बंद से पौने तीन अरब का कारोबार ठप

Lucknow Updated Fri, 21 Sep 2012 12:00 PM IST
लखनऊ। डीजल की कीमत में वृद्धि, रसोई गैस के सब्सिडी वाले सिलेंडरों की संख्या सीमित करने तथा खुदरा किराना व्यापार में प्रत्यक्ष निवेश (एफडीआई) की अनुमति के विरोध में विभिन्न राजनीतिक दलों की ओर से राजधानी में बृहस्पतिवार को आहूत भारत बंद के चलते थोक गल्ला मंडियों से लेकर फुटकर बाजारों में करीब दो लाख दुकानों के शटर नहीं उठे। पांडेयगंज से लेकर नवीन गल्ला मंडी तक और हजरतगंज से लेकर महानगर तक की बाजारों में सुबह से शाम चार बजे तक सन्नाटा पसरा रहा। हालांकि इसके बाद छिटपुट दुकानों के खुलने का सिलसिला शुरू हो गया। कारोबारियों की मानें तो इस बंद के कारण रारजधानी में पौने तीन अरब रुपये से अधिक का कारोबार ठप हुआ।
लखनऊ सराफा एसोसिएशन के अध्यक्ष रवींद्रनाथ रस्तोगी के अनुसार बृहस्पतिवार को सराफा का 100 करोड़ रुपये का थोक एवं फुटकर कारोबार प्रभावित हुआ, जिसमें बुलियन भी शामिल है। उन्होंने बताया कि वैसे तो अमीनाबाद, चौक व आलमबाग में बृहस्पतिवार को साप्ताहिक बंदी रहती है, लेकिन दुकानें खुलती हैं। हालांकि भारत बंद के कारण शहर के करीब 1200 शोरूम व छोटी-बड़ी दुकानों के ताले नहीं खुले। इसी तरह बंद से दूसरा बड़ा थोक दवा का कारोबार प्रभावित हुआ। कारोबारियों की मानें तो थोक दवा का 75 करोड़ रुपये तक का कारोबार ठप रहा। हालांकि लखनऊ केमिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष गिरिराज रस्तोगी ने 50 करोड़ रुपये का कारोबार प्रभावित होने की बात कही। लखनऊ लोहा हार्डवेयर मर्चेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष सतीश अग्रवाल ने बताया कि लाटूश रोड, गौतमबुद्ध मार्ग, शिवाजी मार्ग का थोक लोहा तथा सेनेटरी व हार्डवेयर का कुल 15 करोड़ रुपये तक का कारोबार प्रभावित हुआ। उन्होंने बताया कि यहां एक भी दुकान नहीं खुली। इसी प्रकार पांडेयगंज, डालीगंज, नवीन गल्ला मंडी, मुरलीनगर, फतेहगंज, टूड़ियागंज में दाल, चावल, सरसों तेल, वनस्पति घी, किराना, चीनी, मैदा, सूजी का कुल 25 करोड़ का कारोबार ठप रहा। नाका के कारोबारी सतपाल मीत के अनुसार बिजली उपकरण, टीवी, फ्रिज, पंखे, मोबाइल एवं इलेक्ट्रॉनिक्स का 10 करोड़ रुपये का कारोबार नहीं हुआ।
राज्य सरकार को 30 करोड़ का झटका ः राजधानी में एक दिन के भारत बंद के कारण राज्य सरकार को 30 करोड़ रुपये का झटका लगा। कपड़ा कारोबारी उत्तम कपूर, रेडीमेड कारोबारी अमरनाथ मिश्र और खाद्यान्न कारोबारी भारत भूषण ने बताया कि सरकार ने कुछ वस्तुएं छोड़ कर अधिकतर पर 14 व 6 फीसदी का टैक्स थोप रखा है, जिसमें वैट के साथ अतिरिक्त टैक्स शामिल है। कारोबारियों का अनुमान है कि बृहस्पतिवार को कारोबार होता तो सरकारी खजाने में टैक्स के रूप में 30 करोड़ रुपये जमा होते।
कारोबार करोड़ रुपयेे में
सराफा 100
दवा 75
मल्टी स्टोर 25
खाद्य वस्तु 25
इलेक्ट्रॉनिक्स 10
लोहा, सेनेटरी 15
भवन सामग्री 10
रेडीमेड, कपड़े 15
कुल 275

Spotlight

Most Read

Dehradun

आरटीओ में गोलमाल, जांच शुरू

आरटीओ में गोलमाल, जांच शुरू

21 जनवरी 2018

Related Videos

बुलंदशहर की ये बेटी पाकिस्तान को कभी माफ नहीं करेगी, देखिए वजह

पाकिस्तान की नापाक हरकतों की वजह से शुक्रवार को बुलंदशहर के रहने वाले जगपाल सिंह शहीद हो गए। जगपाल सिंह एक दिन बाद अपनी बेटी की शादी के लिए घर आने वाले थे।

20 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper