हाईवे पर हादसे रोकने की कवायद शुरू

अमर उजाला ब्यूरो, उन्नाव Updated Thu, 27 Sep 2018 12:33 AM IST
विज्ञापन
लखनऊ-कानपुर हाईवे को चौड़ा करने के लिए लगाई जा रही इंटरलॉकिंग ब्रिक।
लखनऊ-कानपुर हाईवे को चौड़ा करने के लिए लगाई जा रही इंटरलॉकिंग ब्रिक। - फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

हाईवे पर लगातार हो रहे सड़क हादसों को रोकने के लिए एनएचआई ने 11.2 करोड़ रुपये खर्च कर एक्सीडेंटल पॉइंट खत्म करने का काम शुरू किया है। पार्किंग और मोड़ वाले स्थानों पर इंटरलॉकिंग का काम शुरू हो गया है। डिवाइडर तोड़कर बनाए गए अवैध कट भी बंद कराए जा रहे हैं। रोड साइन, सेफ्टी ग्रिल, सोडियम लाइट और चौराहों पर हाईमास्ट लाइटें भी लगेंगी। एनएचआई दो महीने में काम पूरा कर लेने का दावा कर रहा है।
विज्ञापन


लखनऊ-कानपुर हाईवे पर हो रहे सड़क हादसों और जाम से निपटने के लिए एनएचएआई ने काम शुरु कर दिया है। जाजमऊ गंगापुल से बनी स्थित सई नदी पुल तक 36 जगह इंटरलॉकिंग लगाकर सड़क की चौड़ाई बढ़ाई जाएगी। यह वह स्थान हैं जहां मोड़ हैं या वाहनों की पार्किंग होती है। साथ ही शार्टकट के लिए बार-बार डिवाइडर तोड़ने की समस्या से हमेशा के लिए निपटने के लिए लोहे की ग्रिल लगाई जाएंगी। 25 स्थानों पर लोहे के बैरियर (मैटल कैच बैरियर) लगेंगे। सर्विस रोड के  पास स्पीड ब्रेकर बनेंगे। गदनखेड़ा व आजाद मार्ग चौराहा, उन्नाव बाइपास पर रेलवे ओवरब्रिज के आसपास हाईमास्ट और सोलर लाइटें लगेंगी। चौराहों पर सोलर लाइट व संकेतक लगेंगे। रेडियम मार्ग संकेतक और साइन बोर्ड लगाए जाएंगे।
दो महीने में पूरा हो जाएगा काम
लखनऊ-कानपुर हाईवे पर सड़क हादसों और जाम की समस्या के लिए तय कार्ययोजना के तहत काम शुरू कराया गया है। बारिश के कारण काम देर से शुरू हो पाया है लेकिन दो महीने के भीतर ही काम पूरा कर लिया जाएगा।
 शैलेंद्र सिंह, इंजीनियर एनएचएआई

हाईवे पार्किंग पर कटेगा चालान
हाईवे पर गलत तरीके से वाहन पार्किंग पर पुलिस सख्त कार्रवाई करेगी। सीओ ट्रैफिक स्वतंत्र कुमार सिंह ने बताया कि हाईवे पर गलत पार्किंग अक्सर हादसों का कारण बनती है। अब सख्त कार्रवाई की जाएगी। गलत पार्किंग पाए जाने पर वाहन को सीज किया जाएगा। हाईवे किनारे स्थित होटलों और ढाबों के सामने अतिक्रमण और वाहनों की पार्किंग पर भी सख्त कदम उठाएगा। इसके लिए हाईवे और सर्विस रोड के बीच छोटे डिवाइडर बनाए जाएंगे।


इस साल सड़क हादसों में 406 लोगों की मौत
जिले में इस साल हुए सड़क हादसों में 406 लोगों की मौत हुई जबकि 684 लोग घायल हुए हैं। इनमें 82 लोग दिव्यांग हो चुके हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X
  • Downloads

Follow Us