मंदिरों और कारखानों में पूजे गए देवशिल्पी

Lucknow Updated Tue, 18 Sep 2012 12:00 PM IST
लखनऊ। देवशिल्पी भगवान विश्वकर्मा जयंती सोमवार को शहर में धूमधाम से मनाई गई। शहर के तमाम विश्वकर्मा मंदिरों और कारखानों में सुबह से ही विश्वकर्मा समाज के लेागों और पेशे से जुड़े कारीगरों ने हवन पूजन कर देवशिल्पी का आशीर्वाद मांगा।
कटरा मकबूलगंज स्थित सवा सौ वर्ष पुराने विश्वकर्मा मंदिर में ककुहास पांचाल ब्राह्मण सभा की ओर से भक्तों ने पूजन कर ब्रह्मांड के कारीगर आशीर्वाद मांगा। दिन भर यहां शहर के विभिन्न इलाकों से आए शिल्पियों और कारीगरों ने अर्चन-पूजन किया। मकबूलगंज सरोजनी देवी लेन स्थित प्राचीन विश्वकर्मा मंदिर में विश्वकर्मा पांचाल ब्राह्मण सभा की ओर से पूजनोत्सव हुआ। सुबह मंदिर में शृंगार-पूजन के बाद यहां दयाशंकर के दल ने भजन-कीर्तन किया। शाम को कैंट विधायक रीता बहुगुणा जोशी ने भी दर्शन किए। इससे पहले वे चित्रगुप्त नगर वार्ड स्थित प्रिंटिंग प्रेस में हुई विश्वकर्मा पूजा में भी पहुंची। उप्र. भवन निर्माण मजदूर सभा की ओर से बिजली पासी किले के पीछे भी पूजन समारोह हुआ। गोमतीनगर में भी उप्र. भवन निर्माण विश्वकर्मा सेवा समिति की ओर से रंगारंग समारोह में भगवान का पूजन हुआ। इस मौके पर भजन संध्या के बाद मेधावी बच्चों को सम्मानित किया गया। इसके बाद बच्चों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत देकर सभी का मन मोह लिया। कैसरबाग के नवीन मार्केट में भी भारतीय मजदूर संघ ने देवशिलपी का पूजन कर आशीष लिया। वहीं, लेसा के समस्त कारखानों में भी विश्वकर्मा पूजन हुआ। भाजपा दूरसंचार उपभोक्ता प्रकोष्ठ की ओर से नौबस्ता में विश्वकर्मा भगवान की पूजा हुई। एसकेडी एकेडमी में भी देवशिल्पी का पूजन धूमधाम से हुआ। विश्वकर्मा जयंती के अवसर पर दिन भर शहर के नरही, अमीनाबाद, डालीगंज, डंडइया, भूतनाथ, गोमतीनगर, नक्खास, गणेशगंज समेत तमाम बाजारों में पूजा-पाठ और सजावटी सामानों की खरीददारी के लिए लोग जुटे रहे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

संघर्ष से लेकर यूपी के डीजीपी बनने तक ऐसा रहा है ओपी सिंह का सफर

कई दिनों के इंतजार के बाद ओपी सिंह ने आखिरकार उत्तर प्रदेश के डीजीपी पद का भार संभाल लिया। पद ग्रहण करने के बाद डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि अपराधी सामने आएंगे, गोली चलाएंगे तो पुलिस उनसे निपटेगी।

24 जनवरी 2018