का नाम दिया गया है। अनियमित खानपान, आराम तलब जीवनशैली इस सिंड्रोम का कारण है। हम जितना खाना खाते हैं यदि उसी के अनुसार कार्य नहीं करेंगे तो मोटापा और मधुमेह जैसी बीमारियां घेर लेंगी। इसके साथ ही दिल की बीमारी भी आपको निशाना बना लेगी। यह जानकारी केजीएमयू के फिजियोलॉजी विभाग द्वारा आयोजित मोटापा और मानसिक तनाव पर आयोजित व्याख्यान में डेक्सेल यूनिवर्सिटी एंड मेडिकल कॉलेज यूएसए के डॉ. आरएन सेठ ने दी।
केजीएमयू के प्रशासनिक भवन के ब्राउन हॉल में आयोजित व्याख्यान में डॉ. सेठ ने बताया यदि समय पर चेत जाएं तो मेटाबोलिक सिंड्रोम बीमारी से बचा जा सकता है। क्योंकि सिंड्रोम बीमारी होने के पहले की वह अवस्था है जो शरीर को रेड सिग्नल देती है। भारत में सबसे ज्यादा इसी सिंड्रोम के मरीज हैं। 35 साल की उम्र में अचानक हार्ट अटैैक से मौत होना ‘मेटाबोलिकली ओबीज’ के कारण ही है। तीन फीसदी लोग इस खतरनाक सिंड्रोम की चपेट में हैं। सामान्य भार वाले पांच फीसदी, सामान्य से ओवर वेट के बीच के 22 फीसदी और ओवर वेट वाले 60 फीसदी लोग मेटाबोलिक सिंड्रोम के शिकार हैं। इस सिंड्रोम के होने पर इंसुलिन रजिस्टेंस, उच्च रक्तचाप, लिपिड असंतुलन की आशंका बढ़ जाती है। इससे बचने के लिए जीवन शैली बदलने की जरूरत है। इसके तहत शरीर का वजन कम करने के लिए उपाय करना जरूरी है। तनावपूर्ण जीवनशैली, तेजी से चौड़ी होती कमर, मोटापा, धूम्रपान, तंबाकू अधिकतर रोगों की जड़ है। धूम्रपान, वसा युक्त भोजन और खाना बनाने वाले तेल-घी का दोबारा इस्तेमाल खून में कोलेस्ट्राल की मात्रा बढ़ाते हैं। जो हृदय को खून पहुंचाने वाली धमनियों में जमता है और हार्ट अटैक का कारण बनता है। शरीर पर चर्बी चढ़ने के साथ हृदय घात, मधुमेह, उच्च रक्त चाप का खतरा बढ़ता है लेकिन चर्बी चढ़ने के साथ ही बीमारी से लड़ने की क्षमता ( इम्यून सिस्टम) भी कम होने लगती है। शरीर का भार लंबाई के अनुसार नियंत्रित रख कर इम्यून सिस्टम को ठीक रखा जा सकता है। उन्होंने बताया कि स्ट्रोक, अचानक हृदय का कार्य करना बंद कर देना, आर्थराइटिस, स्लीप एप्निया, इंसुलिन रजिस्टेंस, दिल तेज गति से धड़कना जैसी बीमारियां हो जाती हैं। डॉ. आरएन सेठ ने बताया कि ‘सादा जीवन उच्च विचार’ को अपने जीवन में उतारना ही बीमारियों से बचने का उपाय है। इस मौके पर फिजियोलॉजी विभाग की हेड प्रो. सुनीता तिवारी, डॉ. मनीज बाजपेई, डॉ. नरसिंह वर्मा, डॉ. श्रद्धा सिंह, डॉ. वाणी गुप्ता, एसपीएम विभाग के हेड प्रो. जेवी सिंह और डॉ. संजय खत्री भी मौजूद थे।

Spotlight

Most Read

Champawat

एसएसबी, पुलिस, वन कर्मियों ने सीमा पर कांबिंग की

ठुलीगाड़ (पूर्णागिरि) में तैनात एसएसबी की पंचम वाहिनी की सी कंपनी के दल ने पुलिस एवं वन विभाग के साथ भारत-नेपाल सीमा पर सघन कांबिंग कर सुरक्षा का जायजा लिया।

21 जनवरी 2018

Related Videos

आत्महत्या करने से पहले युवती ने फेसबुक पर अपलोड की VIDEO, देखिए

कानपुर के पांडुनगर से एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। जिसमें एक महिला ने फेसबुक पर एक वीडियो जारी कर आत्महत्या कर ली। वजह जानने के लिए देखिए, ये रिपोर्ट।

21 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper