विज्ञापन
विज्ञापन

अब नहीं होगी जएनएनयूआरएम में हुए कामों की जांच

Lucknow Updated Thu, 30 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
लखनऊ। घोटालेबाजों के मन की मुराद पूरी हो गई है। जेएनएनयूआरएम में हुए निर्माण कार्यों की जांच की जो कवायद शुरू हुई थी उस पर अब विराम लग गया है। भुगतान को लेकर मचे बवाल के बाद अब जांच होने की उम्मीद नहीं दिखाई दे रही है। जल निगम ने तो पहले ही जांच पर आने वाले खर्च के लिए पैसा नहीं दिया था और अब नगर निगम के भी ताजा हालात ऐसे नहीं हैं कि वह जांच के लिए आगे कदम बढ़ाए। हालांकि नगर आयुक्त कई बार कह चुके हैं कि गुणवत्ता जांच कराई जाएगी और उसकी प्रक्रिया चल रही है। लेकिन इसमें ज्यादा दम नहीं दिखता क्याेंकि अब वह भी इस पचड़े से ऊब चुके हैं और नगर निगम से विदा लेने के इच्छुक हैं। ऐेसे में जेएनएनयूआरएम कार्यों की गुणवत्ता जांच पर छाए बादल छंटते नहीं दिख रहे हैं। भुगतान को लेकर मचे बवाल के बाद जिस तरह से नगर निगम ने अपने पांव पीछे खींचे हैं उससे जल निगम के हौसले बुलंद हो गए हैं। जल निगम शुरू से ही जांच से बचना चाहता है, यह तो नगर निगम का दबाव था जो कि उसने जांच में गड़बड़ी पाए जाने पर जिम्मेदारी लेने की हामी भरी। उससे पहले तो वह कुछ लिखकर देने को ही तैयार नहंी था। उसका कहना था कि जो काम हो रहा है वह मानक के अनुरूप है। खास बात यह भी है कि एनपी सिंह के नगर निगम में आने से पहले बिना जांच पड़ताल ही किस्त भी जारी हो जाती थी। जिससे घटिया निर्माण कराने वाले बेखौफ थे। जब गड़बड़ियों से पर्दा उठाने की कोशिश हुई तो बड़े-बड़ों की हालत पतली हो गई और जांच न हो पाए इसके सब एकजुट हो गए। उधर एक तो आईआईटी कानपुर ने नमूने लेने आने से इंकार कर दिया दूसरे आईईटी लखनऊ ने बिना पहले पैसा जमा किए नमूने लेने से मना कर दिया। वहीं जांच होने से पहले ही कि स्त जारी करने को लेकर शासन ने भी ऐसे घटिया निर्माण करने वालों को राहत दे दी।
विज्ञापन
विज्ञापन
किस्त से नहीं काटा जा सकता जांच का खर्च ः नगर निगम अपने स्तर पर जांच पर आने वाले खर्च की कटौती जल निगम को दी जाने वाली किस्त से नहीं कर सकता। जेएनएनयूआरएम योजना से जुड़े एक अधिकारी का कहना है कि केंद्र ने जो दिशा निर्देश तय किए हैं उसके तहत पूरी राशि कार्यदायी संस्था को दी जाएगी। उसमें किसी तरह की कटौती नहीं की जाएगी। ऐसे में यदि जल निगम जांच पर आने वाला खर्च नहीं देगा तो उसकी कटौती करना आसान नहीं है। ज्ञात हो कि नगर आयुक्त ने यह कहा था कि यदि जल निगम पैसा नहीं जमा करेगा तो किस्त से कटौती कर ली जाएगी।
बिना भुगतान आईईटी नहीं करेगी जांच ः आईईटी लखनऊ ने पहले ही साफ कर दिया है कि वह जांच के लिए नमूने लेने काम तभी शुरू करेगा जब उसकी फीस जमा कर दी जाएगी। बिना फीस जमा किए नमूने लेने का काम उसके द्वारा किया जाना सम्भव नहीं है। वहीं दूसरी ओर जल निगम ने न तो अब तक उन स्थानों की सूची बनाई है जहां से नमूने लिए जाने हैं और न ही जांच पर आने वाला खर्च जमा किया है। जबकि नगर निगम इसको लेकर करीब एक महीने पहले पत्र भेज चुका है।

Recommended

UP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।
UP Board 2019

UP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019
ज्योतिष समाधान

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
लोकसभा चुनाव - किस सीट पर बदले समीकरण, कहां है दल बदल की सुगबुगाहट, राहुल गाँधी से लेकर नरेंद्र मोदी तक रैलियों का रेला, बयानों की बाढ़, मुद्दों की पड़ताल, लोकसभा चुनाव 2019 से जुड़े हर लाइव अपडेट के लिए पड़ते रहे अमर उजाला चुनाव समाचार।
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Lucknow

हाईकोर्ट का आदेश, राहुल गांधी की नागरिकता पर छह माह में फैसला करे केंद्र सरकार

हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी की नागरिकता का मुद्दा उठाने वाली एक याचिका पर केंद्र सरकार को छह माह में प्रकरण निस्तारित करने के निर्देश दिए हैं।

19 अप्रैल 2019

विज्ञापन

बुलंदशहर से भाजपा प्रत्याशी भोला सिंह पर चुनाव आयोग सख्त, नोटिस जारी करके मांगा जवाब

बुलंदशहर से भाजपा प्रत्याशी डॉ भोला सिंह को बूथ के अंदर जाकर वोट मांगना भारी पड़ गया। भाजपा प्रत्याशी के बूथ के अंदर जाकर वोट मांगने के कुछ वीडियो वायरल हो रहे थे। जिसके बाद उन्हे नोटिस जारी करके जवाब मांगा गया है।

18 अप्रैल 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election